Monday, June 17, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutपुरातन छात्रों ने विवि पहुंच की पुरानी यादें ताजा

पुरातन छात्रों ने विवि पहुंच की पुरानी यादें ताजा

- Advertisement -

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: चौधरी चरण सिंह विवि के बृहस्पति भवन में रविवार को पुरातन छात्र सम्मेलन का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में 100 से अधिक पुरातन छात्रों ने भाग लेकर अपनी पुरानी यादें फिर से ताजा की। कार्यक्रम का शुभारंभ विवि कुलपति प्रो.एनके तनेजा ने मां सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप जलाकर किया।

उसके पश्चात प्रो. वीरपाल सिंह कुलानुशासक ने सभी पुरातन छात्र-छात्राओं का स्वागत कर कार्यक्रम की रूपरेखा प्रस्तुत की। वहीं उन्होंने सभी को एलुमनाई मीट की महत्वता पर प्रकाश डाला और पिछले 30-40 वर्षों में विवि द्वारा किए गए कार्यों की जानकारी पुरातन छात्रों को दी। वहीं उन्होंने विवि के विस्तार के बारे में भी सभी को बताया।

एलुमनाई एसोसिएशन के द्वारा किसी भी संस्थान की शैक्षिणक गुणवत्ता एवं विकास कार्यों को सुदृढ़ किया जा सकता है। विवि कुलपति प्रो. एनके तनेजा ने इस कार्यक्रम के आयोजन पर सभी को बधाई देते हुए कहा कि विवि के पुरातन छात्र आज देश ही नहीं विश्वभर में फैले हैं और विभिन्न क्षेत्रों में विवि का नाम रोशन कर रहे हैं।

उन्होंने ऐसे कार्यक्रमों को वर्तमान में अध्यनरत छात्रों के साथ करने का सुझाव भी दिया। दूसरे सत्र में सभी पुरातन छात्रों ने मंच साझा करते हुए अपना परिचय देने के बाद अपने समय के संस्मरण सुनाए। कुछ पुरातन छात्रों ने देश व विदेश के विभिन्न कोने से कार्यक्रम में ऑनलाइन  भी जुड़े रहे।

कार्यक्रम में भाग लेने के पश्चात सभी पुरातन छात्रों ने कविता पाठ और विभिन्न कार्यक्रम प्रस्तुत कर कार्यक्रम में धमाल मचाया। वहीं, कार्यक्रम के बाद छात्र-छात्राओं ने विवि का भ्रमण किया और अपनी कक्षाओं में जाकर वहां की सुनहरी यादों को ताजा भी किया। इस दौरान सभी पुरातन छात्र अपनी पुराने यादों में खोए नजर आए।

समापन पर प्रो. वीरपाल सिंह ने पूरे कार्यक्रम का सारंश प्रस्तुत करते हुए बताया कि विवि जल्द ही एलुमनाई एसोसिएशन का विधिवत रूप से गठन करेगा और पुरातन छात्रों के माध्यम से विवि की शैक्षिणक एवं सामाजिक गतिविधियों को गति देगा। धन्यवाद ज्ञापन डा. योगेश द्वारा प्रस्तुत किया गया।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments