Monday, June 27, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh Newsलखनऊहमारी सरकार ने बिना किसी भेदभाव के भर्तियां की हैं: स्वतंत्र देव

हमारी सरकार ने बिना किसी भेदभाव के भर्तियां की हैं: स्वतंत्र देव

- Advertisement -
  • कहा, सरकार में दलितों, शोषितों, वंचितों, आदिवासियों, वनवासियों, पिछड़ों के हित सुरक्षित

जनवाणी ब्यूरो |

लखनऊ: शून्य प्रहर में समाजवादी पार्टी के संजय लाठर, राजपाल कश्यप, लाल बिहारी यादव एवं अन्य सदस्यों ने प्रदेश में बेरोजगारों को रोजगार दिलाये जाने का मामला कार्य स्थगन के रूप में उठाया। सूचना की ग्राहय्ता पर सपा के अशुतोष सिन्हा, राजपाल कश्यप एवं संजय लाठर  ने कहा कि सरकार के आंकड़ों गे अनुसार विभिन्न विभागों में हजारों भर्तियां रिक्त हैं और सरकार भर्ती नहीं कर रही है। जो भर्तियां हुयी भी हैं, उनमें से भी कई भर्तियों को रद्द किया जा चुका है।

नेता सदन एवं जलशक्ति मंत्री स्वतन्त्रदेव सिंह ने विभिन्न विभागों में की गयी भर्तियों का आंकड़ा देते हुए कहा कि हमने बहुत लोगों को रोजगार दिया है। हमारी सरकार ने बिना किसी भेदभाव के भर्तियां की हैं। पूरी ईमानदारी से भर्तियां हुयी हैं। किसी भी भाजपा नेता ने कोई सूची नहीं भेजी है। उन्होंने बताया कि सरकार ने 7 लाख 49 हजार 132 लोगों को सरकारी नौकरी दी है।

बसपा के अतर सिंह राव, भीमराव अम्बेडकर एवं दिनेश चन्द्रा ने इटावा में  बीती 18 मई को सुबह 05 बजे फ्रेण्ड्स कालोनी निवासी सुनील कुमार दोहरे पुत्र सरमनलाल की कार से कुचलकर हत्या करने वालों के विरूद्ध कानूनी कार्यवाही किये जाने का मामला कार्य स्थगन के रूप में उठाया। सूचना की ग्राहय्ता पर अतर सिंह राव, भीमराव अम्बेडकर एवं दिनेश चन्द्रा ने विचार व्यक्त किये। नेता सदन ने कहा कोई भी दोषी बख्शा नहीं जायेगा। जो भी दोषी होगा उसे हर हाल में सजा मिलेगी। हमारी सरकार में दलितों, शोषितों, वंचितों, आदिवासियों, वनवासियों, पिछड़ों के हित सुरक्षित रहेंगे। मोदी-योगी सरकार कानून व्यवस्था के मामले में कोई समझौता नहीं करेगी।

कांग्रेस के दीपक सिंह ने प्रदेश के गरीब बच्चों को छात्रवृत्ति दिलाये जाने के का मामला कार्य स्थगन के रूप में उठाया। श्री सिंह ने कहा कि मोडरेशन शिक्षा नीति से बच्चों एवं उनके परिजनों को धोखा दिया जा रहा है। गरीब बच्चों एवं उनके परिजनों के साथ धोखा किया जा रहा है। प्रदेश के गरीब बच्चों को पढ़ाई के लिए छात्रवृत्ति बड़ा सहारा होती है। लम्बे समय से छात्रवृत्ति न देकर उन्हें पढ़ाई से वंचित किया जा रहा है। लाखों बच्चों की छात्रवृत्ति सरकार ने रोक रखी है जिसके कारण बच्चों का भविष्य अंधकारमय हो गया है।

नेता सदन ने जबाव देते हुए कहा कि सभी को छात्रवृत्ति मिलती है। यह प्रक्रियाधीन है, 11 लाख छात्रों में से 40 प्रतिशत को भुगतान कराया जा चुका है। इसमें राज्य सरकार ने अपने अंश से भुगतान कराया है शेष धनराशि केन्द्र सरकार का अंश होता है उसके लिए पत्र भेजा जा चुका है। धनराशि प्राप्त होते ही भुगतान हो जायेगा। दीपक सिंह ने कहा कि हम चाहते है कि समय पर छात्रवृत्ति मिले और बच्चे सफर न करें।

शिक्षक दल के सुरेश कुमार त्रिपाठी एवं ध्रुव कुमार त्रिपाठी ने प्रदेश के सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों में 01 अप्रैल, 2005 के बाद नियुक्त शिक्षकों एवं कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना का लाभ दिलाये जाने का मामला कार्य स्थगन के रूप में उठाते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में पुरानी पेंशन योजना लागू है। वैसे ही यहां भी लागू किया जाये।

निर्दलीय समूह के राजबहादुर सिंह चन्देल एवं आकाश अग्रवाल ने प्रदेश के वित्तविहीन विद्यालयों के शिक्षकों एवं कर्मचारियों की सेवा शर्तें निर्धारित करने एवं विनियमित करने के साथ शिक्षकों को 15000 रूपये प्रतिमाह आरटीजीएस के माध्यम से सीधे उनके खाते में भेजे जाने का मामला कार्य स्थगन के रूप में उठाया। सपा के नरेश चन्द्र उत्तम, मान सिंह यादव एवं आशुुतोष सिन्हा ने सरकार की गलत नीतियों के कारण माध्यमिक शिक्षा का स्तर गिरने के संबंध में सूचना दी। सूचना की ग्राहय्ता पर रणविजय सिंह, लाल बिहारी सिंह यादव, मान सिंह यादव, नरेश चन्द्र उत्तम एवं नेता विरोधी दल संजय लाठर ने विचार व्यक्त किये। नेता सदन ने सदन को तथ्यों से अवगत कराया। सरकार के जवाब से असन्तुष्ट सपा के  सदस्यों ने सदन से वाकआउट किया।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments