Sunday, February 25, 2024
HomeUttar Pradesh NewsMeerutमेडिकल के दीक्षांत समारोह में 207 को उपाधियां

मेडिकल के दीक्षांत समारोह में 207 को उपाधियां

- Advertisement -
  • एलएलआरएम को शीघ्र मिलने जा रहे स्वायत्त निकाय संस्थान का दर्जा
  • डिप्टी सीएम ने दिया न्यूरोलॉजी इंस्टेस्टाइन विभाग का गिफ्ट

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: एलएलआरएम मेडिकल स्थापना दिवस के मौके पर आयोजित के दीक्षांत समारोह में 207 छात्र-छात्राओं को उपाधि प्रदान की गयीं। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि उप मुख्यमंत्री व चिकित्सा शिक्षा, चिकित्सा स्वास्थ्य मंत्री ब्रजेश पाठक रहे। इस अवसर पर मेडिकल के खचाखच भरे हाल में मुख्य अतिथि ने एलएलआरएम के लिए कई घोषणाएं कीं। इनमें मुख्यत: दो नए विभाग और शीघ्र ही मेडिकल को स्वायत्त निकाय संस्था बनाए जाना शामिल है।

इन घोषणाओं पर देर तक हाल तालियों से गूंजता रहा। दीक्षांत समारोह का शुभारंभ समारोह का शुभारंभ शोभा यात्रा से किया गया। मुख्य अतिथि समेत तमाम अतिथिगण इस शोभायात्रा का हिस्सा थे जो मंच तक पहुंचे। अतिथियों के आसन ग्रहण करने के उपरांत शुभारंभ मां सरस्वती की वंदना से किया गया। मेडिकल की छात्राओं ने मधु स्वरों में सरस्वती वंदना प्रस्तुत की।

04 31

ये रहे मंचासीन

मंचासीन अतिथियों में मुख्य अतिथि बृजेश पाठक उप मुख्यमंत्री व मंत्री, चिकित्सा शिक्षा, चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, उत्तर प्रदेश सरकार, डा. राजेंद्र अग्रवाल सांसद, डा. सोमेंद्र तोमर राज्यमंत्री ऊर्जा एवं वैकल्पिक ऊर्जा, प्रो. डा. संजीव मिश्रा कुलपति अटल बिहारी वाजपेई चिकित्सा विश्वविद्यालय लखनऊ, प्रो. डा. एके सिंह, निदेशक बाल चिकित्सा अस्पताल एवं स्नातकोत्तर शिक्षण संस्थान नोएडा, सेल्वा कुमारी जे. कमिश्नर, दीपक मीणा डीएम, डा. आरसी गुप्ता प्रधानाचार्य, डा. धीरज राज प्रमुख अधीक्षक, डा. प्रीती सिन्हा एवं एकेडमिक अवार्ड कमेटी इंचार्ज डा. गौरव गुप्ता भी शामिल रहे। अतिथियों ने दीप प्रज्ज्वल कर कार्यक्रम का विधिवत शुभारंभ किया। प्रधानाचार्य ने सभी अतिथियों का स्वागत किया और वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत किया।

कुल 207 उपाधियां

दीक्षांत समारोह के अन्तर्गत डा. गौरव गुप्ता एवं डा अंशु टंडन द्वारा एमबीबीएस के 154 छात्रों एवं स्नातकोत्तर परीक्षा में एमडी/ एमएस/डिप्लोमा के 53 छात्र-छात्राओं को प्रस्तुत किया गया, जिन्हें कुलपति द्वारा उपाधि प्रदान की गई। कुलपति द्वारा इन छात्रों को आदेश एवं उपदेश दिये गये एवं प्रो. डा. एके सिंह ने इन छात्रों को हिप्पोक्रेटिक ओथ दिलाई। तत्पश्चात डा. गौरव गुप्ता ने पदक एवं प्रमाण पत्र पाने वाले छात्रों को प्रस्तुत किया।

ये बोले प्रधानाचार्य

प्राचार्य डॉ. आरसी गुप्ता ने बताया कि प्रधानाचार्य गोल्ड मेडल फोर स्टूडेंट आॅफ द ईयर दिया गया। मोस्ट पॉपुलर स्टूडेंट अवार्ड की चल वैजयंती भी दी गई। 75 अंक प्रतिशत अंक के साथ 49 छात्र-छात्राओं ने विशेष योग्यता प्राप्त की है, वे पुरस्कृत किए गए। मेडिकल कॉलेज से अब तक सात हजार से ज्यादा विद्यार्थी एमबीबीएस की डिग्री ले चुके हैं। तीन हजार से अधिक ने स्नातकोत्तर और 27 ने ज्यादा ने डीएम एंडोक्राइनोलॉजी की डिग्रियां भी ली हैं। कई डॉक्टर विदेशों में भी यहां का नाम रोशन कर रहे हैं। यह प्रदेश का एकमात्र राजकीय मेडिकल कॉलेज है, जहां डीएम एंडोक्राइनोलॉजी पाठ्यक्रम उपलब्ध है। 1963 को यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री चंद्रभानु गुप्ता ने मेडिकल कॉलेज का शिलान्यास किया था।

40 गोल्ड मेडल

दीक्षांत समारोह में जानकारी दी गयी कि इस वर्ष छात्रों को 40 गोल्ड मेडल, डिसटिन्कशन-49, सर्टिफिकेट आफ मेरिट-31 एवं 212 आनर्स सर्टिफिकेट तथा 3 चल वैजयन्ती प्रदान की गयी।

डा. आशिमा प्रथम और डा. कानन त्यागी द्वितीय

फाइनल एमबीबीएस प्रोफेशनल पार्ट-2 में डा. आशिमा सचदेवा को तीन गोल्ड मेडल सहित 10 प्रमाण पत्र प्रदान किये गये। वह अपने बैच में परीक्षा में प्रथम स्थान पर रही। डा. कानन त्यागी 6 प्रमाण पत्र के साथ द्वितीय स्थान पर रहे। डा. आशिमा सचदेवा को त्रिलोक जैन मेमोरियल गोल्ड मेडल, (एमबीबीएस के सभी विषयों में सबसे अधिक अंक लाने के लिए) एवं कुमारी राशि गर्ग को एसके गोयल मेमोरियल गोल्ड मेडल प्रदान किया गया।

दानकर्ताओं का सम्मान

कार्यक्रम में मेडिकल कालेज के दानकर्ताओं को विशेष सम्मान दिया गया जिनमें मेडिकल कालेज के एमबीबीएस सत्र 1998 के छात्र डा. राजकुमार बजाज, डा. अजय मालिक आदि शामिल थे। अंत मे सभी को धन्यवाद ज्ञापन डा. प्रीती सिन्हा विभागाध्यक्ष शरीर रचना विज्ञान विभाग ने दीया। अंत में प्रशासनिक भवन के पुनद्धाधार के पश्चात शिलापट्ट का अनावरण उप मुख्यमंत्री डा. बृजेश पाठक ने किया।

अब तक सात हजार को एमबीबीएस की डिग्री

मेडिकल कॉलेज से अब तक सात हजार से ज्यादा विद्यार्थी एमबीबीएस की डिग्री ले चुके हैं। तीन हजार से अधिक ने स्नातकोत्तर और 27 ने ज्यादा ने डीएम एंडोक्राइनोलॉजी की डिग्रियां भी ली हैं। कई डॉक्टर विदेशों में भी यहां का नाम रोशन कर रहे हैं। यह प्रदेश का एकमात्र राजकीय मेडिकल कॉलेज है, जहां डीएम एंडोक्राइनोलॉजी पाठ्यक्रम उपलब्ध है। 1963 को यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री चंद्रभानु गुप्ता ने मेडिकल कॉलेज का शिलान्यास किया था।

05 29

फाइनल में ये रहे सितारे

  • फाइनल एमबीबीएस प्रोफेशनल पार्ट-1 में राशि गर्ग को पांच गोल्ड मेडल सहित 14 प्रमाण पत्र प्रदान किया गया। मधुर तोमर को 1 गोल्ड मेडल सहित पांच प्रमाण पत्र पा कर द्वितीय स्थान पर रहे।
  • एमबीबीएस द्वितीय प्रोफेशनल में रूषाने जेहरा 3 गोल्ड मेडल तथा 9 प्रमाण पत्र सहित प्रथम स्थान पर रहीं। कु. शिवांगी शर्मा 4 प्रमाण-पत्र लेकर द्वितीय स्थान पर रहीं।
  • एमबीबीएस प्रथम प्रोफेशनल में कु. द्विजा बाली एवम कुमारी संजना पिलानिया प्रथम स्थान पर रहीं।

डा. कीर्ति सिंह का सर्वोत्तम प्रदर्शन

स्नातकोत्तर परीक्षाओं में सर्वोत्तम प्रदर्शन के लिए नेत्र विभाग में डा. कीर्ति सिंह, मेडिसिन विभाग के डा. आदित्य प्रताप सिंह, पीडियाट्रिक विभाग के डा. भानवी चितकारा, सर्जरी विभाग की डा. अजहरुद्दीन, स्किन एवं वी.डी. विभाग की डा. पवन कुमार सिंह, फार्माकोलोजी विभाग के डा. ज्योति गुप्ता, कम्यूनिटी मेडिसिन विभाग की डा सिद्धार्थ सक्सेना एवं पैथालोजी विभाग की डा. आकांक्षा गौतम, स्त्री एवम प्रसूति रोग विभाग में पदम श्री डा उषा शर्मा गोल्ड मेडल डा. नियति सिंघल को स्वर्ण पदक प्रदान किये गये।

  • डा. आशिमा सचदेवा को त्रिलोक जैन मेमोरियल गोल्ड मेडल एवं राशि गर्ग को केपी निगम चल वैजन्ती तथा एसके गोयल गोल्ड मेडल प्रदान किया गया।
  • डा रजनी एवं डा. जीएस गुप्ता चल वैजन्ती फॉर ओवर आल बैस्ट इंटर्न बैच 2018 की कु. राजश्री ग्रोवर एवं अभिनव भल्ला को दिया गया।
  • प्रधानाचार्य गोल्ड मेडल फॉर स्टूडेंट आफ द ईयर मेघा
  • इस वर्ष प्रधानाचार्य गोल्ड मेडल फॉर स्टूडेंट आफ द ईयर 2021 बैच की कु. मेघा चट्टोपाध्याय को दिया गया।
  • मोस्ट पापुलर स्टूडेंट अवार्ड चल वैजन्ती 2018 बैच की डा. कानन त्यागी को दिया गया।
  • 75 प्रतिशत अंक प्राप्त करके 49 छात्रों ने विशेष योग्यता प्राप्त की है।
  • फिजियोलोजी 07
  • बॉयोकेमिस्ट्री 13
  • फार्माक्लोजी 07
  • पैथोलोजी 05
  • एनाटोमी 11
  • माइक्रोबायोलॉजी 02
  • कम्यूनिटी मेडिसिन विभाग 02
  • फोरेंसिक मेडिसिन 01
  • नेत्र रोग विभाग 01

कार्यक्रम का आयोजन डा. आरसी गुप्ता, डा. गौरव गुप्ता द्वारा किया गया तथा संचालन डा. अंशु टंडन एवं डा. मेघा कुलश्रेष्ठ ने किया।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments