Friday, July 26, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutफायरिंग रोको..अन्यथा दे दो इच्छा मृत्यु

फायरिंग रोको..अन्यथा दे दो इच्छा मृत्यु

- Advertisement -
  • पीएल शर्मा रोड के लोग टेस्टिंग फायर से है खासे परेशान, हार्ट के मरीजों को होती है परेशानी

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: पीएल शर्मा रोड के लोग टेस्टिंग फायर से परेशान हैं। हार्ट के मरीजों ने इसकी शिकायत की है कि अचानक फायरिंग होने से उनको हृदय घात हो सकता हैं, फिर भी इसमें पुलिस-प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं कर रहा हैं। फायरिंग नहीं रोकने पर सीनियर सिटीजन ने इच्छा मृत्यु भी प्रशासन से मांगी हैं। सीनियर सिटीजन एडवोकेट हरिंदर सिंह बेदी ने एक-दो नहीं कई शिकायत अफसरों से की।

01 18

मुख्यमंत्री पोर्टल पर भी शिकायत की। जांच पड़ताल करने के नाम पर फाइल को ठंडे बस्ते में डाल दिया जाता हैं, ऐसा आरोप सीनियर सिटीजन ने लगाया हैं। आक्रोशित सीनियर सिटीजन का कहना है कि हृदय घात होगा, उससे पहले ही उन्हें इच्छा मृत्यु दे दी जाए। क्योंकि प्रशासन टेस्टिंग फायरिंग को रोकने में विफल साबित हो रहा हैं। इसमें खानापूर्ति की जाती हैं, शिकायत पर कार्रवाई कभी नहीं हुई।

ये सबसे बड़ी समस्या है गोपाल वाटिका की। यहां रेजिडेंशियल वेलफेयर एसोसिएशन एक रिहायशी कॉलोनी पीएल शर्मा रोड पर स्थित है, जिसमें सभी कॉलोनी वासियों को पिस्टल और बंदूक से अत्यधिक फायरिंग किए जाने से आवाज की समस्या है, जो पूर्व में भी जनसुनवाई पर शिकायत की गई थी, जिसमें हरी सिंह ओबेरॉय गन शॉप के मालिक द्वारा कॉलोनी में अपनी बिल्डिंग के बेसमेंट में रेत के कट्टे रखे गए और दीवार को थोड़ा ऊंचा किया गया था,

02 16

लेकिन अभी भी पूरा दिन फायरिंग की आवाज से कॉलोनी वासियों को बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ रहा हैं। अगर गन शॉप के मालिक द्वारा पूर्व में दीवार को पूरी तरह से छत तक मिला दिया होता तो आवाज काफी कम हो सकती थी, लेकिन उनके द्वारा दीवार ऊंची पूरी तरह से नहीं की गई और नहीं दरवाजा लगाया गया था। कॉलोनी में सीनियर सिटीजन अशोक जैन उम्र 77 वर्ष एवं एडवोकेट हरिंदर सिंह बेदी उम्र 85 वर्ष भी निवास करते है।

इनमें से हरिंदर सिंह बेदी ने कहा कि टेस्टिंग फायर नहीं रोक सकते तो उन्हें इच्छा मृत्यु दे दो। टेस्ट फायर से उनको कभी भी हृदय घात हो सकता हैं। उनकी हार्ट की बायपास सर्जरी और अन्य आॅपरेशन हुए है, जिनको बंदूक की आवाज और उसकी धमक से हार्ट पर चोट पहुंचती है और ऐसे में शारीरिक कष्ट पहुंच सकता हैं, जिसकी जिम्मेदारी पुलिस-प्रशासन की होगी।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments