Saturday, June 15, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutगरीब की झोपड़ी का लाखों का बिल

गरीब की झोपड़ी का लाखों का बिल

- Advertisement -
  • वो भी कामर्शियल, गर्दन फंसने के डर से अटकायी जा रही हैं जांच
  • चीफ ने तीन दिन के भीतर तलब की बिल की जांच रिपोर्ट

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: शहरी चकाचौंध से दूर गांव देहात में रहने वाले एक गरीब की अंधियारी झोपड़ी का पीवीवीएनएल अफसरों ने लाखों का बिल तो भेजा ही साथ ही और भी बड़ी कारगुजारी दिखाते हुए बिल कामर्शियल में भेजा गया है। सूबे के ऊर्जा राज्यमंत्री के गृह जनपद में यदि पीवीवीएनएल अफसरों का यह हाल है तो अन्य जिलों में पीवीवीएनएल अफसर गरीबों को कैसे-कैसे झटके दे रहे होंगे,

इसको आसानी से समझा जा सकता है। वहीं, दूसरी ओर माना जा रहा है कि रेवेन्यू जेनरेट करने की चूहा दौड़ में लगे पीवीवीएनएल अफसर की आंखों पर बेख्याली का ऐसा चश्मा चढ़ा कि उन्हें गरीब की झोपड़ी नजर नहीं आयी जिसका कामर्शियल में बिल भेज दिया गया। अब इसको गरीब की बदकिस्मती कहें या फिर पीवीवीएनएल अफसरों की बड़ी चूक है!

ये पूरा मामला

ललियाना में कमर जहां पुत्र इरशाद निवासी ग्राम ललियाना पोस्ट खास जनपद मेरठ में शहरी चकाचौंध से दूर एक झोपड़ीनुमा रिहायश बनाकर रहते थे। झोपड़ी में कितनी बिजली जलती होगी, यह आसानी से समझा जा सकता है, लेकिन यह बात शायद पीवीवीएनएल के उन अफसरों को समझ नहीं आयी शायद जिन्होंने गरीब की झोपड़ी का लाखों मसलन करीब पौने तीन लाख का बिल बना कर रिकबरी के लिए कमरजहां के लिए महकमे की पूरी फौज भेज दी।

14 साल पहले कट चुका है। कनेक्शन पीवीवीएनएल के मुख्य अभियंता (वितरण) को भेजे फरियादी पत्र में पीड़ित कमरजहां ने बताया कि हुजूर करीब पहले जहां वह ललियाना में रहता था उसका बिजली कनेक्शन तो 14 साल पहले ही कट गया था।

18 24

इसके साक्ष्य के रूप में उसने अपना एकाउंट आईडी संख्या 771700380149 भी अर्जी के संग चीफ को भेजा ताकि सनद रहे और जांच में भी आसानी रहे। उसने बताया कि महकमे में उसके कनेक्शन को पीडी नहीं किया था और 14 साल बाद साल 2021 में अचानक उसको 2,74,399/- रुपये का नोटिस थमा दिया गया।

शिकायत पर बढ़ा दी रकम

करीब पौने तीन लाख का भारी भरकम बिल का नोटिस मिलने पर डरा सहमा पीड़ित जब महकमे के अफसरों के दर दौड़ा तो बजाय अपनी गलती को सुधारने के उल्टे उक्त रकम को बढ़ाकर 3,05,113/- रुपये कर दी गयी। हद तो तब हो गयी जब झोपड़ी के घरेलू कनेक्शन को पीवीवीएनएल के आंख मूंद कर काम करने वाले अफसरों ने कामर्शियल बना डाला।

करीब कमरजहां दर्जनों बार पीवीवीएनल अफसरों की दर पर गुहार लगाने पहुंचा, लेकिन अफसरों का दिल नहीं पसीजा। अधिशासी अभियंता के कार्यालय में भी अनेक शिकायती पत्र देकर जो गलती पीवीवीएनएल अफसरों से हो गयी उसको सुधारने को कहा।

नो टेंशन, छुट्टी में जमा करा सकते हो बिल

बिजली का बिल यदि बकाया है और जमा करने का समय नहीं मिल रहा है तो उसको लेकर टेंशन लेने की कतई जरूरत नहीं है। बिजली के बिलों को जमा करने के लिए अब अवकाश के दिन भी कैश काउंटर खुले रहेंगे। पीवीवीएनएल के पीआरओ एचके सिंह ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मेरठ, 21 अक्टूबर 2023। पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि. के कार्य क्षेत्र के अन्तर्गत आने वाले समस्त 14 जनपद मेरठ, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर, हापुड़, बुलन्दशहर, बागपत, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, शामली, मुरादाबाद, बिजनौर, सम्भल, रामपुर एवं अमरोहा के सभी बिजलीघरों के कैश काउंटरों पर 22 व 23 अक्टूबर (रामनवमी)

एवं 24 (दशहरा) को सामान्य दिवसों की तरह खुले रहेंगे, जिससे की उपभोक्ता आसानी से अवकाश में भी अपना बिजली का बिल जमा करा सकें। इस सम्बन्ध में सभी सम्मानित उपभोक्ताओं से अनुरोध है कि बिजलीघर पहुंचकर अपने बिजली के बिल का भुगतान करें, इसके अतिरिक्त उपभोक्ता विभाग की वेबसाइट पेज पर जाकर, कनज्यूमर कार्नर के अन्तर्गत, घर बैठे बिजली बिलों का भुगतान कर सकते हैं।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments