Saturday, May 21, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -spot_img
HomeUttar Pradesh NewsSaharanpurदूसरी लहर जैसा खरतनाक नहीं इस बार कोरोना

दूसरी लहर जैसा खरतनाक नहीं इस बार कोरोना

- Advertisement -
  • घर में रहकर उचित उपचार से ठीक हो रहे कोरोना संक्रमित : सीएमओ

जनवाणी संवाददाता  |

सहारनपुर:  जिले में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ जरूर रहे हैं लेकिन इससे पहली और दूसरी लहर जैसा खतरा नहीं है। अगर लोग कोरोना गाइड लाइन का पालन करें तो इससे बच सकते हैं|

और स्वास्थ्य महानिदेशालय की ओर से जारी दवाओं का सेवन करें तो संक्रमित व्यक्ति आसानी से कोरोना को मात दे सकते हैं। ऐसे में घबराने की जरूरत नहीं है।

यह कहना है मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डा संजीव मांगलिक का। उन्होंने कहा -कोविड की जांच, उपचार और रेफर के लिए बनाए गए इंटीग्रेटेड कमांड व कंट्रोल सेंटर से संक्रमितों की निगरानी की जा रही है।

जरूरी परामर्श भी दिए जा रहे हैं जिससे मरीज घर पर रहकर ही ठीक हो रहे हैं। स्वास्थ्य महानिदेशालय ने इस बार कोविड को मात देने के लिए समिति की ओर से निर्धारित दवाओं की सूची जारी करने के साथ ही कोरोना से निपटने के लिए की गई तैयारियों और बरती जाने वाली सावधानियों का भी जिक्र किया है।

साथ ही इंटीग्रेटेड कमांड व कंट्रोल सेंटर से होम आइसोलेशन के पात्र मरीजों की स्वास्थ्य की स्थिति की निरंतर निगरानी की जा रही है। किसी होम आइसोलेटेड मरीज के लक्षण युक्त हो जाने या उसे चिकित्सकीय सहायता की जरूरत होने पर इलाज की सुविधा मिल रही है।

इसके अलावा जन सामान्य को कोविड से बचाव के उपायों और प्रदेश में उपलब्ध कोविड की जांच व इलाज की उपलब्ध सेवाओं के बारे में अवगत कराया जा रहा है।

कोविड से बचाव एवं सावधानियां

मास्क का इस्तेमाल करें, सामाजिक दूरी रखें, अनावश्यक घर से बाहर न निकलें, लक्षण आने पर खुद को परिवार से अलग रखें और जांच कराएं, बार बार साबुन-पानी से हाथ धुलते रहे, टीका जरूर लगवाएं।

दवाओं के साथ इन बातों का भी रखें ख्याल

सांस संबंधी व्यायाम, योग व प्राणायाम दिन में 20 से 30 मिनट तक करें, दिन में तीन से चार बार श्वसन दर व आक्सीजन सेचुरेशन अवश्य मापें, यह 94 फीसदी या इससे अधिक होनी चाहिए पर्याप्त मात्रा में हल्का गर्म पिएं।
ई-संजीवनी एप से मिल रहे सुझाव
ई-संजीवनी एप के माध्यम से घर पर ही अनुभवी चिकित्सकों का मुफ्त सुझाव मिल रहा है। साथ ही विशेष परिस्थितियों में हेल्पलाइन नंबर 1800-180-5145 और 104 नंबर की भी मदद ली जा सकती है।

छोटे बच्चों में कोरोना के लक्षण

बुखार, खांसी, जुकाम होना, बच्चे का रोना और खुराक लेना बंद कर देना। दस्त लगना, पसली चलना।

12 वर्ष से अधिक के लोगों में कोविड के लक्षण
बुखार, खांसी, जुकाम व थकावट, सिर दर्द व बदन दर्द, स्वाद या गंध, चेतना का चला जाना ।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -
spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments