Wednesday, February 28, 2024
Homeसंवादअयोध्या में आर्थिक विकास के राम

अयोध्या में आर्थिक विकास के राम

- Advertisement -

Nazariya


JYOTI SHIVACHअयोध्या, जो अपनी धार्मिक और सांस्कृतिक महत्ता के लिए जानी जाती है, वर्तमान में आर्थिक विकास और पर्यटन के क्षेत्र में नए आयामों को छू रही है। यह शहर, जो पहले आर्थिक पिछड़ापन का सामना कर रहा था, अब एक नए विकास के युग की ओर बढ़ रहा है। अयोध्या में श्रीराम की प्राण प्रतिष्ठा से समृद्धि की ओर एक महत्वपूर्ण कदम बढ़ा है, जो सिर्फ सांस्कृतिक धारोहर के निर्माण में ही नहीं बल्कि आर्थिक और सामाजिक उत्थान में भी योगदान करने का दृष्टिकोण रखता है। धार्मिक स्थल के रूप में अयोध्या का नया चेहरा सिर्फ मंदिर की सुंदरता में ही नहीं, बल्कि समर्पित आर्थिक विकास में भी बदलेगा। राम मंदिर निर्माण अयोध्या को एक विशेष पर्यटन स्थल बनाएगा जिससे यहां के बेरोजगारों को नौकरी के अवसर मिलेंगे और गरीब परिवारों को आर्थिक रूप से स्थिरता प्राप्त होगी। यह स्थानीय उद्यमियों के लिए भी एक नई ऊर्जा का स्रोत बनेगा जो वहां निवेश करने और अपने व्यापार को बढ़ाने के लिए प्रेरित होंगे। इस महायज्ञ से उत्पन्न होने वाला सामाजिक और आर्थिक समृद्धि का लाभ समृद्धि के साथ-साथ विकासशील भविष्य की दिशा में सारे आयोध्या क्षेत्र को प्राप्त होगा। इस रूप में, राम मंदिर निर्माण ने सामाजिक समृद्धि और आर्थिक उन्नति की ओर एक महत्वपूर्ण कदम बढ़ाया है, जिससे अयोध्या केवल धार्मिक दृष्टि से ही नहीं बल्कि आर्थिक और सामाजिक दृष्टिकोण से भी एक सशक्त नगर बनेगा।

अभी जो आंकड़े हैं वह बताते हैं कि अयोध्या के लोगों की आय उत्तर प्रदेश की औसत प्रति व्यक्ति आय से भी बहुत कम है, जिले की आधी महिलाएं एनीमिया से पीड़ित हैं, प्रति व्यक्ति बिजली खपत राष्ट्रीय औसत से भी बहुत कम है। उत्तर प्रदेश के केंद्र में स्थित अयोध्या कई जिलों से घिरा है, जैसे गोंडा, बाराबंकी, बस्ती, अंबेडकरनगर, सुल्तानपुर और अमेठी। इतिहास और परंपरा के लिहाज से तो अयोध्या समृद्ध है लेकिन सामाजिक आर्थिक मोर्चे पर इसकी कमजोर छवि उभरती है। द इंडियन एक्सप्रेस के हरिकिशन शर्मा ने अर्थशास्त्र सांख्यिकी निदेशालय के आंकड़ों के आधार पर अयोध्या का विश्लेषण किया है। अयोध्या वासियों की कमाई राष्ट्रीय औसत से तो कम है ही उत्तर प्रदेश के कई अन्य जिलों के लोग भी इसे ज्यादा कमाते हैं। वित्त वर्ष 2021-22 में अयोध्या जिले की प्रति व्यक्ति आय 56,787 रुपए थी यानी अयोध्या के लोग 1 साल में 56000 से ज्यादा कमाते हैं अब पूरे राज्य की बात करें तो उत्तर प्रदेश की प्रति व्यक्ति आय 70,792 रुपए है वहीं राष्ट्रीय औसत 92,583 रुपए है। इस प्रकार अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण न केवल एक सांस्कृतिक और धार्मिक मील का पत्थर साबित होगा, बल्कि इस क्षेत्र में अव्यक्त आर्थिक विकास को भी गति मिलेगी।

इस विशाल परियोजना ने विभिन्न चैनलों के माध्यम से आर्थिक विकास को उत्प्रेरित किया है, जिससे एक ऐसा प्रभाव पैदा हुआ है जो धार्मिक महत्व की सीमाओं से परे तक फैला हुआ है। इसका सीधा प्रभाव स्थानीय अर्थव्यवस्था पर पड़ा है।
धार्मिक उद्देश्यों के लिए अयोध्या आने वाले तीर्थयात्रियों और पर्यटकों की आमद से वस्तुओं और सेवाओं की मांग में वृद्धि हुई है। होटल, रेस्तरां और परिवहन सेवाओं सहित अन्य आतिथ्य क्षेत्रों में तेजी का अनुभव हुआ है क्योंकि पर्यटक ऐतिहासिक निर्माण को देखने के लिए उमड़ रहे हैं। मांग में इस उछाल ने न केवल रोजगार के अवसर पैदा किए हैं बल्कि स्थानीय उद्यमियों को अपने व्यवसायों में निवेश करने और विस्तार करने के लिए भी प्रोत्साहित किया है। राम मंदिर का निर्माण ने अयोध्या को एक प्राचीन शहर से आधुनिक सांस्कृतिक और आध्यात्मिक केंद्र में बदलने के लिए एक नई ऊर्जा से भरा मंच तैयार किया है।

प्रतिदिन तीन लाख से अधिक श्रद्धालुओं के शहर में आने की उम्मीद के साथ, अयोध्या के पुनर्विकास के लिए एक व्यापक योजना तैयार की गई है। यह योजना वेटिकन सिटी, कंबोडिया और जेरूसलम सहित दुनिया भर के उदाहरणों के साथ-साथ भारत के तिरूपति और अमृतसर जैसे उदाहरणों का एक शानदार समर्थन करती है। इस योजना की महत्वपूर्ण विशेषताओं में शामिल हैं- भीड़भाड़ को कम करना, कुशल भूमि उपयोग, धर्मशालाओं (सराय) और होमस्टे पर ध्यान केंद्रित करना, साथ ही शहर के ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विरासत को बनाए रखते हुए बुनियादी ढांचे को उन्नत करना। राम मंदिर की ओर जाने वाली सड़कों का चौड़ीकरण करने से यातायात में सुधार होगा, जिससे मंदिर यात्रा को सुचारू और सुरक्षित बनाए रखा जाएगा। राष्ट्रीय राजमार्गों और मुख्य सड़कों का निर्माण और चौड़ीकरण करके अयोध्या को और भी पहचान मिलेगी। नदी मोर्चों का निर्माण और पूर्व में बने घाटों का पुनर्निर्माण यातायात और पर्यटन को बढ़ावा देगा। शहर में नए आवासीय और व्यापारिक परियोजनाएं शुरू की जा रही हैं, जो स्थानीय आर्थिक विकास को बढ़ावा देगी।

इस रूपरेखा में, अयोध्या का पुनर्निर्माण एक नए दौर की शुरूआत की ओर कदम बढ़ा रहा है, जो शहर को एक विश्व-स्तरीय धार्मिक और सांस्कृतिक प्रमुख बना सकता है। राम मंदिर आर्थिक विकास के साथ सामाजिक समरसता का भी संदेश दे रहा है। राम मंदिर के लिए चयनित 24 पुजारी में से दो अनुसूचित जाति और एक पिछड़ा वर्ग से है। इन सभी को राम मंदिर के महंत मिथिलेश नंदनी शरण और महंत सत्यनारायण दास कर्मकांड और पौरोहित्य का प्रशिक्षण दे रहे हैं। यह पुजारी गुरुकुल परंपरा का पालन भी कर रहे हैं। अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा होने के साथ ही रामलाल को उनका घर मिल जाएगा तथा पुरुषोत्तम राम मंदिर से सामाजिक समरसता का संदेश भी पूरे विश्व में दिया जाएगा।


janwani address 8

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments