Sunday, May 26, 2024
- Advertisement -
HomeNational News31 मई को है पांडव भीम एकादशी, यहां जानें शुभ मुहूर्त और...

31 मई को है पांडव भीम एकादशी, यहां जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि…

- Advertisement -

नमस्कार, दैनिक जनवाणी डॉट कॉम वेबसाइट पर आपका हार्दिक स्वागत और अभिनन्दन है। सनातन धर्म में निर्जला एकादशी व्रत को सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। इस बार ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की तिथि को निर्जला एकादशी मनाई जा रही है। एकादशी के दिन भगवान विष्णु की पूजा अर्चना की जाती है।

07 26

ऐसा माना जाता है कि यह व्रत सबसे कठिन और शुभफलदायी है। इस एकादशी को पांडव निर्जला एकादशी, पांडव भीम एकादशी भी कहा जाता है। तो आइये जानते है मोहिनी एकादशी की पूजा विधि…

निर्जला एकादशी मुहूर्त

  • एकादशी तिथि प्रारम्भ- 30 मई को दोपहर 1:32 मिनट पर शुरू

  • एकादशी तिथि समाप्त- 31 मई को दोपहर 1:36 मिनट पर

  • निर्जला एकादशी का पारण- 01 जून को सुबह 05:24 मिनट से लेकर सुबह 08:10 मिनट तक रहेगा।

निर्जला एकादशी पूजा विधि

निर्जला एकादशी व्रत रखने के लिए सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से निवृत्त हो जाएं। घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें। भगवान विष्णु का गंगा जल से अभिषेक करें। भगवान विष्णु को पुष्प और तुलसी दल अर्पित करें। अगर संभव हो तो इस दिन व्रत भी रखें। भगवान की आरती करें। भगवान को भोग लगाएं।

पूरे दिन भगवान स्मरण-ध्यान व जाप करना चाहिए। पूरे दिन और एक रात व्रत रखने के बाद अगली सुबह सूर्योदय के बाद पूजा करके गरीबों, ब्रह्मणों को दान या भोजन कराना चाहिए। इसके बाद खुद भी भगवान का भोग लगाकर प्रसाद लेना चाहिए।

इस बात का विशेष ध्यान रखें कि भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगाया जाता है। भगवान विष्णु के भोग में तुलसी को जरूर शामिल करें। ऐसा माना जाता है कि बिना तुलसी के भगवान विष्णु भोग ग्रहण नहीं करते हैं।

09 27

निर्जला एकादशी पौराणिक कथा

पौराणिक कथा के अनुसार, महाभारत काल के समय एक बार पाण्डु पुत्र भीम ने महर्षि वेद व्यास जी से पूछा- हे परम आदरणीय मुनिवर! मेरे परिवार के सभी लोग एकादशी व्रत करते हैं और मुझे भी व्रत करने के लिए कहते हैं। लेकिन मैं भूखा नहीं रह सकता हूं अत: आप मुझे कृपा करके बताएं कि बिना उपवास किए एकादशी का फल कैसे प्राप्त किया जा सकता है।

भीम के अनुरोध पर वेद व्यास जी ने कहा- पुत्र! तुम ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष की एकादशी के दिन निर्जल व्रत करो। इस दिन अन्न और जल दोनों का त्याग करना पड़ता है। जो भी मनुष्य एकादशी तिथि के सूर्योदय से द्वादशी तिथि के सूर्योदय तक बिना पानी पीये रहता है और सच्ची श्रद्धा से निर्जला व्रत का पालन करता है, उसे साल में जितनी एकादशी आती हैं उन सब एकादशी का फल इस एक एकादशी का व्रत करने से मिल जाता है। तब भीम ने व्यास जी की आज्ञा का पालन कर निर्जला एकादशी का व्रत किया था।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments