Tuesday, June 25, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutबच्चों को काबिल बनाने को करायी जा रही पढ़ाई

बच्चों को काबिल बनाने को करायी जा रही पढ़ाई

- Advertisement -
  • सभी टीचरों और शिक्षा मित्रों को अनिवार्य रूप से लेना होगा यह प्रशिक्षण
  • निपुण भारत मिशन के तहत डीआईओएस, बीएसएस व बीईओ का प्रशिक्षण पूरा

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: वक्त के साथ बच्चों की एडवांस पढ़ाई कराने से पहले मास्टर जी को खुद नयी तकनीक और शिक्षा नीति के अनुसार खुद को एडवांस करना होगा। इसी के चलते टीचरों को प्रदेश भर के सभी टीचरों व शिक्षा मित्रों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम जारी कर दिया गया है। दरअसल प्रदेश में निपुण भारत मिशन के तहत निर्धारित लक्ष्य को पाने के लिए बेसिक शिक्षा विभाग ने कवायद तेज कर दी है।

बच्चों में बुनियादी भाषायी व गणित में दक्षता के विकास के लिए 4.30 लाख शिक्षकों व शिक्षामित्रों को प्रशिक्षित किया जाएगा। इसके लिए 25 अक्तूबर से 10 दिसंबर तक अभियान चलाया जाएगा। निपुण लक्ष्य पाने के लिए शिक्षकों व ब्लॉक स्तरीय संदर्भदाताओं का प्रशिक्षित किया जाना आवश्यक है। इसके लिए शासन की ओर से डीआईओएस, बीएसए व बीईओ आदि का प्रशिक्षण पूरा किया जा चुका है।

इसी क्रम में अब प्राथमिक विद्यालय के सभी शिक्षकों व शिक्षामित्रों के प्रशिक्षण का कार्यक्रम तय किया गया है। जिससे वे विद्यार्थियों को निपुण बनाने के अभियान को गति दे सकें। इसके लिए ब्लॉक स्तरीय संदर्भदाताओं का प्रशिक्षण डायट स्तर पर 25 अक्तूबर से चार नवंबर के बीच होगा। वहीं, प्राथमिक विद्यालय के सभी शिक्षकों व शिक्षामित्रों का प्रशिक्षण ब्लॉक संसाधन केंद्र पर छह नवंबर से 10 दिसंबर के बीच होगा।

हर ब्लॉक में पांच एआरपी व सभी डायट मेंटर शामिल होंगे। इनको सीमैट प्रयागराज के संदर्भदाता प्रशिक्षण देंगे। प्रशिक्षण के सभी मद के लिए 28 करोड़ 90 लाख रुपये जारी किया गया है । महानिदेशक स्कूल विजय किरन आनंद के पत्र में कहा है कि शिक्षकों का बैच 50-50 का होगा। अगर शिक्षक अनुपस्थित मिलते हैं तो इसके लिए बीईओ जिम्मेदार होंगे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments