Tuesday, June 25, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutनौचंदी मेले को चुनाव आयोग की हरी झंडी

नौचंदी मेले को चुनाव आयोग की हरी झंडी

- Advertisement -
  • ज्येष्ठ दशहरे पर 10 जून से मेला शुरू कराने की तैयारी में जूटा प्रशासन

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: आखिरकार प्रांतीयकृत मेला नौचंदी के आयोजन को चुनाव आयोग की मंजूरी मिल गई है। सोमवार शाम इस संबंध में निर्वाचन कार्यालय से जिला प्रशासन को पत्र प्रेषित कर दिया गया है। इसी के साथ ज्येष्ठ दशहरा यानि 10 जून से मेला नौचंदी शुरू करने की तैयारियां शुरू हो गई हैं। मेला नौचंदी को लेकर पुरानी रिवायत रही है कि इसका उद्घाटन होली बाद आने वाले दूसरे रविवार को किया जाता है। इस बार भी इस परम्परा को निभाया गया।

बीती सात अप्रैल को मेले का परंपरागत रूप से उद्घाटन एडीजी ध्रुवकांत ठाकुर और आयुक्त मेरठ मंडल सेल्वा कुमारी जे. ने किया था। इस बीच लोकसभा चुनाव को लेकर आचार संहिता के कारण मेले के आयोजन की बाबत चुनाव आयोग से मेले की अनुमति लेने के लिए लिखापढ़ी की गई। जिसकी मंजूरी मिलने में डेढ़ माह से अधिक का समय लग गया है। रविवार शाम को मेले की अनुमति के संबंध में जिला प्रशासन के पास चुनाव आयोग की ओर से पत्र प्रेषित कर दिया गया है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इसी के साथ प्रशासन के स्तर से मेले के आयोजन की तैयारियों को अमलीजामा पहनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। सूत्रों ने यह भी बताया कि आगामी 10 जून को ज्येष्ठ दशहरे का पर्व है, इसी दिन मेला नौचंदी का विधिवत रूप से शुभारंभ करने की योजना पर काम शुरू कर दिया गया है। बताते चलें कि बुलंदशहर की नुमाइश के समापन के बाद ही नौचंदी मेला लगता है, लेकिन इस बार दोनों मेले जून के महीने में ही लगाए जाने का संयोग बन रहा है।

आपसी सौहार्द्र का प्रतीक है मेला नौचंदी

नौचंदी मेले का एक गौरवशाली इतिहास रहा है। जिसमें देशभर के दुकानदार अपने-अपने सामान की प्रदर्शनी लगाने के लिए यहां पहुंचते हैं। प्राचीन चंडी देवी मंदिर और बाले मियां मजार के पौराणिक महत्व को दर्शार्न वाले नौचंदी मेले को आपसी सौहार्द्र का प्रतीक भी माना जाता है। इस मेले का आयोजन एक वर्ष जिला पंचायत और एक वर्ष नगर निगम के माध्यम से किए जाने की भी परंपरा बन चुकी है। वर्ष 2022 में नौचंदी मेले को प्रांतीयकृत दर्जा दिया जा चुका है।

इसके बाद से इस मेले के आयोजन में प्रशासन की भागीदारी बढ़ गई है। संयोग यह रहा कि वर्ष 2022 में जिस समय मेले का उद्घाटन किया गया, तब भी आचार संहिता लगी हुई थी। जिसके कारण मिला अपनी निर्धारित तिथि के स्थान पर काफी विलंब से शुरू हो सका था। अब 2024 में भी मेला नौचंदी 10 जून यानि काफी विलंब से लगने वाला है। हालांकि इसकी अवधि कितने दिन रखी जाएगी, यह अभी निश्चित नहीं है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments