Friday, April 23, 2021
- Advertisement -
Homeसंवादअमर बेल एवं इसका नियंत्रण

अमर बेल एवं इसका नियंत्रण

- Advertisement -
0


अमरबेल एक प्रकार की लता है जो बबूल, कीकर, बेर पर एक पीले जाल के रूप में लिपटी रहती है। इसको आकाशबेल, अमरबेल, अमरबल्लरी भी कहते हैं। प्राय: यह खेतों में भी मिलती है, पौधा एकशाकीय परजीवी है जिसमें पत्तियों और पर्णहरिम का पूर्णत: अभाव होता है। इसीलिए इसका रंग पीतमिश्रित सुनहरा या हल्का लाल होता है। इसका तना लंबा, पतला, शाखायुक्त और चिकना होता है। तने से अनेक मजबूत पतली-पतली और मांसल शाखाएं निकलती हैं जो आश्रयी पौधे (होस्ट) को अपने भार से झुका देती हैं।

परजीवी खरपतवार कृषि के लिए एक गंभीर समस्या है जिनको नियंत्रित करने के लिए उपलब्ध साधनों की प्रभावकारिता कम होती जा रही है। ये अपना भोजन बनाने और अपना जीवन चक्र पूरा करने के लिए दूसरी फसलों पर निर्भर रहते हैं। जैसे अमरबैल रिजके में, रूखड़ी मक्का और ज्वार में, औरोबंकी सरसों पर निर्भर रहती है। सबसे अधिक आर्थिक रूप से हानिकारक परजीवी खरपतवार रूखड़ी, औरोबंकी और अमरबेल हैं।
अमरबेल तना परजीवी पौधा है जो फसलों या वृक्षों पर अवांछित रूप से उगकर हानि पहुंचाता है।

मुख्य रूप से रिजके में इसकी गंभीर समस्या देखी गई है परन्तु अलसी, चुकन्दर, मिर्ची, प्याज, गाजर, सूरजमुखी, रामतिल, मेंहदी व कई वृक्षों पर इसकी विभिन्न जातियों का प्रकोप देखा गया है। अमरबेल का फैलाव बीज तथा कार्यिकी प्रवर्धन द्वारा होता है। अमरबेल परजीवी पौधे में उगने के 25-30 दिन बाद सफेद अथवा हल्के पीले रंग के पुष्प गुच्छे में निकलते हैं। प्रत्येक पुष्प गुच्छ में 15-20 फल तथा प्रत्येक फल में 2-3 बीज बनते है। अमरबेल के बीज अत्यंत छोटे होते है जिनके 1000 बीजों का वजन लगभग 0.70-0.80 ग्राम होता है। बीजों का रंग भूरा अथवा हल्का पीला एवं बरसीम तथा रिजके के बीजों के जैसा होता है। पकने के बाद बीज मिट्टी में गिरकर काफी सालों तक सुरक्षित पड़े रहते है तथा उचित वातावरण एवं नमी मिलने पर पुन: अंकुरित होकर फसल को नुकसान पहुंचाते हैं। परपोषी मिल जाने पर 35 दिन में परिपक्व हो जाते हैं।

अमरबेल कभी एक साथ नहीं फैलती है, अत: खेत का लगातार निरीक्षण करना आवष्यक है। शुरू में 2-3 स्थानों पर व कालान्तर में पूरे खेत में फैल जाती हैं। अमरबेल जमीन पर पुष्पीय परजीवी पौधे की भांति उगते हैं तथा बाद में लताओं की तरह बढ़कर पेड़ों के ऊपर छा जाते हैं।

पेड़ों पर छाने के पश्चात लताओं से चूषक निकल कर टहनियों की छाल में प्रवेश कर जाते हैं। परजीवी पौधे चूषकांगों के द्वारा मेजबान पेड़ों से पानी तथा पोषकीय तत्व षोषित करते हैं जिसके कारण पेड़ कमजोर हो जाते हैं। यह परजीवी, पत्ती विहीन होते हैं तथा इसमें बहुत कम क्लोरोफिल मिलता है। इससे फलों की उपज, फलों का आकार एवं गुणवत्ता प्रमुख रूप से प्रभावित होती है। अमरबेल के प्रकोप से उड़द, मूंग में 30-35 प्रतिशत तथा लूसर्न में 60-70 प्रतिशत औसत पैदावार में कमी दर्ज की गई है।

रोकथाम                                                                

अमरबेल का नियंत्रण करना बहुत कठिन होता है। जिनके नियन्त्रण के कुछ उपाय निम्नलिखित है। अमरबेल का बीज अलसी के बीज के साथ मिला होता है तथा बाद में जीवित पौधों के सम्पर्क में आने पर जीवन-यापन उन्हीं पौधों पर करता है।

इसका फैलाव निम्न तरीके अपनाकर कम किया जा सकता है :-

  • बुवाई के लिये उपयोग किए जाने वाले अलसी के बीजों में अमरबेल के बीज नहीं होने चाहिए। इस हेतु या तो प्रमाणित बीजों का उपयोग करें या अमरबेल प्रभावित खेत से लिए गए बीजों का उपयोग न करें।
  • यदि बुवाई की गई फसल में अमरबेल का प्रकोप हो चुका है तो प्रभावित पौधों को जड़ से अमरबेल सहित निकाल दें, ताकि अमरबेल का फैलाव दूसरे पौधों पर न हो सके। क्योंकि अमरबेल से उत्पादन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।
  • फसलों के अमरबेल रहित बीज को उपयोग में लाएं।
  • नमक के 10 प्रतिशत घोल में बीजोपचार से अमरबेल के बीज अलग हो जाते हैं। रिजके के बीजों को साफ पानी में धोकर काम में लें।
  • अमरबेल से प्रभावित चारे की फसलों को जमीन की सतह से काटने पर अमरबेल का प्रकोप कम हो जाता है।
  • अमरबेल से प्रभावित चारे की फसल को खरपतवार में फूल आने से पहले ही काट लेना चाहिए जिससे इसके बीज नहीं बन पाते है तथा अगली फसल में इसकी समस्या कम हो जाती है।
  • अमरबेल उगने के बाद परंतु फसल में लपेटने से पहले (बुवाई के एक सप्ताह के अंदर) खेत में हैरो चलाकर इस खरपतवार को नष्ट किया जा सकता है।
  • यदि अमरबेल का प्रकोप खेत में थोड़ी-थोड़ी जगह में हो तो उसे उखाड़कर इकट्ठा करके जला देना चाहिए।
  • घास कुल की फसलें जैसे गेहूं, धान, मक्का, ज्चार, बाजरा आदि में अमरबेल का प्रकोप नहीं होता है। अत: प्रभावित क्षेत्रों में फसल चक्र में इन फसलों को लेने से अमरबेल का बीज अंकुरित तो होगा परंतु एक सप्ताह के अंदर ही सुखकर मर जाता है फलस्वरूप जमीन में अमरबेल के बीजों की संख्या में काफी कमी आ जाती है।
  • परजीवी पौधों की उपस्थित हेतु नियमित रूप से पेड़ों का निरीक्षण करना चाहिए तथा प्रभावी टहनियों को काट देने के पष्चात कॉपर आॅक्सीक्लोराइड का पेस्ट लगाना चाहिए।
  • विभिन्न फसलों में पेन्डीमेथालिन 30 प्रतिशत (ईसी) नामक शाकनाशी रसायन को 3 किग्रा व्यापारिक मात्रा प्रति हैक्टेयर को 150 लीटर पानी में घोल बनाकर ‘फ्लैटफैन’ नोजल लगे हुए स्प्रेयर द्वारा की दर से बुवाई के बाद परंतु अंकुरण से पूर्व छिड़काव करने से अमरबेल का प्रभावी नियंत्रण किया जा सकता है। छिड़काव के समय खेत में पर्याप्त नमी होना आवश्यक है। इस शाकनाशी के प्रयोग से अमरबेल के साथ-साथ दूसरे खरपतवार भी नष्ट हो जाते है।
  • शुरू में ही अमरबेल को रिजके सहित काट कर जलाकर नष्ट कर दें व कटे हुए स्थानों पर पेराक्वेट (1 प्रतिशत) छिड़कें। जिससे अमरबेल व संपर्क में आने वाला रिजका नष्ट हो जाएगा, परंतु सिंचाई के साथ रिजका पुन: फूट जाएगा।
  • यदि अमरबेल का प्रकोप पूरे खेत में न होकर थोड़ी-थोड़ी जगह पर हो तो इसके लिए ‘पैराक्वाट’ अथवा ‘ग्लायफोसेट’ नामक शाकनाशी रसायन का 1 प्रतिशत घोल बनाकर प्रभावित स्थानों पर छिड़काव करने से अमरबेल पूरी तरह नष्ट हो जाता है।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments