Thursday, April 25, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutरैन बसेरों में अव्यवस्थाएं हावी

रैन बसेरों में अव्यवस्थाएं हावी

- Advertisement -
  • सीएम ने लिया संज्ञान तो दौड़े अधिकारी, डीएम दीपक मीणा ने किया देर रात औचक निरीक्षण
  • शेरगढ़ी रैन बसेरे के केयर टेकर को हटाया
  • नगर स्वास्थ्य अधिकारी ने रात के समय किया विभिन्न रैन बसेरों का निरीक्षण

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: रैन बसेरों को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश भर के नगर निगम अफसरों को फटकार लगाई, जिसके बाद ही निगम अफसरों ने रैन बसेरों की दौड़ लगा दी। अव्यवस्थाएं इतनी हावी हैं कि नगर निगम अफसरों ने रैन बसेरों की तरफ से आंखें मूंद ली हैं। इसको लेकर ‘जनवाणी’ ने खबर भी प्रकाशित की थी। खिड़की के शीशे टूटे पड़े हैं, जिनको सर्दी से पहले ठीक नहीं कराया गया, उन पर अब बोरे लटका कर हवा रोकी जा रही हैं।

अव्यवस्थाएं इतनी हैं, लेकिन ध्यान निगम अफसर नहीं दे रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश भर के रैन बसेरों को लेकर आदेश जारी किये तो इसके बाद ही निगम अफसरों की नींद टूटी और रेन बसेरों का निरीक्षण किया। जिसमें शेरगढ़ी स्थित रैन बसेरे के केयरटेकर अनिकेत को लापरवाही और बाहरी लोगों के साथ पाए जाने पर उसको हटा दिया गया। इसके अलावा बच्चा पार्क स्थित रैन बसेरा की टूटी खिड़कियों की मरम्मत करने के आदेश दे दिए गए हैं।

उधर, देर रात डीएम दीपक मीणा ने भी शहर के कई रैन बसेरों का औचक निरीक्षण कर व्यवस्था परखी। डॉ. हरपाल सिंह ने बताया उन्होंने टाउन हॉल, बच्चा पार्क, शेरगढ़ी, हापुड़ रोड, भैंसाली बस स्टैंड समेत नौ रैन बसेरों का निरीक्षण किया। अधिकांश जगह पर लोग विश्राम करते हुए मिले और लोगों को ठंड से बचाने के लिए अलाव की व्यवस्था मिली। इन सभी के आधार कार्ड और मोबाइल नंबर रजिस्टर में दर्ज पाए गए।

04 7

उन्होंने बताया कि शेरगढ़ी स्थित रेन बसेरा में अलाव नहीं जल रहा था। वहां तैनात किए गए केयरटेकर अनिकेत को बाहरी लोगों के साथ पाया गया। इस लापरवाही के चलते अनिकेत को ड्यूटी से हटाकर ठेकेदार को रिपोर्ट करने के लिए कहा गया है। उन्होंने बताया बच्चा पार्क स्थित रेन बसेरा में अंदरूनी स्थिति ठीक मिली। जबकि बाहरी भवन की खिड़कियों के कांच आदि क्षतिग्रस्त पाए गए जिन्हें ठीक कराने के निर्देश जारी किए गए हैं।

बिजली विभाग ने छापेमारी कर 10 जगह बिजली चोरी पकड़ी

मेरठ: लगातार बिजली चोरी की शिकायते मिलने के बाद विद्युत विभाग ने भारी लावलश्कर के साथ लिसाड़ीगेट इलाके में छापेमारी कर दस जगह बिजली चोरी पकड़ी। इनमें से नौ मामले ऐसे है जिनमें उपभोक्ताओं का कनेशन काटा गया है बावजूद इसके वह चोरी से बिजली जलाते पाए गए। जबकि एक जगह तारों पर कटिया डालकर विद्युत चोरी होती पाई गई। शनिवार को बिजली विभाग की टीम लावलश्कर के साथ लिसाड़ीगेट क्षेत्र में छापेमारी करने पहुंची।

विभाग को ऐसे नौ बिजली कनेक्शन चलते पाए गए जिन्हें काट दिया गया था। विभाग ने इस तरह से विद्युत चोरी करने वाले उभोक्ताओं के खिलाफ पुलिस में एफअईआर दर्ज कराई है। जबकि एक कनेक्शन सीधे तारों पर कटिया डालकर चलाया जाता पाया गया। इसके खिलाफ भी एफआईआर दर्ज कराई गई है। साथ ही विभाग इन सभी विद्युत चोरो के खिलाफ जुर्माना निर्धारित करने जा रहा है। एक सप्ताह में सभी के खिलाफ कार्रवाई होगी।

पिलौना में पट्टों की भूमि पर तामीर है इंटर कालेज के हॉस्टल

फलावदा: पिलौना गांव स्थित महर्षि दयानंद इंटर कालेज के हॉस्टल पट्टों की भूमि पर तामीर किए गए है। पट्टेधारकों पर अनैतिक दबाव बनाया जा रहा है। यह आरोप ग्रामीणों ने सीएम से जनता दर्शन में की शिकायती में लगाया है। मुख्यमंत्री के विशेष कार्यकारी अधिकारी एसकेएस चौहान ने डीएम मेरठ को निर्देशित किया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जनता दर्शन में गत दिवस पिलौना के अमित कुमार पुत्र यतेंद्र पाल व राजवीर सिंह पुत्र योगेंद्र वीर तथा अंकित पुत्र मांगेराम द्वार की गई शिकायत में महर्षि दयानंद इंटर कालेज पिलौना के प्रधानाचार्य को भूमाफिया बताते हुए पट्टों का बैनामा कराकर हॉस्टल निमार्ण कराने का आरोप लगाया है। ग्रामीणों ने सीएम को बताया कि खसरा संख्या 268 में 44 पट्टे आवंटित हुए थे।

आरोप है कि सियासी असर रसूख और धन बल से प्रधानाचार्य ने नियम कायदे के खिलाफ अधिकांश पट्टों का बैनामा कराकर अवैध छात्रावास निर्माण करा रखे है। पट्टा धारकों पर अनैतिक दबाव बनाए जाने का भी आरोप प्रधानाचार्य पर लगाया गया है। ग्रामीणों ने पट्टों की भूमि पर अवैध निर्माण को ध्वस्त कराने तथा गांव में ग्राम समाज की कब्जाई गई भूमि मुक्त कराने की है।

इस प्रार्थना पत्र पर मुख्यमंत्री के विशेष कार्य अधिकारी एसकेएस चौहान ने जिलाधिकारी को निर्देशित किया है। वहीं, इस संबंध में प्रधानाचार्य बाबूराम धामा का कहना है कि करीब 20 बरस से स्कूल बना हुआ है, किसी दलित का पट्टा नहीं खरीदा गया है। शिकायतकर्ता अवैध वसूली के लिए दबाव बनाने की नियत से फर्जी आरोप लगाकर शिकायत कर रहे है। जांच में असलियत सामने आ जाएगी।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments