Monday, July 26, 2021
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutपहले दिन ही सीएम के आदेश की उड़ी धज्जियां

पहले दिन ही सीएम के आदेश की उड़ी धज्जियां

- Advertisement -
  • 10 हजार टेस्टिंग के बजाय 8761 टेस्टिंग ही हुई
  • 394 संक्रमित और नौ कोरोना मरीजों की हुई मौत

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: कोरोना को लेकर सरकारी तौर पर आंकड़ों का खेल होने लगा है। एक तरफ प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कहना है कि प्रतिदिन 10 हजार लोगों की टेस्टिंग की जाए, लेकिन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी पहले ही दिन मुख्यमंत्री के आदेश की धज्जियां उड़ाने में लग गए। शनिवार को जारी रिपोर्ट में कहा गया कि 8761 लोगो की टेस्टिंग में 394 संक्रमित पाए गए और नौ मरीजों की मौत हो गई।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. अखिलेश मोहन ने बताया कि आज 8761 लोगों की टेस्टिंग कराई गई थी। जिसमें 394 संक्रमित निकले और नौ लोगों की मौत हुई है। रिपोर्ट में कहा गया है कोरोना से अब तक 61900 लोग संक्रमित हो चुके है और 670 लोगो की मौत हो चुकी है। इस वक़्त 3275 लोग घर में रहकर इलाज करा रहे हैं।

वही 6090 लोग एक्टिव केस है। उन्होंने बताया कि कोरोना को हरा कर 785 लोग घर आ चुके हैं। मुख्यमंत्री का कहना है कि अगर टेस्टिंग रोज 10 हजार होंगी तो कोरोना के संक्रमण का ज्यादा पता लगेगा। मई के पहले सप्ताह में 12 हजार लोगों की एक दिन में टेस्टिंग हुई है, लेकिन एक सप्ताह से न केवल टेस्टिंग कम हो रही है बल्कि संक्रमितों की संख्या भी 400 से कम दर्शाई जा रही है ताकि अधिकारी पूरे प्रदेश में कोरोना नियंत्रण का दावा करके वाहवाही लूट सकें।

ब्लैक फंगस से 93 संक्रमित, नौ की मौत

ब्लैक फंगस का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है। शनिवार तक मेडिकल कालेज समेत तमाम अस्पतालों में ब्लैक फंगस के 93 मरीज भर्ती हैं और 9 मरीजों की मौत हो चुकी है। वहीं ब्लैक फंगस की दवा न मिलने से प्राइवेट अस्पतालों में भर्ती लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

जिला सर्विलांस अधिकारी ने बताया कि ब्लैक फंगस से मेडिकल कालेज में आज पांच नये मरीज भर्ती किये गए। अब तक यहां पर 56 मरीज भर्ती हो चुके हैं। अभी यहां पर 34 मरीजों का इलाज चल रहा है। आनंद अस्पताल में 14, न्यूटिमा अस्पताल में 8, किडनी अस्पताल में 5, लोकप्रिय अस्पताल में 6, केएमसी अस्पताल में 3, होप अस्पताल में 1, साई अस्पताल में 1 और सुभारती अस्पताल में एक मरीज भर्ती है। जहां तक आज की बात है तो विभिन्न अस्पतालों में 29 मरीज भर्ती हुए है। अब तक मेडिकल कालेज में 6, न्यूटिमा अस्पताल में दो और लोकप्रिय अस्पताल में एक मरीज की मौत हो चुकी है।

प्राइवेट अस्पतालों को मिले दवा

जिला मेरठ केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष नरेश चन्द्र गुप्ता और महामंत्री रजनीश कौशल ने जनप्रतिनिधियों सांसद राजेन्द्र अग्रवाल, डा. सोमेन्द्र तोमर, सत्य प्रकाश अग्रवाल आदि से वार्ता कर मांग की कि ब्लैक फंगस की दवाएं सरकार मेडिकल कालेज को दे रही है।

इससे प्राइवेट अस्पतालों में भर्ती मरीजों के इलाज में दिक्कत आ रही है। ऐसे में सरकार से 50 फीसदी दवा सरकारी अस्पतालों और 50 फीसदी दवा प्राइवेट अस्पतालों में दिलवाने की व्यवस्था की जाए। एक अन्य मांग यह है कि हरियाणा सरकार की तर्ज पर प्राइवेट अस्पतालों को अपने नियंत्रण में लेकर सरकारी रेट पर मरीजों का इलाज कराए ताकि आए दिन महंगे बिलों को लेकर मरीजों के बवाल से बचा जा सके।

अस्पतालों में मांगे जा रहे ब्लैक फंगस के इंजेक्शन

कोरोना संक्रमण के पश्चात ब्लैक फंगस भी स्वास्थ्य विभाग के लिए बड़ी चुनौती के रूप में उभरा है। क्योंकि ब्लैक फंगस के मामले भी तेजी से देखने को मिल रहे हैं। मेरठ की बात की जाए तो गत 20 दिन में 100 से ज्यादा के अब तक ब्लैक फंगस के केस सामने आ चुके हैं। जोकि सरकारी आंकड़ों के अनुसार हैं। वहीं, दूसरी ओर प्राइवेट अस्पतालों में भी हर रोज ब्लैक फंगस के इंजेक्शन के लिए तीमारदारों को कहा जा रहा है ताकि मरीजों की जान बचाई जा सके, लेकिन बाजार में ब्लैक फंगस का इंजेक्शन उपलब्ध न होने के कारण तीमारदारों को अनेकों प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

इतना ही नहीं एक इंजेक्शन की बात हो तो तीमारदार कहीं से व्यवस्था कर ले लेकिन एक मरीज के प्रत्येक दिन चार से पांच इंजेक्शन लगाए जाते हैं। शासन द्वारा ब्लैक फंगस के इंजेक्शन अधिकारियों एवं मेडिकल को उपलब्ध कराए गए, लेकिन मेडिकल में भी तीव्र गति से मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए इंजेक्शन का इंतजाम करा पाए।

वहीं दूसरी ओर एक सवाल भी उठता है कि जब हर रोज जिला सर्विलेंस टीम द्वारा ब्लैक फंगस के आंकड़ों को एकत्रित किया जा रहा है तो जिन अस्पतालों द्वारा ब्लैक फंगस की सूची उपलब्ध नहीं कराई जा रही, उन अस्पतालों द्वारा आखिर क्यों तीमारदारों से ब्लैक फंगस के इंजेक्शन मंगवाए जा रहे।


What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments