Saturday, June 22, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutमहिला मरीज को साबित कर दिया एड्स रोगी

महिला मरीज को साबित कर दिया एड्स रोगी

- Advertisement -
  • डीएम साहब! पैसों के लिए धरती का भगवान बना हैवान
  • लैब संचालक के साथ मिलकर डाक्टर ने बना डाली फर्जी रिपोर्ट
  • बच्चे दानी में रसौली का इलाज कराने मरीज को लेकर पहुंचे थे परिजन
  • डीएम, सीएमओ से आरोपी डाक्टर और लैब संचालक के खिलाफ कार्रवाई की मांग

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: महज थोड़े से पैसों के लालच में धरती का भगवान कहे जाने वाले एक डाक्टर ने महिला मरीज को एड्स पीड़ित बता दिया। जबकि वह एड्स पीड़ित नहीं थी। इस महिला मरीज की बच्चेदानी में कुछ परेशानी थी। इस मामले को लेकर पीड़ितों ने डीएम से इंसाफ की गुहार लगायी है। शहर के लिसाड़ीगेट थाना के तारापुरी निवासी मोहम्मद आदिल पुत्र हाजी जाहिद की बहन के साथ जो कुछ गुजरा और जो कुछ उसने सहा उस व्यथा जिसने भी सुनी वह हैरान रह गया।

रसौली का कराना था इलाज

डीएम के यहां फरियाद करने पहुंचे आदिल ने बताया कि उसकी बहन शबाना पत्नी मुस्तफा निवासी श्याम नगर की बच्चे दानी में कुछ कॉप्लिकेशन था। परिवार वालों ने शबाना को सुनीता नर्सिंगहोम ए-ब्लॉक शास्त्री नगर हापुड़ रोड पर ले जाकर डा. सुनीता सिंह से चेकअप कराया। परिजनों ने बताया कि चेकअप के बाद डाक्टर ने बताया कि बच्चेदानी का आपरेशन करना होगा।

35 हजार बताया कुल खर्चा

आदिल ने बताया कि चेकअप कराने व आपरेशन की बात सामने आने के बाद महिला डाक्टर ने उन्हें आपेरशन व अन्य खर्च मिलाकर कुल 35 हजार रुपये में सारा काम निपटाने की बात कही। सब कुछ तय कर लिया गया। तमाम जांचें पूरी करा ली गयीं।

कोई दूसरी बीमारी या जिस्मानी कॉम्पलिकेशन नहीं आया। इस बीच महिला डाक्टर ने दो और जांच कराए जाने को कहा। परिवार वाले उसके लिए भी राजी हो गए। ये सभी जांचे शास्त्रीनगर स्थित मैक्स प्रो पैथोलाजी लैब में डा. इंदू सरदाना की देखरेख में की गयीं है।

अचानक बता दिया पॉजिटिव

जो भी जांच रिपोर्ट आ रही थीं सभी सामान्य थी। परिजनों ने बताया कि 30 जुलाई को एक जांच रिपोर्ट आयी उसमें शबाना के एचबीएसएजी पॉजिटिव (एड्स संबंधित बीमारी) बता दी गयी। यह सुनकर परिजनों के पैरों तले जमीन खिसक गयी। इस रिपोर्ट के आने के बाद डा. सुनीता ने बताया कि जो रकम पहले तय हुई है मसलन 35 हजार रुपये उसमें अब आपेरशन किया जाना मुमकिन नहीं है।

डीएम को दिए गए शिकायती पत्र में आदिल का कहना है कि शबाना के आपरेशन की फीस 35 हजार से बढ़ाकर डेढ़ लाख कर दी गयी। काफी खुशामद करने पर डाक्टर ने बाद में फीस में 15 हजार कम कर दिए और एक लाख 35 हजार में आॅपरेशन किया जाना तय किया गया। यह पूरी रकम तीन बार भुगतान कर चुका दी गयी।

नहीं था एड्स संबंधित रोग

आपरेशन के बाद परिजन शबाना को लेकर घर आ गए। उसके बाद नियमित चेकअप के लिए उसको ले जाते रहे। परिजनों ने बताया कि इस बीच नर्सिंगहोम के स्टाफ की बातें सुनकर उन्हें कुछ शक हुआ। इसके बाद उन्होंने दूसरी पैथोलॉजी लैब पर जांच करायीं। काबिल डाक्टरों से चेकअप कराया। एड्स संबंधित कोई बीमारी शबाना को नहीं पायी गयी। एड्स संबंधित रोग होने की बात कहकर झूठ बोला गया था। एड्स संबंधित जांच के सभी रिपोर्ट निगेटिव आयी थीं।

मारपीट और धमकी

तमाम प्रकार की जांच रिपोर्ट में जब एड्स संबंधित कोई बीमारी नहीं पायी गयी तो परिजनों आपरेशन करने वाली डाक्टर व लैब संचालक डाक्टर के पास पहुंचे। उन्होंने इसको लेकर ऐतराज जताया। आरोप है कि इस पर आॅपरेशन करने वाली डाक्टर व लैब से टेस्ट रिपोर्ट जारी करने वाली डाक्टर ने स्टाफ से मारपीट व गाली-गलौज करायी। आरोप है कि धक्के मारकर वहां से भगा दिया गया।

की गई लूट की हरकत

डीएम से इंसाफ की गुहार लगाने पहुंचे युवक ने बताया कि उनके साथ लूट की हरकत की गयी है। वहीं, दूसरी ओर इस संबंध में जब आपरेशन करने वाली चिकित्सक व लैब संचालक चिकित्सक का पक्ष जानने का प्रयास किया गया तो अनेक प्रयासों के बाद भी उनसे संपर्क नहीं हो सका।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments