Tuesday, May 21, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutबाबा मनोहर नाथ मंदिर: 18 भुजी मां करती हैं कल्याण

बाबा मनोहर नाथ मंदिर: 18 भुजी मां करती हैं कल्याण

- Advertisement -
  • सूरजकुंड स्थित बाबा मनोहर नाथ मंदिर की प्राचीनता और ऐतिहासिकता है सदियों पुरानी

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: सूरजकुंड स्थित बाबा मनोहर नाथ मंदिर की प्राचीनता और ऐतिहासिकता सदियों पुरानी है। विशिष्ट आकार का शिवलिंग तो बरसों पुराना है ही माता की मूरत भी कई दशक पहले स्थापित की गई है और मंदिर का इतिहास सैकड़ों साल पुराना है। मंदिर की चौखट पत्थर की है और उस पर खूबसूरत नक्काशी आज भी दर्शनीय है। कहते हैं कि प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के दौरान क्रांतिकारियों ने यहीं बैठक की थी। इसके बाद औघड़नाथ मंदिर के लिए रवाना हुए थे।

27 4

महामंडलेश्वर पीठाधीश्वर श्रीश्री 108 नीलिमानंद महाराज बताती हैं बाबा मनोहर नाथ का इतिहास तो सैकड़ों साल पुराना है, पर मंदिर परिसर में मौजूद मां दुर्गा की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा लगभग 40 वर्ष पूर्व हुई। आमतौर पर दुर्गा मूर्ति अष्टभुजा वाली होती है, लेकिन मंदिर में विराजमान मां दुर्गा की मूर्ति 18 भुजी है। मंदिर में रहने वाली गुरु मां की माने तो पूरे मेरठ का यह एकमात्र मंदिर है जिसमें यह भव्य प्रतिमा स्थापित है। इसके अलावा मंदिर में दक्षिणमुखी काली मां की मूर्ति विराजित है।

माता करती हैं कल्याण

मंदिर में आठ वर्ष पूर्व ज्वाला जी से लाई गई अखंड ज्योति सदैव प्रज्ज्वलित रहती है। मान्यता है 45 दिन की अखंड ज्योत जलाने से हर मन्नत पूरी होती है। वहीं सच्चे मन से मांगी गई मुराद माता रानी पूरी करती हैं। दूर-दूर से श्रद्धालु नवरात्र में यहां आते हैं। नवरात्र में दुर्गा सप्तशती का भव्य पाठ होता है। अष्टमी व नवमी पर विशाल भंडारा होता है, जिसमें कन्याओं को जिमाया जाता है।

मां कालरात्रि की हुई आराधना सुबह से लगी मंदिरों में कतारें

चैत्र नवरात्र के सातवें दिन मां कालरात्रि की श्रद्धा और भक्ति भाव के साथ आराधना हुई। सदर स्थित काली माई मंदिर में विशेष अनुष्ठान हुए और मां जगदंबा के साथ में दिव्य स्वरूप के दर्शन को श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। तड़के से श्रद्धालु हाथ में पूजा की थाल लेकर माता के जयकारे लगाते हुए कतारों में लगे रहे।

शाम को ढोल नगाड़ों के साथ माता की आरती की गई। व्रतियों ने घर पर भी माता की भक्ति भाव से उपासना की। सदर काली माई मंदिर के पुजारी सोंकेत बनर्जी ने माता का भव्य शृंगार कर आह्वान किया। नव युगलों ने माता को नारियल चुनरी भेंट कर सुखी दांपत्य की कामना की। सोशल मीडिया के जरिए माता के लाइव दर्शन श्रद्धालुओं को कराए गए। लालकुर्ती स्थित श्रीरामा संकीर्तन मंदिर के तत्वावधान में श्रीराम नवमी पर्व के 23 दिवसीय कार्यक्रम के 20वें दिन नवरात्र महोत्सव में मां कालरात्रि का पूजन हुआ। रेनू दत्ता व शकुंतला ठाकुर ने श्मां भंडारे खोल बैठी खोलकर भर लो झोलियां भजन से मुग्ध कर दिया। पं. सूरज भट्ट ने विधि-विधान से पूजन किया। मंजू मारवाह, नवीना छाबड़ा, वीनू मिर्ग व सुषमा बत्रा का सहयोग रहा।

शहर भर के मंदिरों में सजा माता का दरबार

लालकुर्ती स्थित शक्ति धाम मंदिर में भगत नीरज मणि ने माता की भेंटे गाई। शाम को संकीर्तन में माता के जयकारों से श्रद्धालु भक्ति रस से सराबोर हुए सिविल लाइंस स्पोर्ट्स स्टेडियम के सामने स्थित मां बगलामुखी धाम यज्ञशाला में आचार्य प्रदीप गोस्वामी ने माता का आह्वान कर हवन यज्ञ में आहुतियां दी। उन्होंने बताया कि विश्व शांति और मानव कल्याण के लिए रोजाना हवन यज्ञ किया जा रहा है।

जागृति विहार सेक्टर-छह स्थित श्री बगुला धाम पीतांबरा पीठ मंदिर में श्रद्धा और भक्ति की धारा बही। आचार्य सुरेंद्र नाथ द्विवेदी मणि ने बताया कि मां बगलामुखी न्याय की राज सत्ता की देवी हैं, जो शत्रु का नाश करती हैं। सूरजकुंड स्थित बाबा मनोहर नाथ मंदिर में पीठाधीश्वर महामंडलेश्वर गुरु मा नीलीमानंद महाराज ने माता की स्तुति कर उनके दिव्य स्वरूप की व्याख्या की। गुरु मां ने बताया कि श्रीमद् भागवत कथा का भी वाचन चल रहा है शाम को कथा होगी। इसके अलावा मनसा देवी मंदिरए गोल मंदिरए झारखंडी महादेव मंदिर समेत शहर भर के देवी मंदिरों में श्रद्धालुओं ने माता के दर्शन मंगल कामना की।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments