Tuesday, April 23, 2024
- Advertisement -
HomeUttarakhand NewsHaridwarयोग की वास्तविकता को कम ही लोग समझते हैं: महावीर अग्रवाल

योग की वास्तविकता को कम ही लोग समझते हैं: महावीर अग्रवाल

- Advertisement -
  • मदरहूड़ विश्‍वविद्यालय में दो दिवसीय कॉन्फ्रेंस का आयोजन

जनवाणी संवाददाता |

हरिद्वार: मदरहूड़ विश्‍वविद्यालय में आज दूसरा अंतर्राष्ट्रीय संवाद के लिए नैतिक संहिता इंटरडिसिप्लिनरी और योगिक निदान पर सम्मेलन का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ डॉ. महावीर अग्रवाल मुख्य अतिथि, प्रो० वाइस चांसलर पतंजलि विश्‍वविद्यालय हरिद्वार, कुलपति मदरहूड़ विश्‍वविद्यालय रूड़की, प्रो नरेंद्र शर्मा, डॉ. ओम नारायण तिवारी विशिष्ट अतिथि एंड डीन फैकल्टी ऑफ योग साइंस पतंजलि विश्‍वविद्यालय, हरिद्वार, डॉ. नरेश कुमार एचओडी रचना-शरीर ऋषिकुल परिसर हरिद्वार, डॉ. उर्मिला पाण्डेय, कार्यक्रम निदेशक, ने सरस्वती माँ की प्रतिमा के सम्मुख दीप प्रज्ज्वलित करके किया।

डॉ. उर्मिला पाण्डेय, कार्यक्रम निदेशक ने प्रोग्राम का इन्ट्रोडक्शन दिया और बताया की दो दिवसीय इस सम्मेलन में देश विदेश के योगाचार्य प्रतिभाग कर रहें है जो कि योग व एथिकल कोड के कई पहलुओं के शोध पत्रों पर प्रकाश डालेंगे। उन्होंने कहा की योग आंतरिक शरीर में कुछ सकारात्मक बदलाव करता है और शरीर के अंगों के कामकाज को नियमित करता है।

डॉ. महावीर अग्रवाल, प्रो० वाइस चांसलर पतंजलि विश्‍वविद्यालय ने बताया योग की क्रियाएं हमारे जीवन को निरोग बनाने में मददगार है। नियमित योग करने से ब्रह्मांड की किसी भी बीमारी को ठीक किया जा सकता है।

योग के प्रकार अलग अलग होते हैं, इसलिए योग ट्रेनर की देख-रेख में ही योग का अभ्यास करना चाहिए। स्कूल से लेकर ऑफिस तक सभी जगह योग पर बड़े बड़े भाषण दिए जाते हैं। लेकिन योग की वास्तविकता को कम लोग समझते हैं।

डॉ. ओम नारायण तिवारी विशिष्ट अतिथि एंड डीन फैकल्टी ऑफ योग साइंस पतंजलि विश्वविद्यालय ने इस मोके पर योग के कई लाभ बताए उन्होंने बताया की योग एक प्राचीन कला है जो लगभग छह हजार साल पहले भारत में उत्पन्न हुई थी।

पहले लोगों को स्वस्थ और मजबूत जीवन जीने के लिए अपने दैनिक जीवन में योग और ध्यान का अभ्यास करने के लिए इस्तेमाल किया जाता था।

डॉ. नरेश कुमार एचओडी रचना-शरीर ऋषिकुल परिसर हरिद्वार ने कहा की योग शरीर मन और आत्मा का संतुलन बनाने के लिए शरीर के अंगों को एक साथ लाने का एक अभ्यास है। पहले योगियों द्वारा उनका ध्यान करने का अभ्यास किया जाता था।

इस कान्फ्रन्स में 50 से अधिक रिसर्च पेपर प्रस्तुत कीये गए, कार्यक्रम की संचालक टीम में डायरेक्टर आकडेमिक्स एण्ड रिसर्च डॉ वी के सिंह, रेजिस्ट्रार डॉ एन के यादव, डेप्यूटी रेजिस्ट्रार मिस्टर अजय गोपाल शर्मा, डीन स्टूडेंट वेल्फेर डॉ अभिषेक स्वामी, डॉ संदीप तिवारी, डॉ नीलाक्षी पांडे, डॉ हर्षा शर्मा मिस, डॉ सुबीर मैटी, मिस शिवली विष्ट, मिस जाली चौहान, मिस सोनिया सिंह, मिस्टर अंकित शर्मा, मिस लवली त्यागी व मिस्टर वरुण वर्मा आदि मौजूद रहे। इस मौके पर सभी डीन, प्रिन्सपल, हेड ऑफ डिपार्ट्मन्ट, शिक्षक मौजूद रहे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments