Friday, December 9, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutमेरठ में भी भारतीय किसान यूनियन दो फाड़

मेरठ में भी भारतीय किसान यूनियन दो फाड़

- Advertisement -
  • किसानों को समस्याओं पर चर्चा को भाकियू की सभा
  • विभिन्न मांगों को लेकर एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: भारतीय किसान यूनियन के नेताओं ने 26 तारीख को लखनऊ इको मैदान में होने वाली किसान महापंचायत को लेकर के चौधरी चरण सिंह पार्क कमिश्नरी में भारतीय किसान यूनियन की एक सभा का आयोजन किया गया। जिसमें किसान नेताओं ने लखनऊ घेरने की रणनीति तैयार की।

सभा में मेरठ जनपद प्रभारी अशोक घटायन व पश्चिमी उत्तर प्रदेश के संगठन मंत्री राजकुमार करनावल ने कहा कि लखनऊ होने वाली महापंचायत में किसानों की समस्याओं को लेकर ऐतिहासिक महापंचायत होगी। जिसमें चौधरी राकेश टिकैत महापंचायत को संबोधित करेंगे। उन्होंने कहा कि सरकार ने जो चुनावी वादे किए थे, उनको भूल गई है। आरोप लगाया गया कि किसानों पर गन्ने की पत्ती जलाने के झूठे मुकदमे किए जा रहे हैं।

किसानों के नलकूप कनेक्शन पर मीटर लगाए जा रहे हैं। बकाया गन्ने का भुगतान अभी तक नहीं हुआ। नया सत्र चल गया है, लेकिन गन्ने का समर्थन मूल्य घोषित नहीं हुआ। भारतीय किसान यूनियन नेताओं ने कहा कि 25 तारीख की शाम को लखनऊ के लिए नौचंदी एक्सप्रेस से कूच करेंगे। जिला उपाध्यक्ष अशफाक प्रधान जैनपुर ने कहा कि किसान पूरी तैयारी से साथ लखनऊ कूच करेगा।

भारतीय किसान यूनियन पदाधिकारियों ने रेलवे के कोच की सुविधा शासन से उपलब्ध कराने की मांग भी की। सभा की अध्यक्षता शोसिंह और संचालन उपेंद्र प्रधान भराला ने किया। रविन्द्र दौरालिया, मा. जगसोरन, एनसीआर महासचिव मनोज त्यागी, सोहित चौधरी, मोनू, हरिंदर बना, प्रशांत सकौती, सुभाष मलिक, उज्जवल, सतीश, इलम सिंह, अमरीश, मेराज मलिक आदि ने विचार रखे।

इसके अलावा भाकियू नेता राजकुमार करनावल और भाकियू मेरठ प्रभारी अशोक घटायन के साथ किसान डीएम से कैंप कार्यालय में मिले। मेरठ कॉलेज में छात्रों के चल रहे धरने को लेकर डीएम कैंप कार्यालय में भी भारतीय किसान यूनियन नेता मिले।

भारतीय किसान यूनियन नेताओं ने कहा कि गन्ने की पत्ती जलाने को लेकर यदि किसानों पर मुकदमे दर्ज किए गए, तो बहुत बड़ा आंदोलन होगा। उन्होंने कहा कि किसानों को डराया न जाए। भारतीय किसान यूनियन नेताओं ने कहा कि मेरठ कॉलेज में किसान मजदूर देहात के बच्चे पढ़ने आते हैं। इनको लेकर के हॉस्टल बंद न किया जाए, अन्यथा आंदोलन किया जाएगा।

किसानों की समस्याओं को लेकर भाकियू की पंचायत

सरधना: मंगलवार को भाकियू टिकैत द्वारा जंगेठी गांव में पंचायत का आयोजन किया गया। जिसमें संगठन ने किसानों की विभिन्न समस्याओं को लेकर चर्चा की। उन्होंने मुख्यमंत्री के नाम संबोधित एक ज्ञापन एसडीएम को सौंपा। संगठन द्वारा जंगेठी गांव में प्रदेश महासचिव सतबीर सिंह के फार्म हाउस पर पंचायत का आयोजन किया। जिसमें उन्होंने मुख्य रूप से बकाया गन्ना भुगतान कराने और शीघ्र गन्ना मूल्य घोषित करने की मांग की। साथ ही गन्ने की पत्ती अवशेष आदि जलाने पर किए गए मुकदमे वापस लेने की मांग की।

खेतों में घूम रहे आवारा पशुओं का समाधान करने की मांग भी रखी। वक्ताओं ने कहा कि आज किसान चारों से परेशान है। किसानों का बकाया गन्नाभुगता नहीं हो रहा है। मिल चालू हो गए हैं और गन्ना मूल्य घोषित नहीं किया गया है। आवरा पशु खेतोें में खड़ी फसल का नुकसान पहुंचा रहे हैं। विभिन्न मांगों को लेकर संगठन के लोगों ने मुख्यमंत्री के नाम संबोधित एक ज्ञापन एसडीएम सत्यप्रकाश को सौंपा।

पंचायत की अध्यक्षता रंजीत सिंह छुर ने की। युवा जिलाध्यक्ष अनुराग चौधरी व अंकित डांगी ने संचालन किया। इस मौके पर देशपाल हुड्डा, विनेश प्रधान, मनोज खत्री, विनय फौजी,नरेश मवाना, रामबोस दबथुवा, जगबीर दबथुवा, प्रमोद मास्टर, मोनू टीकरी, सोनू, सुरेंद्र, बबलू सिसौला, धीर सिंह, हर्ष चहल, तेजपाल आदि मौजूद रहे।

भाकियू जिले में भी दो गुटों में बटी

मेरठ: भारतीय किसान यूनियन जनपद में भी दो गुटों में बट गई है। जहां मंगलवार को एक मीटिंग जिला प्रभारी ने कमिश्नरी पार्क में बुलाई थी, उसमें भारतीय किसान यूनियन का एक ग्रुप अपने समर्थकों के साथ पहुंचा। मीटिंग विधिवत रूप से चली, लेकिन बड़ा सवाल यह है कि दूसरा भारतीय किसान यूनियन टिकैत का गुट जंगेठी में मीटिंग कर रहा था।

जंगेठी गांव के फार्म हाउस में मीटिंग कर रहा था। दोनों ही गुटों में भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता बड़ी तादाद में पहुंचे, लेकिन बड़ा सवाल ये है कि भारतीय किसान यूनियन में जिस तरह से तोड़फोड़ चल रही है, उसके बावजूद भी जिला स्तर पर संगठन एकजुट नहीं है और अलग-अलग स्थानों पर दो मीटिंग यही साबित कर रही है।

किसान यूनियन की कमिश्नरी चौराहे पर बैठक में 26 को लखनऊ में होने वाली वाले आंदोलन की तैयारियों पर विचार करने और जिम्मेदारी सौंपने के सिलसिले में बुलाई गई थी। ठीक इसी तरह से जंगेठी फार्म हाउस में भी किसान यूनियन के पदाधिकारियों की मीटिंग चली, उसमें भी आंदोलन में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने का आह्वान किया गया।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments