Tuesday, May 21, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsSaharanpurपूर्व मंत्री धर्म सिंह को लेकर सियासी प्याले में उठेगा तूफान

पूर्व मंत्री धर्म सिंह को लेकर सियासी प्याले में उठेगा तूफान

- Advertisement -
  • सैनी समाज का बड़ा तबका हो सकता है सरकार से नाराज
  • माना जा रहा भाजपा छोड़ने के नाते सरकार कस रही शिकंजा

मुख्य संवाददाता |

सहारनपुर: आयुष कॉलेजों में बिना नीट हुए दाखिलों के मामले में पूर्व आयुष मंत्री डाक्टर धर्म सिंह सैनी पर शिकंजा कसता जा रहा है। फिलहाल, वह सांसत मेंं न हों, ऐसा हो नहीं सकता। दरअसल, भाजपा छोड़ने पर धर्मसिंह सैनी पूरी तरह सरकार के निशाने पर हैं। यह और बात है कि सैनी समाज का बड़ा तबका सरकार के कदम से नाराज हो सकता है।

बहरहाल, कुछ भी हो अब एसटीएफ ने कोर्ट में दाखिल चार्जशीट में दावा किया है कि तत्कालीन मंत्री धर्म सिंह सैनी ने अपट्रॉन पावरट्रॉनिक्स को 24 घंटे के भीतर कार्यदायी संस्था बनाने की अनुमति दी थी। इस मामले में उनसे पूछताछ की जा सकती है। उधर, इस पूरे मामले को लेकर सियासी प्याले में फिर तूफान उठ सकता है।

यह बताने की जरूरत नहीं कि डाक्टर धर्मसिंह सैनी वेस्ट यूपी के कद्दावर नेताओं में शुमार हैं। वह चार बार विधायक और दो बार मंत्री रहे। बसपा सरकार में धर्म सिंह बेसिक शिक्षा मंत्री यानि कि फुल प्लेस पांच साल तक कैबिनेट मंत्री रहे। पिछली भाजपा सरकार में उन्हें आयुष मंत्री बनाया गया था। वह लोक लेखा समिति के भी अध्यक्ष रहे हैं। पिछले विधान सभा चुनाव में धर्मसिंह सैनी सपा में शामिल हो गए थे। लेकिन राज्य में दोबारा से भाजपा की सरकार बन गई। तभी से धर्म सिंह सैनी सरकार के निशाने पर हैं।

जैसा कि भाजपा सरकार विरोधियों को चूुन-चुन कर बदले की भावना से काम करने के लिए पहचान बना चुकी है। ऐसे में धर्म सिंह पर शिकंजा कसा जाना कोई अचरज नहीं है। इनके सखा और पूर्व कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य पर भी भाजपा कड़ा रुख अपनाने का कई बार उपक्रम कर चुकी है।

बहरहाल, अब नीट मामले को लेकर सैनी की राहें कठिन हो चली हैं। उधर, एसटीएफ की जांच में पता चला है कि नीट भर्ती गड़बड़ी मामले में कुलदीप सिंह और आलोक त्रिवेदी नामक दो मास्टरमाइंड थे। कहा गया है कि गाजीपुर जनपद के केवीएस इंस्टीट्यूट के चेयरपर्सन विजय यादव ने दो कॉलेजों के अलावा पूर्वांचल के कई कॉलेजों में अपात्रों के दाखिले कराए थे। अब एसटीएफ इन कॉलेजों पर शिकंजा कसने की तैयारी में है। इनमें हुए दाखिलों की जांच के बाद प्रबंधकों की भूमिका तय की जाएगी और उनके खिलाफ कोर्ट में अनुपूरक आरोप पत्र पेश किया जाएगा।

डाक्टर धर्म सिंह सैनी को पूछताछ के लिए एसटीएफ लखनऊ तलब कर चुकी है। उधर, सियासी गलियारों में सैनी समर्थक खासकर सैनी समाज के प्रभावशाली लोग सरकार से नाखुश बताए जाते हैं। सूत्रों का कहना है कि संवेदनशील सैनी समाज सरकार की इस कार्रवाई को बदले की भावना की नजर से देख रही है।

ऐसे में सैनी समाज का बड़ा तबका धर्म सिंह सैनी को लेकर बेहद संवेदनशील है और अगर कोई बड़ी कार्रवाई होती है यानि कि धर्म सिंह की गिरफ्तारी की जाती है तो जाहिर है कि सैनी समाज के लोग भाजपा की मुखालफत में आगे आ सकते हैं।

हालाँकि, भाजपा ने जसवंत सैनी को मंत्री बनाकर और बिजनौर मूल के रहने वाले धर्मपाल सिंह सैनी को संगठन में बड़ा ओहदा देकर विकल्प तैयार करने की कोशिश की है पर धर्म सिंह सैनी जमीनी नेता हैं और उनकी काट इतनी आसान नहीं है। कुछ भी हो डाक्टर धर्म सिंह सैनी को लेकर सियासी प्याले में तूफान उठने वाला है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments