Sunday, February 25, 2024
HomeUttar Pradesh NewsMeerutमेजबान यूपी ने अभ्यास में खोले हाथ

मेजबान यूपी ने अभ्यास में खोले हाथ

- Advertisement -
  • केरल से मैच जीतकर, बंगाल से अंक शेयर कर यूपी की रणजी टीम शुक्रवार को बिहार के खिलाफ मुकाबला

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: केरल से मैच जीतकर और बंगाल के साथ अंक शेयर करने वाली यूपी की रणजी टीम शुक्रवार को बिहार के खिलाफ भामाशाह मैदान में मुकाबला करेगी। इस मुकाबले की तैयारी के सिलसिले में मेरठ पहुंची यूपी टीम में भामाशाह मैदान पहुंचकर घंटे तक अभ्यास किया। इस बीच देर रात तक बिहार की टीम के भी मेरठ पहुंचने की संभावना है, जिसके गॉडविन होटल में ठहरने की व्यवस्था की गई है। घोषित कार्यक्रम के अनुसार उत्तर प्रदेश और बिहार के बीच रणजी ट्रॉफी मैच 19 से भामाशाह क्रिकेट मैदान में होना है। मंगलवार शाम को मेरठ पहुंची यूपी टीम ने बुधवार को दोपहर बाद भामाशाह मैदान पहुंचकर बल्ले और गेंद के साथ घंटे तक अभ्यास किया।

गौरतलब है कि अभी तक हुए दो मैच में केरल के साथ हुए मुकाबले में टीम यूपी विजय हासिल कर चुकी है। जबकि बंगाल के साथ हुए मुकाबले में मैच का कोई निर्णय नहीं निकल सका। इसके साथ ही पहली इनिंग में अच्छी बढ़त हासिल करने के कारण बंगाल की टीम तीन अंक अपने हिस्से में कर चुकी है। यूपी की रणजी टीम में कोच सुनील जोशी और कप्तान नीतीश राणा के नेतृत्व में मेरठ के समीर रिजवी, सौरभ कुमार, भुवि, विनीत, अंकित राजपूत, यश दयाल, समर्थ, प्रियम गर्ग समेत अनेक दिग्गज खिलाड़ियों के खेलने की संभावना है।

14 15

वहीं, दूसरी ओर बिहार क्रिकेट एसोसिएशन के सूत्रों ने रणजी ट्रॉफी के लिए मीडिया को उत्तर प्रदेश के विरुद्ध 19 जनवरी से मेरठ में होने वाले रणजी मैच के लिए टीम में शामिल संभावित खिलाड़ियों के नाम की जानकारी उपलब्ध कराई गई है। जिसके मुताबिक बिहार की टीम में आशुतोष अमन कप्तान, सकीबुल गनी उप-कप्तान, बिपिन सौरभ विकेटकीपर, बाबुल कुमार, सचिन कुमार सिंह, राघवेंद्र प्रताप, हिमांशु सिंह, रविशंकर, ऋषभ राज, पीयूष कुमार सिंह, नवाज खान, विपुल कृष्ण, बाशुकीनाथ मिश्र, बलजीत सिंह बिहारी, सरमन निग्रोध, वीर प्रताप सिंह, यशपाल यादव शामिल हैं।

इनके अलावा अभिजीत साकेत और मलय राज को टीम में शामिल होने के लिए फिटनेस टेस्ट पास करना होगा। टीम के मुख्य कोच विकास कुमार, कोच प्रमोद कुमार, सहायक कोच संजय कुमार, फिजियो डॉ. हेमेंदु कुमार, प्रशिक्षक गोपाल कुमार, बीसीए से प्रतिनियुक्त प्रबंधक नंदन कुमार सिंह शामिल किए गए हैं। इस दौरान भामाशाह क्रिकेट मैदान में शुक्रवार 19 जनवरी से होने वाले महत्वपूर्ण रणजी मैच को लेकर मेरठ क्रिकेट एसोसिएशन की ओर से बुधवार को भी तैयारी को फाइनल टच दिया जाता रहा है।

वहीं, कोच संजय रस्तोगी ने बताया कि देर रात तक टीम बिहार के पहुंचने की उम्मीद है। उन्होंने बताया कि मेरठ क्रिकेट एसोसिएशन की ओर से सचिव सुभाष चंद्र शर्मा, कोषाध्यक्ष राकेश गोयल और सभी पदाधिकारियों और सदस्यों की ओर से तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं। उन्होंने बताया कि इस रणजी मैच में प्रत्येक दिन दर्शकों की एंट्री फ्री रहेगी।

बहुत मजबूत है टीम यूपी: सुनील जोशी

यूपी टीम के प्रमुख कोच सुनील जोशी का कहना है कि रणजी मैच खेलने के लिए मैदान में उतरने वाली यूपी टीम बहुत मजबूत स्थिति में है इस टीम में इंडिया के लिए खेलने वाले कई दिग्गज खिलाड़ी शामिल हैं। मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि मौसम ने जरूर नॉर्थ के मैचों में दुश्वारियां पैदा की हुई हैं। इसके बावजूद यूपी की रणजी टीम बहुत मजबूत स्थिति में है।

टीम में इस समय टीम इंडिया के लिए खेलने वाले बैट्समैन और बॉलर दोनों मौजूद हैं, जो अपनी फिटनेस और प्रदर्शन के आधार पर बहुत बेहतर स्थिति में हैं। हालांकि मैच में टॉस का बहुत बड़ा रोल रहता है। कानपुर में बंगाल के साथ हुए मैच के अनुभव शेयर करते हुए उन्होंने कहा कि वहां की पिच वेदर के कारण काफी नमी लेती रही, इसी कारण मैच का कोई परिणाम नहीं निकल पाया। प्रमुख कोच सुनील जोशी ने टीम यूपी के बारे में अधिक जानकारी देने से परहेज किया। उन्होंने कहा कि मैच के लिए सरप्राइज एलिमेंट रखना जरूरी होता है।

15 15

हालांकि उन्होंने रिंकू सिंह और समीर रिजवी कुलदीप यादव समेत कई खिलाड़ियों के खेले जाने की संभावना से इनकार नहीं किया। जबकि भुवनेश्वर के टीम में शामिल होने को लेकर उन्होंने सस्पेंस बनाए रखा और अपने शब्दों से कुछ भी स्पष्ट नहीं होने दिया। उन्होंने कहा कि भुवि ने पांच-पांच विकेट लेकर अपनी श्रेष्ठता साबित की है।

कोहरे और नमी में गुम हो गए कई मैचों के परिणाम

मेरठ: इस बार पूरे उत्तर भारत को अपनी चपेट में ले रहे कोहरे और शीतलहर के मौसम में रणजी के कई मैचों के परिणाम को गुम होकर रह गए हैं। शुक्रवार से भामाशाह क्रिकेट मैदान पर शुरू होने वाले यूपी-बिहार मैच को लेकर भी मौसम की भविष्यवाणी को देखते हुए हालात और तेवर अभी तक ठीक नजर नहीं आ रहे हैं। मौसम विभाग ने आने वाले दो-तीन दिनों तक कोहरे और शीतलहर का अनुमान जताया है।

हालांकि बुधवार के मौसम की अगर बात की जाए, तो दोपहर से पहले कोहरे की चादर को हटाकर सूर्यदेव ने अपने होने का अहसास कराने में कोई कसर नहीं छोड़ी। लेकिन शीतलहर के बीच ठंड का अहसास हड्डी तक अपना असर दिखाने में कामयाब रहा। अगर शुक्रवार तक मौसम ने अपने तेवर नहीं बदले, तो भामाशाह क्रिकेट मैदान में होने वाले रणजी मैच में टीम यूपी और बिहार के सामने दिक्कत की आशंका से इन्कार नहीं किया जा सकता। प्रमुख कोच सुनील जोशी भी मौसम के मिजाज को लेकर इशारों में बहुत कुछ कह गए हैं।

उन्होने मीडिया से बातचीत में यहां तक कहा कि नार्थ इंडिया में होने वाले मैचों का शेड्यूल बदला जा सकता था। उन्होंने कहा कि इस बारे में वे कप्तानों की बैठक के दौरान अपनी बात रख भी चुके हैं। कानपुर मैच के परिणाम को लेकर भी उन्होंने यही कहा कि कड़ाके की ठंड के बीच नम होने वाली पिच पर बैटिंग कर पाना बहुत बड़ी चुनौती बन जाता है। इसका एक दुष्प्रभाव यह भी रहता है कि मैच का परिणाम नहीं निकल पाता। कानपुर मैच इसका उदाहरण है। यूपी टीम के प्रमुख कोच सुनील जोशी की इन तमाम आशंकाओं को रणजी के कुछ मैचों में हुए मौसम के खेल के उदाहरण से सही साबित होते हुए भी देखा गया है।

16 15

मोइन उल हक स्टेडियम, पटना में बिहार और छत्तीसगढ़ के बीच खेले गए मैच में यूपी और बंगाल के बीच कानपुर के ग्रीनपार्क में खेले गए मैच में सर्द मौसम में सबसे ज्यादा असर कोहरे व ओस का रहा। जहां मौसम की मार मैच पर भारी पड़ी। टॉस हारने के बाद मेजबान यूपी के बल्लेबाजों को बंगाल की धारदार गेंदबाजी को नर्म मौसम और घातक बना रहा था। यही वजह रही यूपी टीम 60 रनों पर सिमट गई। चौथे और अंतिम दिन खराब मौसम के चलते खेल बिना गेंद फेंके कॉल आॅफ के साथ ही मैच को ड्रा घोषित किया गया।

ग्रीनपार्क में हुए इस मैच में पहली पारी की बढ़त के आधार पर बंगाल टीम ने तीन अंक लिए। मेजबान यूपी टीम को मात्र एक अंक से संतोष करना पड़ा। जेके सीए हॉस्टल ग्राउंड में तीसरे दिन का खेल सोमवार दोपहर बाद शुरू हुआ और दो ओवर के बाद ही पर्याप्त रोशनी नहीं होने के कारण खेल को रोकना पड़ा। खराब मौसम के कारण ही जम्मू-कश्मीर और हिमाचल के बीच रणजी का पहला मुकाबला पूरा नहीं हो सका था और ड्रॉ रहा था। पहली पारी में पिछड़ने के कारण जम्मू-कश्मीर को एक अंक से ही संतोष करना पड़ा था।

महाराजा बीर बिक्रम स्टेडियम में त्रिपुरा और तमिलनाडु के बीच खेला गया मैच सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ। दिन की शुरुआत में घना कोहरा, हल्की बूंदाबांदी और अत्यधिक बादल छाए रहने के कारण मैच रेफरी और अंपायरों को दोपहर बाद 3:15 बजे मैच समाप्त करने के लिए मजबूर होना पड़ा। जेकेसीए के हॉस्टल ग्राउंड पर शुक्रवार को दिल्ली बनाम जेएंडके मैच में केवल छह गेंदें ही फेंकी जा सकीं। असम में घरेलू टीम और केरल के बीच मैच के दौरान केवल 37 ओवर ही खेले जा सके,

लेकिन खराब रोशनी के कारण खिलाड़ियों को मैदान से बाहर जाना पड़ा। पीसीए ग्राउंड पर पंजाब बनाम रेलवे के दौरान, खराब रोशनी के कारण स्टंप जल्दी निकाले जाने से पहले मेहमान केवल 34 ओवर तक ही बल्लेबाजी कर सके। बीते सप्ताह में भी, टीमों ने दिल्ली, हरियाणा, जम्मू और त्रिपुरा में मौसम के कारण खेल का कीमती समय गंवा दिया था। मोइन उल हक स्टेडियम पटना में बिहार और छत्तीसगढ़ के बीच हुए मैच पर भी मौसम की मार पड़ी है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments