Friday, June 14, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutडबल मर्डर का खुलासा: बेटा ही निकला मां-बाप का कातिल, दोस्त संग...

डबल मर्डर का खुलासा: बेटा ही निकला मां-बाप का कातिल, दोस्त संग रची थी साजिश

- Advertisement -

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: नौचंदी थानांतर्गत शास्त्री नगर सेक्टर छह में रहने वाले एक दंपति की चाकू से गला काट कर निर्मम हत्या कर दी गई। सोमवार देर रात हुई हत्या की जानकारी पुलिस को आज सुबह दस बजे मिली। पुलिस जब मकान में घुसी उस वक्त बुजुर्ग नरेंद्र करवाल बेहोश पड़े हुए थे। उनकी पत्नी भी अर्ध बेहोश थी।

घर की पहली मंजिल में एक कमरे में डबल बेड पर नरेंद्र और ममता का रक्त रंजित शव पड़ा हुआ था। सूचना मिलते ही एडीजी, आईजी और एसएसपी आदि मौके पर पहुंचे और घर वालों से बात की। मृतक के बेटे ने अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने दंपति के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

मृतक दंपति के शव का पोस्टमार्टम करने के बाद शक के आधार पर पुलिस बेटे आर्यन को पूछताछ के इरादे से उठाया। पुलिसिया पूछताछ में बेटा आर्यन ज्यादा देर तक नहीं टिक पाया और मां बाप के हत्या की बात स्वीकार कर ली। पुलिस के मुताबिक पूछताछ में बेटे आर्यन ने बताया कि उसके पिता डिप्रेशन के मरीज थे और वह अक्सर मां से मारपीट करते रहते थे।

इसी वजह आर्यन ने अपने एक दोस्त की मदद से पहले पिता की हत्या की, इसी बीच मां ने शोर मचाना शुरू कर तो पुलिस बचने के लिए मां की भी हत्या करनी पड़ी। फिलहाल पुलिस ने मृतक दंपति के हत्यारोपी पुत्र आर्यन और उसके साथी को गिरफ्तार कर लिया है।

शास्त्री नगर के सेक्टर छह के मकान नंबर 223 में नरेंद्र अपनी पत्नी विनोद, बेटे प्रमोद करवाल और बहु ममता करवाल के साथ रहते है। प्रमोद गाजियाबाद की एक सरिया कम्पनी में काम करते है जबकि पत्नी ममता बीडीएस स्कूल में टीचर थी। इनके एक बेटी कनिष्का और बेटा आर्यन गुड़गांव में जॉब करते है।

मकान की पहली मंजिल में बेटा और बहू रहते थे। मंगलवार की सुबह बेटी कनिष्का के मोबाइल पर बीडीएस स्कूल से फोन आया कि आज ममता करवाल स्कूल नहीं आई है। इस पर बेटी ने घर फोन मिलाया तो किसी ने भी फोन नही उठाया। तभी बेटे आर्यन ने घर के सामने रहने वाले शिवम को फोन मिलाया और कहा घर जा कर देखो फोन क्यों नहीं उठ रहा है।

शिवम जैसे ही मकान की पहली मंजिल पर जा कर बेड रूम के दरवाजे को धक्का दिया तो उसके पैरो तले जमीन खिसक गई। उसके मुंह से चीख निकल गई। उसने आर्यन को फोन पर बताया कि मम्मी पापा का खून हो गया है। शिवम ने ही पुलिस को सूचना दी। थोड़ी देर में आईजी नचिकेता झा, एसएसपी रोहित सिंह सजवान, एसपी सिटी पीयूष कुमार सिंह और सीओ सिविल लाइन अरविंद चौरसिया और नौचंदी थाने की पुलिस मौके पर आ गई।

मां के बर्थडे वाले दिन डबल मर्डर

इससे ज्यादा दुर्भाग्य और क्या होगा की मां को अपने बर्थडे वाले दिन बेटे और बहू की गला रेत कर हत्या कर दी गई। शास्त्री नगर में रहने वाले नरेंद्र मेडिकल स्टोर में काम करते थे। सोमवार को उनकी पत्नी विनोद का बर्थडे था। सभी ने सोचा था कि सोमवार को बर्थडे मनाया जाएगा लेकिन बेटी कनिष्का को छुट्टी न मिलने के कारण तय किया था कि मंगलवार को बर्थडे मनाया जाएगा लेकिन बर्थडे वाले दिन ही बेटे नरेंद्र और बहु ममता की गला काट कर हत्या कर दी गई। पूरा परिवार डबल मर्डर से परेशान था। बुजुर्ग मां का रो रो कर बुरा हाल था। बस एक ही चर्चा सबकी जुबान पर थी कि आखिर कौन मार गया दो बेगुनाहों को।

पापा को कार दिलवाई थी

मम्मी पापा की निर्मम हत्या से बेहद दुखी बेटी कनिष्का ने बताया कि उनके परिवार पर किसी का लोन भी नही था। कुछ दिन पहले पापा को लोन पर कार दिलाई थी। पूरा परिवार कार आने से खुश था। कार से पूरा परिवार बर्थडे मनाने के लिए बाहर जाने की प्लानिंग बना रहा था।

सीसी कैमरे की फुटेज से हैरान

जिस घर में डबल मर्डर हुआ उस घर से चंद कदमों की दूरी पर लगे सीसी कैमरे ने कुछ राज छुपा रखे थे। पुलिस ने जब सीसी कैमरे की डीबीआर कब्जे में लेकर जांच शुरू की तो पुलिस हैरत में पड़ गई। कैमरे ने मृतक के बेटे आर्यन को उसके दोस्त के साथ रात दस बजे के स्कूटी से जाते हुए देखा था।

अपर पुलिस महानिदेशक राजीव सभरवाल को इस बात की जानकारी एसपी सिटी पीयूष ने दी। पुलिस ने इस फुटेज के आधार कुछ भी बोलने से परहेज किया। पुलिस अधिकारियों का कहना था कि पहले पोस्टमार्टम हो जाए इसके बाद जांच पड़ताल की जाएगी।

आर्यन से घर वालों ने गुस्से में पूछा

सीधे सादे परिवार में हुए डबल मर्डर ने हर किसी के मन में सवालों की बौछार कर दी। हर कोई दोहरे हत्याकांड का राज और हत्यारे के बारे में जानना चाह रहा था। जैसे ही आर्यन अपनी बहन कनिष्का के साथ गुड़गांव से आया और दहाड़ मार कर रोने लगा। घर में दादी और अन्य रिश्तेदारों ने उससे पूछा कि तुम घर से कब गए थे। उसने कहा रात दस बजे। फिर पूछा गया क्या गेट खोल कर गए थे।

आर्यन बोला हां गेट बंद करवाना भूल गया था। इतना कहते ही उसने अपना सिर मेज पर मार लिया। ये देख कर महिलाओं ने कहा इसे पानी पिलाओ और दूसरे कमरे में ले जाओ। आर्यन ने कहा मैंने कल रात पापा से भी बात की थी। आर्यन की दादी ने आर्यन से कहा तेरे बाबाजी तभी से बेहोश पड़े हुए हैं। तभी एक डॉक्टर ने आकर ब्लड प्रेशर चेक किया जो लो ब्लड प्रेशर निकला।

बहन कनिष्का गश खा कर गिरी

माता पिता के रक्त रंजित शवों को देख कर जमीन पर गिर पड़ी। घर वालों ने उसे किसी तरह से संभाला। कनिष्का ने बताया कि उसके परिवार की किसी से रंजिश नही थी और न उन पर किसी तरह का उधार नहीं था। मेरे पापा और मम्मी को कौन मार गया खुद हैरान हूं। बेटी की हालत देख कर हर कोई गमगीन था। बेटी ने एडीजी राजीव सभरवाल से कहा मम्मी पापा के कातिल को जरूर पकड़िए। पुलिस अधिकारियों ने जल्द केस खोलने का आश्वाशन दिया।

मां का खून से लथपथ शव देखा

गुड़गांव से आने के बाद जब लोगो ने बेटे को मां का चेहरा दिखाने को कहा तो एक पुलिसकर्मी ने शव का चेहरा खोला तो पूरा चेहरा खून जम जाने के कारण काला पड़ गया था। गला बुरी तरह से कटा पड़ा था। आर्यन ने मां को देखा और स्तब्ध रह गया। उसको थोड़ी सी उल्टी हुई लेकिन आंखों से आंसू नहीं निकले। जबकि बहन कनिष्का पहली मंजिल पर बिस्तर पर मरे पड़े पिता को देखते ही वही गिर गई थी।

मकान का एक गेट खुला था

इस हत्याकांड में मकान के एक खुले दरवाजे ने पुलिस की जांच को और आसान कर दिया है। हत्या करने के बाद आरोपी आराम से नीचे उतर कर चले गए। इस गेट को किसने खोला ये पुलिस के लिए एक चुनौती बन गई। बाद में मृतक के बेटे आर्यन ने पुलिस को बताया कि जब वो रात को दस बजे के करीब स्कूटी लेकर गया था तब भूल से दरवाजा बंद करवाना भूल गया था।

आस पास वालो को भनक तक नहीं

घनी आबादी वाली गली में स्थित मकान में डबल मर्डर हो गया लेकिन किसी को भनक तक नहीं लगी। हर कोई हैरान था कि घटना कब हुई। घर के अंदर सामान भी बिखरा नही था।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments