Monday, October 25, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsMeerutग्राम पंचायतें होंगी हाईटेक, आॅनलाइन होंगे कार्य

ग्राम पंचायतें होंगी हाईटेक, आॅनलाइन होंगे कार्य

- Advertisement -
  • ग्राम प्रधानों को दिया जाएगा कंप्यूटर का ज्ञान, जो पढ़े लिखे नहीं उन्हें भी दिया जाएगा प्रशिक्षण
  • प्रदेश सरकार की ओर से ग्राम सचिवालय बनाए जाने की तैयारी

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: कंप्यूटर आज के दौर में सभी के लिये आवश्यक है। गांवों में कुछ ही लोग आज के इस समय में बचे हैं जो कम्प्यूटर का इस्तेमाल नहीं करते हैं। अब भाजपा सरकार पंचायतों को भी हाईटेक करने की पूरी तैयारी कर रही है। पंचायती राज विभाग की ओर से ग्राम पंचायतों और ग्राम प्रधानों को भी हाईटेक बनाने की तैयारी की जा रही है। विभाग की ओर से ग्राम पंचायतों में 100 फीसदी ई-गर्वनेंस व्यवस्था लागू किये जाने की तैयारी है।

इससे ग्रामीणों को परेशानी नहीं होंगी, वह अपनी शिकायतें व अन्य कार्य भी आॅनलाइन करा सकेंगे। ग्राम पंचायमों को ग्राम सचिवालय बनाये जाने की तैयारी की जा रही है। प्रदेश सरकार की ओर से अब ग्राम पंचायमों में सचिवालय बनाये जाने की तैयारी की जा रही है। ग्राम पंचायतों को भी हाईटेक किया जायेगा। यहां सभी कार्य आॅनलाइन होंगे। इसके लिये तेजी से कार्य किये जा रहे हैं जहां ग्राम पंचायत भवनों का निर्माण नहीं है वहां तेजी से निर्माण कार्य भी कराया जा रहा है।

बता दें कि मेरठ में 479 ग्राम पंचायतें और पूरे प्रदेश की बात करें तो करीब 59 हजार के आसपास ग्राम पंचायतें हैं। अब सभी ग्राम पंचायतों को हाईटेक बनाये जाने की तैयारी प्रदेश सरकार की ओर से की जा रही है। ग्राम पंचायतों का स्वरूप बदला जा रहा है।

यहां कम्प्यूटर आदि की व्यवस्था होने के बाद से ग्रामीणों को अपनी शिकायतों के लिये भटकना नहीं पड़ेगा और उनके सभी कार्य आसानी से हो सकेंगे। उधर, जिला पंचायती राज अधिकारी रेनू श्रीवास्तव ने बताया कि ई-गर्वनेंस व्यवस्था का अनुपालन कराने के लिये प्रधानों व सभी लोगों को इंटरनेट की संपूर्ण जानकारी दी जायेगी। उन्होंने कहा कि प्रयास किया जायेगा कि सभी ग्राम पंचायमों में कम से कम एक कम्प्यूटर की तो व्यवस्था की जा सके। इससे शुरू होने से लोग जागरूक होंगे और सभी कार्य आॅनलाइन कराए जा सकेंगे।

ई-गर्वनेंस में सभी कार्य होंगे आॅनलाइन

मेरठ में कई ग्राम पंचायतों में ऐसे भी ग्राम प्रधान हैं जो निरक्षर हैं और काफी संख्या में ऐसे भी प्रधान हैं, जिनके पास बड़ी बड़ी डिग्रियां हैं। जिनके पास डिग्री हैं और जो पढ़े लिखे नहीं हैं उन्हें भी कम्प्यूटर की जानकारी दी जायेगी और सभी जानकारियों से अवगत कराया जायेगा।

पंचायती राज विभाग नव निर्वाचित ग्राम प्रधानों को प्रशिक्षण देकर उनके दायित्वों की जानकारी उन्हें देगा। ई-गर्वनेंस में सभी कार्य भी आॅनलाइन होंगे किसी को कार्य कराने के लिये भटकना नहीं पड़ेगा।

मेरठ में बदली ग्राम पंचायतों की सूरत

ग्राम पंचायतों का नाम सुनकर पहला ख्याल दिमाग में गांव के हालातों को लेकर आता है, ग्राम पंचायतों को पहले के हाल सभी को पता है। उनकी स्थिति ठीक नहीं थी, लेकिन मेरठ में अब ग्राम पंचायमों की सूरत बदलने लगी हैं। यहां ग्राम पंचायतें मॉडल रूप धारण कर रही हैं।

मुख्य विकास अधिकारी शशांक चौधरी के निर्देशन में अधिकतर ग्राम पंचायमों की हालत में सुधार हो चुका है। जहां-जहां ग्राम पंचायतें नहीं हैं वहां उनका निर्माण कराया जा रहा है। जर्जर हालात सुधारे गये हैं उनका जीर्णोंद्धार किया गया है।

विकास कार्यों में भ्रष्टाचार नहीं होगा बर्दाश्त

ग्राम पंचायतों में भ्रष्टाचार के मामलों में तेजी से एक्शन लिया जा रहा है। अभी बीते दिनों की ही बात करें तों दौराला विकास खंड में दो ग्राम पंचायत सचिवों को निलंबित किया गया तो आठ के खिलाफ जांच के आदेश दिये गये। अभी हाल ही में ग्राम सौदत्त में भी विकास कार्याें में भ्रष्टाचार की शिकायत मिली है, जिस पर डीपीआरओ ने जांच के आदेश दिये हैं। इसके लिये जांच अधिकारी भी बनाए गए हैं।

बता दें कि दौराला विकास खंड में शौचालय के निर्माण में भ्रष्टाचार पाया गया था। जिस मामले में जिला पंचायती राज अधिकारी ने कार्रवाई की थी। बता दें कि जिला पंचायती राज अधिकारी रेनू श्रीवास्तव गांव गांव जाकर अनियमितताओं की जांच कर रही है।

अभी बीते दिनों दौराला विकास खंड में सार्वजनिक शौचालय के नाम पर भ्रष्टाचार की शिकायत मिलने में उन्होंने दो ग्राम पंचायत सचिव को भी निलंबित कर दिया गया था। इसके अलावा अभी तीन दिन पूर्व ही मवाना ब्लॉक में तैनात ग्राम पंचायत अधिकारी रोहित कुमार को भी विकास कार्यों में लापरवाही के चलते निलंबित कर दिया था।

यहां बता दें कि अभी हाल ही में ग्राम सौदत्त में भी ग्राम पंचायत सचिव व ग्राम प्रधान के खिलाफ विकास कार्यों में अनियमितताएं मिलीं हैं। डीपीआरओ ने बताया कि इस मामले में भी जांच अधिकारी नियुक्त किये गये हैं उनकी जांच कराई जा रही है। अगर लापरवाही सामने आती है तो कार्रवाई की जायेगी।

उन्होंने कहा कि गांवों में विकास कार्यों में किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेंगी। जितनी भी शिकायतें मिलीं हैं सब पर जांच कराई जा रही है। जिसकी भी लापरवाही सामने आएगी उसके खिलाफ सख्त एक्शन लिया जायेगा।

डेंगू को लेकर कराया दवा का छिड़काव

बता दें कि हाल में डेंगू और वायरल का प्रकोप फैला हुआ है। ऐसे में सभी ग्राम पंचायतों में तेजी के साथ दवा का छिड़काव व फॉगिंग कराई जा रही है। डीपीआरओ ने बताया कि सभी ग्राम पंचायमों में दवा का छिड़काव कराया जा रहा है व सफाई कर्मियों को भी सफाई के लिये लगाया गया है। इसके लिये गांव-गांव में घूमकर प्रतिदिन निरीक्षण किया जा रहा है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments