Tuesday, July 27, 2021
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutबारिश से लोहे के मुख्य गेट में उतरा करंट, तीन की मौत

बारिश से लोहे के मुख्य गेट में उतरा करंट, तीन की मौत

- Advertisement -
  • पिता और दो पुत्रों की मौत से परिवार में मचा कोहराम

जनवाणी संवाददाता |

परीक्षितगढ़: सोमवार सुबह ऐंची खुर्द गांव में मकान के मुख्य दरवाजे में बिजली का करंट उतरने से तीन लोगों की जान चली गई। पहले पिता की मौत हुई तथा पिता को बचाने के प्रयास में दो बेटों की मौत हो गई। जिससे परिवार में कोहराम मच गया। पुलिस ने शवों का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

थाना क्षेत्र के ऐंची खुर्द निवासी पूरन गिरी (45) पुत्र शौराज गिरी सोमवार सुबह करीब चार बजे घर का मुख्य दरवाजा खोलने गया था। उस समय बारिश हो रही थी। दरवाजे के बराबर से ही बिजली के मीटर का तार गया हुआ है। बताया गया है कि बिजली के मीटर के तार में कट था।

यह तार लोहे के मेन गेट से टच हो गया। लोहे के दरवाजे में बिजली का करंट उतरने से किसान पूरन गिरी को चपेट में ले लिया। उसके बाद उसका पुत्र निखिल गिरी (21) व आशुतोष (18) पिता को बचाने के प्रयास में करंट की चपेट में आने से तीनों की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई, जिसके बाद बिजली का तार स्पॉकिंग करते हुए टूट गया। घर में बंधे दो पशु भी करंट की चपेट में आने से मौत हो गई।

एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत की सूचना पर ग्रामीणों की मौके पर भीड़ जुट गई तथा शासन-प्रशासन में हड़कंप मच गया। घटनास्थल पर हस्तिनापुर विधायक दिनेश खटीक, एसडीएम मवाना कमलेश गोयल, सीओ किठौर ब्रिजेश कुमार, ब्लॉक प्रमुख ब्रह्मसिंह ने पीड़ित परिजनों को सांत्वना दी।

एसडीएम मवाना ने शासन की ओर से परिवार को 10 लाख रुपये, विधायक दिनेश खटीक ने दो लाख रुपये एवं ब्लॉक प्रमुख ने एक लाख रुपये आर्थिक मदद की घोषणा की। पुलिस ने शवों का पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

एक साथ उठी तीन अर्थी, हर आंख हुई नम

मौत कब किस को अपने आगोश में ले ले कुछ कहा नहीं जा सकता है। एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत पर गांव में कोहराम मच गया। तीन अर्थियां एक साथ उठी तो हर किसी की आंखें नम हो गई। हर कोई आहत दिखा। इतना बड़ा हादसा हुआ, पूरा गांव स्तब्ध है।

पूरन की पत्नी कृष्णा व उसका बड़ा बेटा नितिन पिता व अपने भाइयों के शवों से लिपटकर रो-रो रहे थे। परिवार के लोग ही नहीं, बल्कि पूरा गांव दुख: था। पोस्टमार्टम के बाद तीनों शव गांव में लाये गए, जिसके बाद गमगीन माहौल में अंतिम संस्कार किया गया।

क्षेत्र के ऐंची खुर्द गांव में हुई इस दर्दनाक घटना ने लोगों को झकझोर दिया। सोमवार सुबह इस परिवार के लिए मुसीबत लेकर आई। पूरन गिरी के परिवार की तीन जिंदगी पल भर में खत्म हो गई। लोहे के गेट में उतरे बिजली के करंट ने पहले पूरन गिरी की जान ली।

दूसरे नंबर का बेटा निखिल चपेट में आ गया। पिता और भाई को बचाने के प्रयास में सबसे छोटा बेटा आशुतोष भी जान गंवा बैठा। परिवार में तीन लोगों की मौत के बाद अब मां और बड़ा बेटा ही बचा है। दरअसल, घर में बिजली के मीटर का केबल लोहे के मुख्य गेट के ऊपर से जा रहा था।

बारिश के कारण करंट मुख्य गेट में उतर आया। जहां दो पशु चपेट में आ गए। पहले पूरन गिरी लोहे के गेट की चपेट में आए। पिता को बचाने के लिए बेटा निखिल भी चपेट में आ गया। तभी सबसे छोटा बेटा आशुतोष भी दौड़कर गेट की तरफ भागा तो वह भी करंट की चपेट में आ गया। पूरन की पत्नी कृष्णा की चीख सुनकर पड़ोसियों की भीड़ जमा हो गई। तभी लोहे के गेट में चिंगारी उठने लगी।

कई लोग गेट की ओर दौड़े, लेकिन चिंगारी उठती देख पीछे हट गए। तभी पड़ोसी बागेश ने लाठी से मीटर का तार तोड़ दिया। यदि बागेश जान बचाने के लिए नहीं आता तो आस पड़ोस के कई लोग भी करंट की चपेट में आ सकते थे।

तीन घंटे बाद पहुंचे ऊर्जा निगम के एक्शन

घटना की खबर लगने पर हस्तिनापुर विधायक दिनेश खटीक सुबह ही मौके पर पहुंच गए और पीड़ित परिवार के लोगों को सांत्वना देते हुए फोन पर विद्युत विभाग के एक्शन प्रवीण कुमार को जानकारी देते हुए मौके पर बुलाने की बात कही। घटना की खबर लगने पर एसडीएम मवाना भी पहुंच गए।

तीन घंटे तक हस्तिनापुर विधायक व एसडीएम एक्शन प्रवीन कुमार का इंतजार करते रहे, लेकिन एक्शन मौके पर आने से कतराते रहे। दो बार एक्शन को फोन करने के बाद करीब तीन घंटे बाद एक्शन मौके पर पहुंचे। जिस पर विधायक ने एक्शन से नाराजगी जताते हुए पीड़ित परिवार के लोगों को आर्थिक मदद दिलाने की मांग की।

परिवार में बचा मात्र एक ही सहारा

कल तक पूरन व उसके तीन बेटों के साथ परिवार हंसता खिलता हुए था, लेकिन सोमवार सुबह पूरन के परिवार पर कहर बरस गया तथा पूरन व उसके दो बेटों की मौत पर तीसरा पुत्र नितिन ही मां का सहारा बचा है। मृतक पूरन की पत्नी कृष्णा का रो-रोकर बुरा हाल बना हुआ है। कृष्णा कभी पति के शव से तो कभी दोनों पुत्रों के शवों से लिपट-लिपटकर रो रही थी।

बिजली का केबल ही बना परिवार का काल

पूर्ण सिंह ने घर पर बिजली आपूर्ति के लिए गेट के पीछे केबल खींचा हुआ था। रात से लगातार हो रही बारिश से केवल में हुए फाल्ट से गेट में करंट उतर गया। करंट दौड़ने से पास में ही एक पशु चपेट में आ गया। जिसके बाद एक के बाद एक तीनों एक-दूसरे को बचाने के प्रयास में जान खो बैठे। परिवार व पूरे क्षेत्र में इस घटना से मातम पसरा हुआ है।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments