Saturday, June 22, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutयूपी बोर्ड: अब स्कूलों को मिलेगी केवल तीन वर्ष की मान्यता

यूपी बोर्ड: अब स्कूलों को मिलेगी केवल तीन वर्ष की मान्यता

- Advertisement -
  • फिर होगा नवीनीकरण, बोर्ड की ओर से मान्यता के नियम किए गए कठिन

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद यानि यूपी बोर्ड ने दसवीं और बारहवीं के विद्यालयों की मान्यता के नियम अब कड़े कर दिए हैं। जिसके तहत अब पहले तीन साल के लिए ही स्कूल की मान्यता मिलेगी। बाद में मान्यता शर्तों की अनुपालन व विद्यालय में व्यवस्थाओं को देखते हुए पांच साल के लिए उसका नवीनीकरण कर दिया जाएगा। ये मानक शासन से स्वीकृत नई मान्यता की शर्तों में निर्धारित है।

बता दें कि पहले मान्यता के लिए स्थलीय निरीक्षण की व्यवस्था थी। मगर अब डीआईओएस भवन के समक्ष खड़े होकर अपना व भवन का फोटो खिंचवाकर रिपोर्ट के साथ संलग्न करेंगे और जनपदीय समिति विस्तृत निरीक्षण करेगी। समिति द्वारा निरीक्षण के समय विद्यालय भवन, प्रयोगशाला, खेल के मैदान, बाउंड्रीवाल, पुस्तकालय आदि की वीडियोग्राफी, फोटोग्राफी की जाएगी। इसे परिषद की वेबसाइट पर अपलोड किया जाएगा। इसके अलावा नई शर्तों में विद्यालय में छात्र-शिक्षक अनुपात 40:01 से अधिक नहीं होगा।

प्रत्येक विषय का एक शिक्षक होना अनिवार्य होगा। विद्यालय द्वारा लिए जा रहे शिक्षण शुल्क का लेखाजोखा रखा जाएगा। शिक्षण शुल्क में से कम से कम 70 प्रतिशत शैक्षिक व अन्य कर्मियों की परिलब्धियों पर खर्च होगा। इसके अलावा अब शिक्षकों, छात्रों की उपस्थिति बोर्ड की वेबसाइट/पोर्टल पर प्रत्येक कार्यदिवस में दर्ज करनी होगी। विद्यालय की वेबसाइट पर ईमेल, फोन नंबर के अलावा आधारभूत सुविधाओं जैसे भवन, कक्षों की संख्या, कंप्यूटर, खेल, पुस्तकालय, लाइट, पंखे आदि का विवरण दिया जाएगा।

योग्यता सहित शिक्षकों का विवरण, कक्षावार छात्र, छात्राओं की संख्या, प्रत्येक वर्ष का परीक्षाफल व शुल्क का विवरण भी प्रदर्शित करना होगा। पानी के लिए सबमर्सिबल, आरओ, पाइप पेयजल, ओवरहेड टैंक, हैंडवाश प्लेटफार्म, अलग-अलग आयु वर्ग के बच्चों की लंबाई के हिसाब से अलग-अलग ऊंचाई के प्लेटफार्म की व्यवस्था करनी होगी। छात्र, छात्राओं के अलग-अलग शौचालय के अलावा दिव्यांगों के लिए विशेष इंतजाम करने होंगे।

18 जनवरी से दो पालियों में होगी एमबीबीएस परीक्षाएं

चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय व उससे संबंधित मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस द्वितीय प्रोफेशनल मुख्य एवं सप्लीमेंट्री, तृतीय प्रोफेशनल प्रथम एवं द्वितीय सप्लीमेंट्री कोर्स की परीक्षाएं 18 जनवरी से होंगी। पेपर 10 से एक और दस से पांच बजे की पाली में होंगे। विवि ने परीक्षा कार्यक्रम वेबसाइट पर जारी कर दिया है। जल्द ही एडमिट कार्ड भी जारी हो जाएंगे।

सर्दी में कैसे देंगे पेपर

नौ जनवरी से शुरू हो रही विवि परिसर और संबद्ध कॉलेजों में विषम सेमेस्टर की परीक्षाओं पर कड़ाके की सर्दी का साया मंडराने लगा है। विद्यार्थियों ने विवि से परीक्षा कार्यक्रम में संशोधन की मांग की है। छात्रों के अनुसार सुबह नौ से 12 और शाम को दो से पांच बजे की पाली में पेपर होने हैं। सुबह नौ बजे केंद्रों पर पहुंचने के लिए देहात क्षेत्र से कम से कम दो घंटे पहले निकलना होगा। इसी तरह शाम को पांच बजे पेपर छूटने के बाद घर तक पहुंचने में सात बज जाएंगे।

छात्रों के अनुसार परिवहन की सुविधा इस वक्त ठीक नहीं है। इससे सुबह और शाम दोनों पालियों में छात्राओं को सर्वाधिक दिक्कत होगी। छात्रों ने विवि से परीक्षा कर्यक्रम को एक हफ़्ते आगे बढ़ाने की अपील की है। कॉलेज भी विवि को प्रस्ताव भेजने जा रहे हैं। कॉलेजों के अनुसार एक हफ्ते बाद मौसम से राहत मिल सकती है। कॉलेजों के मुताबिक इस वक्त कक्षों में बैठकर पेपर देना बेहद चुनौतीभरा है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments