Tuesday, June 25, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutअब विवि में छात्राओं को मिलेगी ई-रिक्शा की सुविधा

अब विवि में छात्राओं को मिलेगी ई-रिक्शा की सुविधा

- Advertisement -
  • वृद्ध और विकलांग भी उठा सकेंगे ई-रिक्शा का लाभ

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: महिलाओं और लड़कियों को विश्वविद्यालय में यदि कोई काम है और उनके पास कोई वाहन नहीं है तो उनको पैदल जाने की कोई जरूरत नहीं है। क्योंकि अब उनको विश्वविद्यालय के जिस भी विभाग में जाना है तो विश्वविद्यालय ई-रिक्शा से गंतव्य तक पहुंचाएगा। विश्वविद्यालय ने महिलाओं, लड़कियों, वृद्ध और विकलांग के लिए ई रिक्शा सुविधा शुरू की है।

बुधवार को चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. संगीता शुक्ला ने ई-रिक्शा का शुभारंभ किया। यह ई-रिक्शा प्रतिदिन सुबह 10 बजे से शाम पांच बजे तक विश्वविद्यालय के गेट पर खड़ा रहेगा। यह ई-रिक्शा महिलाओं, लड़कियों, वृद्ध और विकलांग को चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के गेट से विश्वविद्यालय के जिस भी विभाग में कार्य है। उस विभाग तक पहुंचाएगा।

कुलपति ने चलाया ई-रिक्शा

कुलपति प्रो. संगीता शुक्ला ने उदघाटन करने के बाद ई-रिक्शा को स्वयं चलाया। कुलपति ने मुख्य द्वार से राजा महेंद्र प्रताप पुस्तकालय तक और पुस्तकालय से गेट तक ई रिक्शा चलाया। इसके बाद कुलसचिव धीरेंद्र कुमार ने स्वयं ई-रिक्शा चलाते हुए विश्वविद्यालय का एक राउंड लगाया।

जल्द आएगा एक और ई-रिक्शा

कुलपति प्रो. संगीता शुक्ला एक और ई-रिक्शा को खरीदने के आदेश दिए। निर्देश दिए कि दोनो ई-रिक्शा विश्वविद्यालय के गेट पर सुबह 10 बजे से सांयकाल तक खडे रहेंगे। महिलाओं, लडकियों, वृद्ध और विकलांग यदि कोई आता है तो विश्वविद्यालय में जहां भी उनको जाना है वहां पर छोडकर वापस विश्वविद्यालय के गेट पर आकर खडा होगा।

सोलर से चार्ज होगा ई-रिक्शा

विश्वविद्यालय पर जिस ई-रिक्शा का शुभारंभ किया है उसको चार्ज करने के लिए ई-रिक्शा पर ही सोलर पैनल लगाया गया है। उसी सोलर पैनल से वह चार्ज होगा। इसके अलावा बिजली से भी वह चार्ज हो जाएगा। इस दौरान प्रो. विघनेश कुमार त्यागी, इंजीनियर मनीष मिश्रा, मितेंद्र गुप्ता, इंजीनियर विकास त्यागी, इंजीनियर मनोज कुमार आदि मौजूद रहे।

पावरलूम उद्योग को भी सौर ऊर्जा योजना में मिलेगी सब्सिडी

मेरठ: बुधवार को मेरठ वस्त्र निर्माता एसोसिएशन के तत्वावधान में मुख्यमंत्री सौर ऊर्जा योजना और उत्तर प्रदेश वस्त्र एवं गारमेंटिंग नीति-2022 के प्रति जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। मेट्रो प्लाजा स्थित मारवाड़ी भोज के सभागार में आयोजित इस शिविर के दौरान मुख्यमंत्री सौर ऊर्जा योजना के अंतर्गत पांच किलो वाट से 25 किलो वाट तक पावरलूम विद्युत संयोजनों के लिए 50 प्रतिशत तक अनुदान तथा अनुसूचित जाति जनजाति के लिए 75 प्रतिशत अनुदान निर्धारित करने के बारे में जानकारी दी गई।

अधिकारियों ने अवगत कराया कि यह योजना बैटरी के साथ यानी आॅफ ग्रिड प्रणाली सहित भी मान्य होगी। इसके लिए पावरलूम बुनकरों उद्यमियों को योजना का लाभ लेने के लिए प्रेरित किया गया। इसके अलावा मेरठ जनपद के लिए ज्यादा से ज्यादा निवेश आकर्षित करने के लिए भी उद्यमियों को प्रेरित किया गया। साथ ही उत्तर प्रदेश वस्त्र नीति-2022 के प्रावधानों और सब्सिडी आदि के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई।

इस अवसर पर मेरठ वस्त्र निर्माता एसोसिएशन के अध्यक्ष मदन लाल अरोड़ा, पंकज जैन, कमल बंसल समेत काफी संख्या में उद्यमी शामिल हुए। अधिकारियों में परिक्षेत्रीय सहायक आयुक्त हथकरघा एवं वस्त्र उद्योग मनोज कांत गर्ग, अधीक्षक नीरज सिंधु, पावरलूम निरीक्षक हसीन अहमद, यूपी नोएडा के परियोजना अधिकारी प्रमोद भूषण शर्मा आदि शामिल रहे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments