Friday, December 9, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutअब उत्तराखंड से भी जुड़े विवि की फर्जी डिग्री के तार

अब उत्तराखंड से भी जुड़े विवि की फर्जी डिग्री के तार

- Advertisement -
  • जनवरी से अब तक अलग-अलग राज्यों से आर्इं 792 डिग्री जांच के बाद निकल चुकी है फर्जी
  • विवि में उत्तराखंड से जांच के लिए आई डिग्रियों में से 35 निकली फर्जी
  • सीसीएसयू के नाम से खुलेआम बिक रही फर्जी डिग्रियां

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: चौधरी चरण सिंह विवि के नाम पर फर्जी डिग्री व मार्कशीट बनाने का खेल वैसे तो लंबे समय से चल रहा हैं, जिसमें गुजरात, बिहार, पंजाब, राजस्थान आदि राज्यों में सबसे ज्यादा विवि के नाम की डिग्री फर्जी पाई जा रही थी। जिनका खुलासा विवि के विजिलेंस विभाग में जांच के लिए आने के बाद होता है। मगर गौर करने वाली बात यह है कि अब इसमें उत्तराखंड का नाम भी जुड़ गया है। हाल ही में वहां से विजिलेंस जांच के लिए आई 35 से अधिक डिग्री फर्जी पाई गई है।

बता दें कि यह किसी भी विवि के लिए गंभीर विषय है कि जालसाज लोग विवि का नाम लेकर पैसा कमाने में लगे हुए है। जी हां! हम बात कर रहे है चौधरी चरण सिंह विवि की जहां आजकल विवि के नाम का इस्तेमाल कर लोग फर्जीवाड़ा करने में लगे हुए है। मगर गौर करने वाली बात यह है कि बार-बार सीसीएसयू विवि का नाम ही क्यों फर्जी मार्कशीट के मामले में उठाया जा रहा है।

ऐसे में लग रहा है कि कही न कही तो विवि स्तर पर गड़बड़ी चल रही हैं, जिसका अंदाजा विवि के अधिकारियों तक को नहीं है। विवि के नाम पर फर्जी डिग्री और मार्कशीट का खेल इस समय जोरों पर चल रहा है। जिसको लेकर विवि में विभिन्न राज्यों की पुलिस लगातार संपर्क कर रही है। बताया जा रहा है कि फर्जी डिग्री के मामले को लेकर यहां कुछ पुलिस भी दबे पांव आकर जांच करवा रही है। सत्यापन के बाद ही सामने आ रहा है कि ये डिग्री व मार्कशीट वास्तव में फर्जी है। यह खेल यूपी नहीं अन्य राज्यों में किया जा रहा है।

जिसमें सीसीएसयू के नाम से फर्जी डॉक्यूमेंट 40 से 50 हजार रुपये तक बेचे जा रहे है। एक माह पहले भी विवि में एक बड़ा मामला सामने आया। जिसमें गुजरात पुलिस विवि परिसर पहुंची और फर्जी डिग्री का सत्यापन कराया। हालांकि इससे पहले भी पंजाब और बिहार पुलिस की ओर से फर्जी डिग्रियों का सत्यापन कराया जा चुका है। ऐसे में फर्जी डिग्री के नेटवर्क का खुलासा धीरे-धीरे हो रहा है।

राजस्थान से भी आ रही शिकायतें

सूत्रों की माने तो राजस्थान के सेंटरों को लेकर भी ट्रैकिंग चल रही है, जिसमें पता लगाया गया है कि इन सेंटरों पर राजस्थान व आंध्र प्रदेश ने 142 मार्कशीट पकड़ी है। जहां सीसीएसयू के नाम पर ली गई मार्कशीट का छात्र खुद सत्यापन करा रहे थे। इसका खुलासा विवि स्तर पर जांच करने के बाद हुआ है।

कही कोड तो कही नाम गलत

विवि में चल रहे डिग्री व मार्कशीट के सत्यापन में पता चल रहा है कि फर्जी मार्कशीट में कही नाम गलत है तो कही कोड। इतना ही नहीं कही तो मार्कशीट के कलर में भी हल्का-सा फर्क कर रखा है। कोड के एक नंबर में दिक्कत है तो कही नाम के साइज व फोटो के साइज में अंतर है। हालांकि विवि स्तर पर अंदर खाने इसकी जांच की जा रही है।

फैला रखा है मकड़जाल

विवि के नाम पर फर्जी मार्कशीट देने और छात्र-छात्राओं को पास कराने का यह खेल बिहार, गुजरात, पश्चिमी बंगाल जैसे राज्यों में चल रहा है। छात्र-छात्राओं को दी गई मार्कशीट पर गलत ढंग से सत्यापन कराने के लिए एनसीआर में नेटवर्क भी सक्रिय है। यह नेटवर्क इन राज्यों से आ रही मार्कशीट का विवि में आकर सत्यापन का काम कराता है।

हाल में ही विवि रजिस्ट्रार एवं विजिलेंस अधिकारी के नाम पर फर्जी सत्यापन रिपोर्ट बनाकर एंबेसी भेजी गई, लेकिन पता गलत होने से यह विवि में वापस पहुंच गई। जांच के बाद पता चला कि यह रिपोर्ट गलत ढंग से तैयार की गई थी। एनसीआर में काम कर रही एजेंसी भी छात्र-छात्राओं से सत्यापन के लिए सीधे संपर्क कर रही है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
3
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments