Monday, May 17, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsSaharanpurसुभरी में निर्माणाधीन मंदिर पर प्रशासन ने लगा दी रोक

सुभरी में निर्माणाधीन मंदिर पर प्रशासन ने लगा दी रोक

- Advertisement -
0
  • मंदिर गिराए जाने से गुस्साए ग्रामीणों ने लगाया जाम

जनवाणी संवाददाता |

बड़गांव: क्षेत्र के गांव सुभरी में निर्माणधीन रविदास मंदिर को जेसीबी की मदद से प्रशासन ने जमींदोज कर दिया। मंदिर गिराए जाने से गुस्साए लोगों ने थाने के सामने ही ट्रैक्टर ट्राली खड़ी कर जाम लगा दिया। घंटों तक जाम लगे रहने से आवाजाही प्रभावित रही। ग्रामीणों ने पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया।

गांव शिमलाना का मजरा सुभरी में ग्राम समाज की भूमि पर रविदास मंदिर का निर्माण कराया जा रहा था। इस पर गांव के ही एक व्यक्ति ने आपत्ति जताकर एसडीएम रामपुर को शिकायत की थी। प्रशासन ने गुरुवार की दोपहर पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच कर जेसीबी की मदद से मंदिर को जमींदोज कर दिया।

मंदिर गिराए जाने से गुस्साए ग्रामीण थाने पर पहुंच गए और करीब पांच बजे थाने के गेट के सामने ही नानौता-देवबंद मार्ग पर ट्रैक्टर ट्राली खड़ी करके मार्ग को जाम कर दिया। इसके बाद पुलिस प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन किया। इस दौरान दोनों तरफ वाहनों की लंबी लाइनें लग गईं।

पुलिस ने प्रदर्शनकारी ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया लेकिन प्रदर्शनकारी जाम खोलने को तैयार नहीं हुए। पुलिस मूकदर्शक बनकर देखती रही। प्रदर्शनकारी कल्लूराम, रामदास,जाति, अमरीश,जोनी, मोनू व रेखा का कहना था कि वह सब काम करने खेतों में गए हुए थे।

पुलिस प्रशासन ने बिना कोई नोटिस दिए निर्माणाधीन मंदिर को जमींदोज कर दिया। बाद में करीब साढ़े पांच बजे थाना प्रभारी रणवीर सिंह ने प्रदर्शनकारियों के बीच पहुंचकर प्रर्दशनकारियों को शांत कराकर वार्ता करने का आश्वासन दिया। थाना प्रभारी के आश्वासन पर 40 मिनट बाद जाम खोल दिया। बाद में रामपुर,नानौता, देवबंद पुलिस भी मौके पर पहुंची।

इस बाबत तहसीलदार नितिन राजपूत का कहना है कि सूभरी गांव में ग्रामसमाज की ढाई बीघा भूमि पर कुछ लोगों द्वारा अवैध कब्जा कर इमारत का निर्माण कराया जा रहा है। इसकी शिकायत मिल रही थी। शिकायत पर अवैध निर्माण को गिराया गया है।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
1

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments