Saturday, May 21, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -spot_img
HomeUttar Pradesh NewsMeerutबैंडबाजा, बरात की रौनक फिर से हुई फीकी

बैंडबाजा, बरात की रौनक फिर से हुई फीकी

- Advertisement -
  • मेहमानों की संख्या हुई कम तो होटलों में घटने लगे प्लेटों के आॅडर्र

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: दो साल से कोरोना के चलते बैंडबाजा और बरात की रौनक फीकी पड़ी हुई थी, लेकिन नवंबर में गूंजी शहनाई ने फिर से मंडप और बैंडबाजा कारोबारियों के चेहरों पर चमक ला दी थी। मगर अब कोरोना की तीसरी लहर ने एक बार फिर से पुराने वाले हालात लोगों के सामने लाकर खड़े कर दिए हैं।

बता दें कि खरमास के चलते एक माह से सहालग की धूम नहीं सुनाई दे रही थी, लेकिन संक्रांति के बाद से सहालग शुरू हो चुके हैं। मगर कोरोना काल में शादियों की रंगत फीकी हो गई हैं। शासन की ओर से शादियों को लेकर लगाए गए प्रतिबंधों की वजह से कुछ लोगों ने तो शादियों को आगे के लिए टाल दिया है तो कुछ साधारण तरीके से विवाह कार्य को सम्पन्न कराने में लगे हुए हैं।

ऐसे में बेटोें और बेटियों सहित माता-पिता के अरमान दिल में ही दफन होते दिखाई दे रहे हैं। शासन ने कोरोना की नई गाइडलाइन में मेहमानों की अधिकतम संख्या 100 निर्धारित कर दी है। इससे एक तरफ तो मेजबान व मेहमानों के उल्लास पर ग्रहण लगा तो वहीं कैटर्स, गाड़ियों व मैरिज हॉल के मालिकों को मायूसी हाथ लग रही है। तक्षशिला निवासी मनोज ने बताया कि उनकी बेटी की शादी आगामी 19 फरवरी को है, मगर शासन की गाइडलाइन के मुताबिक अब मेहमानों की संख्या में कमी कर दी गई है। इसलिए वह शादी को सीमित लोगों में करने की तैयारी में है ताकि कोरोना संक्रमण से बचाव हो सके।

बैंडबाजा और कैटर्स में मायूसी

बैंडबाजा और कैटर्स के व्यवसाय से जुड़े लोगों को नए साल में व्यवसाय बढ़ने की उम्मीद थी, लेकिन कोरोना की तीसरी लहर ने इस पर एक बार फिर से पानी फेर दिया है। बैंडबाजा की रौनक जहां अब फीकी पड़ती नजर आ रही है। वहीं, लोगों की ओर से मेहमानों की संख्या कम होने से कैटर्स के आॅडर भी कम हो रहे हैं।

90 दिन शादियों के शुभ मुहूर्त

नए साल 2022 में करीब नौ दिन शादियों के शुभ मुहूर्त है। जिसमें जिले के करीब पांच हजार घरों में शादियों का आयोजन होना था। मकर संक्रांति के बाद से खरमास खत्म हो गया है और शादियां शुरू हो चुकी है। ज्योतिषाचार्य विष्णु शास्त्री बताते है कि 26 फरवरी से 26 मार्च तक गुरु तारा अस्त हो जाएगा और 14 मार्च से 14 अप्रैल तक मीन खरमास रहेगा। जिसकी वजह से वैवाहिक कार्यक्रम नहीं होंगे। 15 अप्रैल से शुभ मुहूर्त शुरू होंगे।

विवाह के शुभ मुहूर्त

जनवरी: 15, 20, 21, 22, 23, 24, 25, 26, 27, 28, 29

फरवरी: 4, 5, 6, 9, 10, 11, 16, 19, 20

अप्रैल: 15, 16, 17, 18, 19, 20, 21, 22, 23, 27

मई: 2, 3, 4, 9, 10, 11, 12, 13, 14, 15, 17, 18, 19, 20, 21, 24, 25, 26, 31

जून: 1, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12, 13, 14, 15, 16, 17, 21, 22, 23

जुलाई: 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10

नवंबर: 24, 25, 26, 27, 28

दिसंबर: 2, 3, 4, 7, 8, 9, 14, 15, 16

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -
spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments