Monday, April 22, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutसूदखोरों ने किया इतना परेशान, दे दी जान

सूदखोरों ने किया इतना परेशान, दे दी जान

- Advertisement -
  • आस्था फाइनेंस कंपनी के मालिक समेत छह के खिलाफ मुकदमा
  • पत्नी बोली-अब भी दे रहे जान से मारने की धमकी

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: सूदखोरों के उत्पीड़न से परेशान होकर गोली मारकर जान देने वाले न्यू मोहनपुरी निवासी व्यापारी के मामले में मृतक की पत्नी ने लालकुर्ती थाने में आस्था कंपनी के मालिक राजकुमार सिरोही समेत छह लोगों के खिलाफ आत्महत्या के लिये मजबूर करने और जान से मारने की धमकी देने का मुकदमा दर्ज कराया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि आरोपी शनिवार को भी घर आए और पूरे परिवार को जान से मारने की धमकी देकर चले गए थे।

16 11

इंस्पेक्टर लालकुर्ती अतर सिंह ने बताया कि व्यापारी योगेन्द्र चौधरी के गोली मारकर जान देने के मामले में पत्नी अनुपमा चौधरी ने रिपोर्ट दर्ज कराते हुए आस्था फाइनेंस कंपनी के मालिक राजकुमार सिरोही, हनी, हरीश सोनकर, शशी कपूर, सिद्धार्थ कपूर और आकाश सिरोही के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराते हुए कहा है कि पति योगेन्द्र ने फाइनेंस कंपनी से पैसा लिया था जिसे वह हर महीने चुका भी रहे थे।

इसके बाद भी फाइनेंस कंपनी के मालिक पूरे परिवार को मानसिक रुप से परेशान करते हुए जान से मारने की धमकी दे रहे थे। रिपोर्ट में कहा गया कि सुबह के वक्त फाइनेंसर राजकुमार सिरोही का बेटा आकाश सिरोही घर गया और धमकी देकर आया कि अगर पैसे नहीं मिले तो पूरे परिवार को सुसाइड करने को मजबूर कर दिया जाएगा। शुक्रवार को शाम चार बजे के करीब एसएसपी आवास के पास कार में सवार योगेन्द्र चौधरी ने लाइसेंसी पिस्टल से गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों को कार में पुलिस को एक सुसाइड नोट मिला है।

जिसमें फाइनेंस कंपनी के मालिक राजकुमार सिरोही पर मानसिक उत्पीड़न का आरोप लगाया था। मृतक ने यह भी लिखा था कि उसके मोबाइल में एक सुसाइड नोट है उसका पासवर्ड बेटी के पास है। इंस्पेक्टर लालकुर्ती ने बताया कि पूरा परिवार शोकाकुल है और आज ही अंतिम संस्कार हुआ है। इस कारण बेटी से मोबाइल का पासवर्ड नहीं लिया गया है। फिलहाल आरोपियों के खिलाफ आत्महत्या के लिये उकसाने और जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया गया है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments