Monday, June 17, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutबाजार में 88 हजार का, खरीदा दो लाख का गार्बेज लोडर

बाजार में 88 हजार का, खरीदा दो लाख का गार्बेज लोडर

- Advertisement -
  • गलियों में कूड़ा गाड़ियां पहुंचाने को की गई नई पहल
  • बाजार से दोगुनी से ज्यादा महंगी दरों पर की गई खरीद

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: घोटालों की मंडी बन चुके नगर निगम में अब नया मामला गार्बेज लोडर की खरीद का सामने आया है। साढ़े चार करोड़ के हाइवा ट्रकों की खरीद के बीच ही खामोशी से गार्बेज लोडर खरीद लिये, लेकिन जब हाइवा ट्रकों का घोटाला खुला तो अपने इस नये घोटाले को दबाने के लिए नगर निगम ने इन गार्बेज लोडरों को भी खामोशी से सरस्वती लोक के ज्वाइंट डिपो पर खड़ा करा दिया। अब यहां यह गार्बेज लोडर भी पड़े-पड़े धूल फांक रहे हैं।

नगर निगम सीमा में रहने वाले लोगों को गंदगी से राहत दिलाने के लिए नगर निगम की ओर से बैटरी से चलने वाले गार्बेज ई-रिक्शा लोडर खरीदे गये। शहर के 90 वार्डों में से सघन आबादी वाले 32 वार्डों का चयन करके उनमें से हर वार्ड में 2-2 गार्बेज लोडर खरीदे गये हैं। ई-रिक्शा खरीदने का मकसद यह था कि शहर के कई वार्ड ऐसे थे, जो सघन बस्ती के क्षेत्र में आते हैं। यहां बड़े ट्रक अथवा टाटा ऐस मिनी ट्रक पहुंच पाना भी संभव नहीं है। त्वरित सफाई के मकसद से यहां ई-रिक्शा गैबेज लोडर की खरीद की गई। वहां से कूड़ा उठाया जा सके। नगर निगम ने इस खरीद के लिए अलग से कोई जैम पोर्टल के माध्यम से खरीद नहीं की, बल्कि सीधे ही कंपनी से बात करके इनकी आपूर्ति मंगा ली,

लेकिन इस बीच नगर निगम के 10 हाइवा डंपरों का मामला खुल गया। जिसमें नगर निगम ने अशोक लीलैंड का आर्डर होने के महेन्द्रा ब्लैजों डंपरों की आपूर्ति ले ली। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि उक्त निविदा में प्रतिभागी समस्त फर्मों द्वारा अपलोड किये गये प्रपत्र आॅनलाईन जैम पोर्टल पर संरक्षित है, जिनका अवलोकन जैम पोर्टल पर भी किया जा सकता है, लेकिन आपूर्ति के महेन्द्रा ब्लेजों डंपर जब सामने खड़े रहे हैं। अधिकारियों की छिछालेदारी होती रही तो इन डंपरों को चोरी छिपे नगर निगम के दिल्ली रोड वाहन डिपो के सरस्वती लोक में बनाये गये नये ज्वाइंट वाहन डिपो में भेज दिया गया।

बाजार में 88 हजार का मौजूद है गार्बेज लोडर

यहां यह भी उल्लेखनीय है कि भारत में बजाज के साथ-साथ खेतान ई-लोडर भी बाजार में मौजूद हैं। बजाज का ई-रिक्शा गैबेज लोडर 1,07,000 रुपये का उपलब्ध है। जबकि खेतान का ई-रिक्शा गैबेज लोडर 88 हजार रुपये का मिल जाता है। खेतान के ई-रिक्शा में 1200 किलोग्राम का भार उठाने की क्षमता है। इसकी मोटर भी तीन हजार वॉट की होती है, लेकिन नगर निगम ने सीधे 2 लाख 5 हजार 300 रुपये का खरीदा है।

विशेष तौर पर बॉक्स भी बने हैं गार्बेज लोडर में

इन नए ई-रिक्शा पर दो अलग-अलग बक्से बने हुए हैं, जिसमें एक बक्सा सूखा कूड़ा डालने के लिए व दूसरा बक्सा गीला कूड़ा डालने के लिए बनाया गया है। घरों से उठाई गई गंदगी को नजदीक बने प्वाइंटों पर ले जाया जाएगा और उपरोक्त प्वाइंटों पर भी कूड़े को अलग-अलग फेंकने की व्यवस्था की जाएगी।

इन वार्डों के लिए गार्बेज लोडर की हुई खरीद

नगर निगम ने शहर के 90 वार्डों में से 32 वार्डों का चयन किया है। जहां ई-रिक्शा गार्बेज लोडर खरीदकर लगाये जाने हैं। इनमें वार्ड-1 लल्लापुरा, वार्ड-2 मलियाना, वार्ड-3 भगवतपुरा, वार्ड-8 लिसाड़ी, वार्ड-10 काशी, वार्ड-13 जयभीमनगर, वार्ड-22 गोलाबढ़, वार्ड-23 सुभाष पुरी, वार्ड-25 अनूप नगर फाजलपुर, वार्ड-33 काजीपुर, वार्ड-38 खड़ौली, वार्ड-39 ब्रह्मपुरी पश्चिम, वार्ड-40 जटौली, वार्ड-41 नंगलाताशी, वार्ड-43 ब्रह्मपुरी पूर्वी, वार्ड-44 मोहनपुरी, वार्ड-46 यादगारपुर, वार्ड-48 माधवपुरम, वार्ड-50 नंगला बट्टू, वार्ड-51 साबुन गोदाम, वार्ड-54 पूर्वा इलाही बख्श, वार्ड-55 फतेह उल्लापुर, वार्ड-56 प्रह्लाद नगर, वार्ड-65 खैरनगर, वार्ड-66 सराय बहलीम, वार्ड-69 सराय लाल दास, वार्ड-70 इस्माईल नगर, वार्ड-71 दक्षिणी इस्लामाबाद, वार्ड-72 पूर्वी इस्लामाबाद, वार्ड-73 मंजूर नगर, वार्ड-77 लक्खीपुरा तथा वार्ड-81 तारापुरी शामिल हैं।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments