Saturday, April 17, 2021
- Advertisement -
HomeCoronavirusकोरोना की रफ्तार तेज़: खतरनाक हो रही दूसरी लहर, जानें इन राज्यों...

कोरोना की रफ्तार तेज़: खतरनाक हो रही दूसरी लहर, जानें इन राज्यों का हाल

- Advertisement -
0

जनवाणी ब्यूरो |

नई दिल्ली: इसे लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी चेताया है और कहा है कि जरा सी लापरवाही खतरनाक साबित हो सकती है। कुल मिलाकर कोरोना को दूसरी लहर के बीच चिंताजनकर तस्वीर उभरकर सामने आ रही है। आंकड़ा 60 हजार के पार जा चुका है। सक्रिय केस लगातार बढ़ रहे हैं। सबसे अधिक प्रभावित राज्य है महाराष्ट्र। देश में 10 जिलों में सबसे ज्यादा सक्रिय केस हैं।

इनमें महाराष्ट्र के ही आठ जिले हैं। पुणे में 59475, मुंबई में 46248, नागपुर में 45322, ठाणे में 35264, नासिक में 26553, औरंगाबाद में 21282, बंगलूरू में 16259, नांदेड में 15171, दिल्ली में 8032 और अहमदनगर में 7952 सक्रिय मरीज हैं। इसके मद्देनजर अब कई राज्य और सख्त कदम उठा रहे हैं।

12 राज्यों से उत्तराखंड आने वाले साथ लाएं कोविड नेगेटिव रिपोर्ट          

उत्तराखंड में एक अप्रैल से दिल्ली सहित 12 राज्यों से आने वालों लोगों को असुविधा से बचने के लिए 72 घंटे की नेगेटिव आरटीपीसीआर रिपोर्ट भी साथ रखनी होगी। राज्य में संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए प्रदेश सरकार ने इन लोगों को यह सलाह दी है।

इसके लिए संबंधित जिला प्रशासन को रेलवे स्टेशन, हवाई अड्डों और सीमा की चौकियों पर रैंडम परीक्षण और टेस्टिंग का आदेश दिया गया है। वहीं, हरिद्वार में आयोजित महाकुंभ के लिए 72 घंटे की आरटीपीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट की अनिवार्यता लागू है।

प्रदेश में कोरोना के बढ़ रहे मामलों की मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने समीक्षा की थी और अधिकारियों से उच्च संक्रमण दर वाले राज्यों से आने वालों का परीक्षण करने को कहा था। मुख्य सचिव ओम प्रकाश की ओर से इन राज्यों से आने वालों को 72 घंटे की आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट साथ लेकर आने की सलाह दी गई। आदेश में दिल्ली समेत 12 राज्यों से आने वालों के साथ ही प्रदेश के लोगों को भी सामाजिक दूरी, मास्क पहनने और हाथों को साफ रखने के नियम का पालन करने की हिदायत दी गई है।

होली के दिन कम जांच के बावजूद 56 हजार से ज्यादा संक्रमित               

होली के दिन कम जांच के बावजूद देश में 56 हजार से ज्यादा संक्रमित मिले थे। सामान्य दिनों में 11 लाख सैंपल की जांच हो रही थी, जिनमें पांच फीसदी संक्रमित मामले मिल रहे थे। होली के दिन चार लाख कम जांच हुई। लगातार 20वें दिन मामलों में वृद्धि के चलते सक्रिय मामलों की संख्या 5,40,720 हो गई है। इसी के साथ देश में कुल मामले बढ़कर 1,20,95,855 हो गई है। इनमें से 1,62,114 की मौत हुई है।

आईआईएम अहमदाबाद में 70 पॉजिटिव                                              

भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम) अहमदाबाद में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 70 हो गई है। अहमदाबाद नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी मेहुल आचार्य ने बताया कि रविवार को यहां 45 छात्र, अध्यापक और स्टाफ के सदस्य संक्रमित मिले थे जिनकी संख्या मंगलवार को बढ़कर 70 हो गई। सभी संक्रमितों को क्वारंटीन कर दिया गया है। आईआईएम के डॉक्टरों और हमारी टीम पॉजिटिव मिले लोगों की नियमित निगरानी कर रही है।

मुंबई के निजी अस्पतालों में 80 फीसदी बेड आरक्षित                              

मुंबई में निजी अस्पतालों के 80 फीसदी बेड और आईसीयू कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित कर दिए गए हैं। साथ ही बीएमसी ने निजी अस्पतालों को अपने अधिकार में ले लिया है। राज्य सरकार ने 80 फीसदी ऑक्सीजन अस्पतालों में और 20 फीसदी ऑक्सीजन उद्योगों को देने की अधिसूचना जारी की है।

यह 30 जून तक प्रभावी रहेगा। मंत्री असलम शेख ने मंगलवार को बताया कि बीएमसी के पास 16 हजार से अधिक बेड हैं जिसमें से 4 हजार बेड खाली हैं। कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए निजी अस्पतालों में बेड आरक्षित किए गए हैं। निजी अस्पताल बीएमसी को बिना बताए मरीज भर्ती नहीं कर सकते। अगर, मरीजों को भर्ती करने संबंधी निर्देशों का पालन नहीं किया तो सख्त कार्रवाई की जाएगी।

पंजाब सरकार ने पाबंदियों की अवधि बढ़ाई                                         

पंजाब सरकार ने कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने से रोकने के लिए मंगलवार को पाबंदियों की अवधि बढ़ा दी और अब स्कूल एवं कॉलेज अगले दस दिनों तक और बंद रहेंगे। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने जांच और कोरोना वायरस टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाने का भी आदेश दिया। उन्हें अधिकारियों ने बताया कि मध्य मई तक ही रोजाना मामलों में गिरावट आने की उम्मीद है।

एक बयान के अनुसार, मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को सचल टीकाकरण केंद्रों की स्थापना के लिए स्थानों की पहचान करने का भी निर्देश दिया। पंजाब सरकार ने 19 मार्च को सिनेमाघरों, मॉलों एवं सामाजिक कार्यक्रमों में लोगों के जमावड़े पर पाबंदी के साथ साथ शैक्षणिक संस्थानों को इस माह के आखिर तक बंद रखने का आदेश दिया था।

पंजाब में कोविड-19 से 65 और लोगों की मौत                                     

कोविड-19 से पंजाब में पिछले 24 घंटों में 65 और लोगों की मौत हो गई, जिसके साथ राज्य में कुल मृतक संख्या बढ़ कर मंगलवार को 6,813 पर पहुंच गई। राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण के 2,210 नये मामले भी सामने आए हैं। इसके मुताबिक राज्य में अभी कोविड-19 के 23,731 उपचाराधीन मरीज हैं। नये मामलों में सर्वाधिक मामले अमृतसर से हैं, जिनकी संख्या 331 है। लुधियाना में 329, जालंधर में 310 और मोहाली में 273 नये मामले सामने आए।

वहीं, होशियारपुर जिले में 10, लुधियाना में सात और जालंधर में सात मरीजों की मौत हो गई है। इस बीच, केद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ ने एक मेडिकल बुलेटिन में कहा है कि शहर में कोविड-19 के दो और मरीजों की मौत हो गई है।

मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण के 2173 नए मामले सामने आए

मध्य प्रदेश में मंगलवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 2173 नए मामले सामने आए और इसके साथ ही प्रदेश में इस वायरस से अब तक संक्रमित पाए गए लोगों की कुल संख्या 2,93,179 तक पहुंच गयी। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी ।

अधिकारी ने बताया कि राज्य में पिछले 24 घंटों में इस बीमारी से प्रदेश में 10 और लोगों की मौत हुई है, जिसके बाद प्रदेश में अब तक इस बीमारी से मरने वालों की संख्या 3,977 हो गयी है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में मंगलवार को कोविड-19 के 628 नये मामले इंदौर में आये, जबकि भोपाल में 497 एवं जबलपुर में 148 नये मामले आये।

औरंगाबाद में लॉकडाउन लगाने का फैसला टाला                                  

महाराष्ट्र के औरंगाबाद में लॉकडाउन लगाने का फैसला फिलाहल रोक दिया गया है। इसे 31 मार्च को लागू होना था। औरंगाबाद के जिला कलेक्टर ने कहा कि हमने सरकार को इस संबंध में एक प्रस्ताव सौंपा है जिसमें नई गाइडलाइंस के बारे में जानकारी दी गई है।

गुजरात के चार शहरों में जारी रहेगा रात्रि कर्फ्यू                                      

गुजरात सरकार ने कहा है कि वो 30 अप्रैल तक केंद्र के दिशा-निर्देशों को लागू रखेगी। इसके अलावा चार मेट्रो शहरों अहमदाबाद, वडोदरा, सूरत और राजकोट में रात्रि कर्फ्यू 15 अप्रैल तक जारी रहेगा।

गुजरात सरकार ने चार शहरों में लागू रात का कर्फ्यू और 15 दिन यानी 15 अप्रैल तक बढ़ा दिया। एक आधिकारिक विज्ञप्ति में बताया गया है कि अहमदाबाद, सूरत, वडोदरा और राजकोट में लागू रात का कर्फ्यू अब 15 अप्रैल तक रात नौ बजे से सुबह छह बजे तक प्रभावी रहेगा।

इसमें कहा गया है कि सरकार ने जांच, संक्रमितों के सम्पर्क में आये व्यक्तियों का पता लगाने और उपचार एवं अन्य उपायों पर केंद्र के दिशानिर्देशों को लागू करने को भी 30 अप्रैल तक बढ़ा दिया है। कोविड-19 मामलों में वृद्धि के कारण सरकार ने गत 16 मार्च को रात के कर्फ्यू के समय में दो घंटे की वृद्धि की थी जो पिछले साल नवंबर से लागू है।

स्थानीय अधिकारियों ने बाद में उस समय को एक और घंटे बढ़ाने का फैसला किया। रात का कर्फ्यू 31 मार्च तक लागू रहना था। गुजरात में मंगलवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 2,220 नए मामले सामने आए।

यूपी में कक्षा आठ तक के सभी स्कूल चार अप्रैल तक बंद                      

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश में कोविड संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए कक्षा आठ तक के सभी सरकारी और निजी विद्यालयों को अब चार अप्रैल तक बंद रखने के आदेश दिए हैं।

राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने मंगलवार को बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उच्च स्तरीय बैठक में कोविड-19 संक्रमण की स्थिति की समीक्षा करते हुए कहा कि चूंकि राज्य में संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं इसलिए कक्षा आठ तक के सभी सरकारी तथा निजी स्कूलों को बंद रखने की अवधि 31 मार्च से बढ़ाकर चार अप्रैल कर दी जाए।

उन्होंने कहा कि अन्य विद्यालयों में कोविड प्रोटोकॉल का पूर्ण पालन सुनिश्चित कराया जाए। मुख्यमंत्री ने कोविड-19 के मद्देनजर प्रदेश में पूरी सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना जांच का कार्य पूरी क्षमता से संचालित किया जाए।

छत्तीसगढ़ में दुकानों के खुलने का समय निर्धारित                               

छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए राजधानी रायपुर समेत प्रदेश के कई जिलों में जिला प्रशासन ने रात में दुकानों को नहीं खोलने का आदेश जारी किया है जबकि कई अन्य जिलों में रात में कर्फ्यू लगाने का फैसला किया गया है। अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी।

रायपुर जिले के जनसंपर्क विभाग के अधिकारियों ने बताया कि कलेक्टर एस भारतीदासन ने कोरोना वायरस संक्रमण के रोकथाम के लिए जिले के सभी नगरीय निकायों सहित नगर निगम रायपुर और बीरगांव के सीमा क्षेत्र के भीतर स्थित व्यापारिक प्रतिष्ठानों को निर्धारित समय में खुला रखने का आदेश जारी किया है।

आदेश के अनुसार सभी प्रकार की स्थायी और अस्थायी दुकानें सुबह छह बजे से रात नौ बजे तक तथा इंडोर डायनिंग वाले रेस्टोरेंट, होटल और ढाबा सुबह आठ बजे से रात्रि 10 बजे तक संचालित किए जा सकेंगे और वहीं टेक-अवे व होम डिलीवरी वाले रेस्टोरेंट, होटल और ढाबा रात 11.30 तक डिलीवरी की सुविधाएं दे सकेंगे।

आंध्र प्रदेश में कोरोना वायरस के कुल मामले नौ लाख से अधिक हुए       

आंध्र प्रदेश में कोविड-19 संक्रमण की दूसरी लहर के बीच मंगलवार को कोरोना वायरस के 993 नए मरीजों के सामने आने के बाद राज्य में इस महामारी के कुल मामले नौ लाख के पार चले गए। स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि प्रदेश में अब कोरोना वायरस के कुल मामले 9,00,805 हो गए।

आंध्र प्रदेश में पिछले साल 23 अक्टूबर को कोरोना वायरस के मामले आठ लाख तक पहुंचे थे जो अब 158 दिन बाद नौ लाख हो गए।  स्वास्थ्य विभाग के बुलेटिन के अनुसार कोविड-19 के 480 मरीजों ने संक्रमण को मात दी है जबकि सुबह नौ बजे खत्म हुए 24 घंटों में तीन मरीजों की मौत हुई।

उसमें बताया गया है कि राज्य में संक्रमण से 8,86,978 मरीज संक्रमण मुक्त हो चुके हैं जबकि वायरस 7,213 लोगों की जान ले चुका है।

कर्नाटक में कोरोना वायरस संक्रमण से 21 मरीजों की मौत                    

कर्नाटक में मंगलवार को कोविड-19 के 2,975 नए मामले सामने आने के साथ ही राज्य में संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 9,92,779 तक पहुंच गई। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, इसी अवधि में राज्य में  कोविड-19 के 21 मरीजों की मौत हो गई, जिसके बाद मृतक संख्या बढ़कर 12,541 हो गई।

विभाग के अनुसार, मंगलवार को 1262 मरीजों को स्वस्थ होने पर अस्पतालों से छुट्टी दी गयी जिसके साथ ही अबतक 9,54,678 रोगी संक्रमणमक्त हो चुके हैं। राज्य में मंगलवार को कोविड-19 के 1,06,917 परीक्षण किये हैं। अब तक 2,13,02,658 नमूनों की कोरोना वायरस जांच हुई । अकेले बंगलुरु (शहर) में आज कोविड-19 के 1,984 नये मरीज सामने आए।

कोविड रोधी टीके की 6.24 करोड़ से अधिक खुराकें दी गईं                 

देश में कोविड-19 रोधी टीके की 6.24 करोड़ से ज्यादा खुराकें दी जा चुकी हैं। मंगलवार को ही 12,94,979 खुराकें दी गई। यह जानकारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की अस्थायी रिपोर्ट के मुताबिक, 82,00,007 स्वास्थ्य कर्मियों को टीके की पहली खुराक दी गई है जबकि 52,07,368 स्वास्थ्य कर्मियों को टीके की दूसरी खुराक दी गई है। इसी तरह अग्रिम पंक्ति के 90,08,905 कर्मियों को टीके की पहली खुराक लगाई गई है जबकि 37,70,603 अग्रिम पंक्ति के कर्मियों को टीके की दूसरी खुराक दी गई है।

60 वर्ष से अधिक उम्र के 2,90,20,989 लोगों को कोविड-19 रोधी टीके की पहली खुराक दी गई है। इस आयु वर्ग के 36,899 लोगों को टीके की दूसरी खुराक दी जा चुकी है। मंत्रालय ने बताया कि गंभीर बीमारियों से पीड़ित 45-60 वर्ष की आयु के 71,58,657 लोगों को टीके की पहली खुराक और इस श्रेणी के 4905 लोगों को टीके की दूसरी खुराक दी गई है।

उसने बताया कि मंगलवार शाम सात बजे तक 12,94,979 टीके की खुराकें दी गई हैं। यह राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान शुरू होने का 74वां दिन है जो 16 जनवरी को शुरू हुआ था। शाम सात बजे तक की अस्थायी रिपोर्ट के मुताबिक, इनमें से 11,77,160 लाभार्थियों को टीके की पहली खुराक लगाई गई है जबकि 1,17,819 लोगों को टीके की दूसरी खुराक दी गई है।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments