Sunday, June 13, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsBaghpatविश्व पर्यावरण दिवस पर पौधापण कर वितरित किए पौधे

विश्व पर्यावरण दिवस पर पौधापण कर वितरित किए पौधे

- Advertisement -
0

जनवाणी संवाददाता |

बागपत/खेकड़ा: विश्व पर्यावरण दिवस पर संघ द्वारा आयोजित किए जाने वाले हवन व पौधरोपण कार्यक्रम के लिए शुक्रवार को स्वंयसेवकों ने क्षेत्र के गांवों में पौधे वितरित किए। पौधे वितरित कर ग्रामीणों को पर्यावरण प्रदूषण के प्रति जागरूक किया। वहीें अन्य कई स्थानों पर पौधारोपण कर पौधे भी वितरित किए।

पांच जून को विश्व पर्यावरण दिवस है। विश्व पर्यावरण दिवस पर लोगों में पर्यावरण के प्रति जागरूकता उतपन्न करने के लिए संघ द्वारा देश भर में हवन व पौधरोपण करने का व्रत लिया है। जिसको लेकर शुक्रवार को संघ के स्वयं सेवकों ने क्षेत्र के गांवों में घर घर जाकर पौधे वितिरत किए।

बालचंद्र ने कहा कि वर्तमान में पर्यावरण की स्थिति बहुत गंभीर है। पर्यावरण में आॅक्सीजन का लेवल निरंतर नीचे गिरता जा रहा है। वन विभाग द्वारा प्रत्येक वर्ष लाखों पौधे लगाए जाते है, लेकिन उनमे से ज्यादातर देखभाल व जागरूकता के अभाव में सूख जाते है। कोरोना काल में संक्रमित मरीजों को आॅक्सीजन की बड़ी समस्या हुई।

जिसको देखकर संघ के स्वंयसेवकों ने वातावरण में आॅक्सीजन लेवल बढ़ाने के लिए हवन व पौधा रोपण का व्रत लिया गया। 5 जून से 11 जून तक चलने वाले इस कार्यक्रम में प्रथम दिन हवन किया जायेगा। उसके बाद पौधे लगाए जायेंगे। हर घर से एक व्यक्ति पौधरोपण कर उसकी देखभाल करें। इसके लिए ग्रामीणों को जागरूक किया जा रहा है।

इस अवसर पर चेतन चंदेला, मोनू त्यागी, निशान्त अग्रवाल, अमित झा, सन्नी गुप्ता, मनोज धामा, अनुज धामा आदि मौजूद रहे। उधर, बागपत और बड़ौत सहित क्षेत्र के विभिन्न स्थानों पत्रकार सहित अन्य प्रबुद्ध व्यक्तियों को विश्व पर्यावरण दिवस की पूर्व संध्या पर आंखें द्वारा अन्तराष्ट्रीय स्तर पर चलाये जा रहे पौधारोपण अभियान के तहत समाजसेवी आरआरडी उपाध्याय, राकेश सरोहा ने पर्यावरण के प्रति लोगों को जागरूक करते हुए, पीपल, बरगद, गुड़हल, चांदनी, स्केनपाम, पीलखन, सिल्वर आॅफ, मधुमालती आदि प्रजापति के 51 पौधों का रोपण व वितरण किया।

कहा पौधा रोपण हमारी औपचारिकता ही नहीं हमारी आवश्यकता भी है। पौधें धरती का आभूषण होने के साथ हमारे जीवन का आधार भी है। मास्टर राकेश सरोहा ने कहा पौधा रोपण जितना महत्वपूर्ण है उतना ही महत्वपूर्ण धुम्रपान छोड़ना भी है क्योंकि धुम्रपान से पर्यावरण तो प्रदुषित होता ही है। इस अवसर पर भेयादास महक, राजबीर उपाध्याय, विनय कुमार आर्य, भारत आर्य, अनिल कुमार, विपिन, शुभम आदि उपस्थित रहे।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments