Wednesday, May 29, 2024
- Advertisement -
HomeसंवादCareerकैसे प्रदान किए जाते हैं देश के नागरिक सम्मान

कैसे प्रदान किए जाते हैं देश के नागरिक सम्मान

- Advertisement -

Profile 1


भारत सरकार के द्वारा देश के नागरिकों को उनके विभिन्न क्षेत्रों में विशिष्ट और अद्वितीय योगदान के लिए नागरिक और सैन्य पुरस्कारों से सम्मानित किया जाता है। ये सेवाएं इतनी विशिष्ट होती हैं कि ये नागरिक सम्मान मरणोपरांत भी प्रदान की जाती हैं। देश में मुख्य रूप से दो ही प्रकार के सम्मान होते हैं जिन्हें नागरिक और गैलन्ट्री अवार्ड्स के नाम से जाना जाता है।

नागरिक सम्मान
नागरिक सम्मान भारत सरकार के द्वारा देश के नागरिकों को विभिन्न क्षेत्रों में उनकी विशिष्ट सेवाओं के योगदान के लिए दिया जाता है। ये सम्मान राष्ट्रपति के द्वारा गणतंत्र दिवस पर प्रदान किये जाते हैं। सम्मान की केटेगरी के अनुसार दिए जानेवाले मुख्य नागरिक सम्मान निम्नांकित हैं-
-भारत रत्न
– पद्म विभूषण
-पद्म भूषण
-पद्म श्री

भारत रत्न
भारत रत्न देश का सबसे बड़ा और प्रतिष्ठित नागरिक सम्मान है। यह सम्मान विभिन्न क्षेत्रों मे उत्कृष्टतम सेवाओं के लिए प्रदान किया जाता है। ये सेवाएं कला, विज्ञान, साहित्य, खेल और सार्वजनिक सेवा के क्षेत्रों से संबंध रखता है। महान क्रिकेट खिलाड़ी सचिन तेंडुलकर अकेले खिलाड़ी हैं जिन्हें यह सर्वोच्च नागरिक सम्मान खेल के क्षेत्र में दिया गया है।
इस सम्मान की स्थापना तात्कालीन राष्ट्रपति डॉक्टर राजेन्द्र प्रसाद के द्वारा 2 जनवरी 1954 को किया गया था। यह नागरिक सम्मान पदवी के रूप में प्रयुक्त नहीं किया जा सकता है।

प्रारंभ में मरणोपरांत इस पुरस्कार को देने का प्रावधान नहीं था किन्तु वर्ष 1955 से इस सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार को मरणोपरांत भी देने की शुरुआत की गई। अब तक 20 व्यक्तियों को यह सम्मान मरणोपरांत दिया जा चुका है। यह सम्मान एक वर्ष में अधिकतम 3 व्यक्तियों को ही दिया जा सकता है। भारत रत्न के पुरस्कार के लिए प्रधानमंत्री के द्वारा राष्ट्रपति को अनुशंसा की जाती है। पुरस्कार के प्राप्तकर्ता को एक प्रशस्ति पत्र और पीपल के पत्ते के आकार का मेडल प्रदान किया जाता है। इस पुरस्कार के साथ कोई भी नकद राशि नहीं दी जाती है। भारत रत्न से सम्मानित व्यक्ति सम्मान के क्रम में राष्ट्र स्तर पर सातवें स्थान पर आता है।

इस पदक का डिजाइन तांबे के बने पीपल के पत्ते के आकार का होता है जिस पर प्लैटनम का चमकता सूर्य बना होता है। यह मेडल 59 मिलीमीटर लंबा, 48 मिलीमीटर चौड़ा और 3.2 मिलीमीटर मोटा होता है। इसके नीचे चांदी में भारत रत्न लिखा रहता है और इसे श्वेत फीते के साथ गले में पहना जाता है। इस मेडल के पीछे की तरफ भारत का राष्ट्रीय चिह्न अशोक चक्र और सत्यमेव जयते लिखा रहता है।

वर्ष 1954 में इस पुरस्कार से सम्मानित होनेवाले पहले व्यक्ति भारत के प्रथम गवर्नर जनरल सी. राजगोपालाचारी, भारत के पहले उपराष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन और भौतिक शास्त्र के विख्यात विद्वान डॉक्टर सीवी रमन थे। देश के भूतपूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय लाल बहादुर शास्त्री इस पुरस्कार को मरणोपरांत पानेवाले पहले व्यक्ति थे। सामान्य रूप से यह सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत में जन्म लिए हुए मूल नागरिकों को ही प्रदान किया जाता है लेकिन विदेशियों के रूप में मदर टेरेसा, अब्दुल गफ्फार खान और नेल्सन मंडेला को भी इस सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।
इस पुरस्कार को जुलाई 1977 से जनवरी 1980 के मध्य निलंबित कर दिया गया था। फिर इस पुरस्कार को अगस्त 1992 से दिसम्बर 1995 तक निलंबित कर दिया गया था। वर्ष 1992 में सुभाष चंद्र बोस को भारत रत्न देने की घोषणा की गई थी किन्तु उनकी विवादास्पद मृत्यु के कारण सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के फलस्वरूप इस पुरस्कार की घोषणा को रद्द कर दिया गया। यह पहला मौका था जबकि इस सर्वोच्च नागरिक सम्मान की घोषणा के बावजूद इससे संबंधित व्यक्ति को सम्मानित नहीं किया गया और इसे वापस ले लिया गया।

मूल रूप से भारत रत्न से सम्मानित व्यक्ति को कोई मौद्रिक राशि नहीं दी जाती है लेकिन इस सम्मान के साथ निम्न अधिकार और पत्र प्रदान किये जाते हैं :
-मेडल।
-भारत के राष्ट्रपति के द्वारा हस्ताक्षरित प्रशस्ति पत्र ।
-किसी राज्य के अंदर यात्रा करने पर राज्य सरकार के द्वारा राज्य अतिथि का दर्जा प्राप्त होना।
-एक डिप्लमैटिक पासपोर्ट की हकदारी। डिप्लोमेटिक पासपोर्ट सामान्य पासपोर्ट से अलग होता है और इसके साथ अंतर्राष्ट्रीय यात्रा के दौरान निश्चित सुविधाएँ प्रदान की जाती हैं।
-इग्जीक्यूटिव क्लास में आजीवन निशुल्क हवाई यात्रा का हक।
-वरीयता के क्रम में भारत रत्न से सम्मानित व्यक्ति को राष्ट्रीय स्तर पर सातवाँ दर्जा प्राप्त होता है।
-भारत रत्न से सम्मानित व्यक्ति को एयरपोर्ट पर वीआईपी का दर्जा दिया जाता है। उनके लिए अलग से इमग्रैशन काउन्टर की सुविधा दी जाती है।
-पुरस्कार विजेता को प्रधानमंत्री के सैलरी के 50 प्रतिशत के बराबर का पेंशन दिया जाता है।
-भारत रत्न से सम्मानित व्यक्ति को विदेश यात्रा के दौरान उस देश में स्थित भारतीय दूतावास में आवश्यकता के अनुसार सुविधाएं प्रदान किया जाता है।

भारत रत्न का मेडल कोलकाता स्थित टकसाल में निर्मित किया जाता है। अब तक कुल 53 व्यक्तियों को भारत रत्न से सम्मानित किया जा चुका है जिसमें 20 को यह सम्मान मरणोपरांत दिए गए हैं।

पद्म सम्मान
भारत में पद्म सम्मान की घोषणा भी वर्ष 1954 में की गयी थी। मूल रूप से 2 जनवरी 1954 ईस्वी को भारत के राष्ट्रपति के सचिव से एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की गयी थी जिसके अनुसार दो नागरिक अवार्ड्स की स्थापना की घोषणा की गयी थी जिसमें सर्वोच्च नागरिक सम्मान के रूप में भारत रत्न को प्रथम सम्मान का दर्जा दिया गया जबकि पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्म श्री को अन्य पद्म सम्मान के रूप में स्थापित किया गया था। ये सम्मान निम्नांकित तीन श्रेणियों में दिए जाते हैं झ्र
-पद्म विभूषण
-पद्म भूषण
-पद्म श्री

पद्म विभूषण
भारत रत्न के बाद पद्म विभूषण भारतीय गणतंत्र का द्वितीय सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। इसकी स्थापना 2 जनवरी 1954 ईस्वी में की गयी थी। गणतंत्र दिवस के अवसर पर घोषित होने वाला यह सम्मान अद्वितीय और विशिष्ट सेवाओं के लिए प्रदान किए जाते हैं जिसमें सार्वजनिक क्षेत्र में कार्य करनेवाले प्रोफेशनल्स को इस सम्मान के दायरे से अलग रखा गया है। वैसे डॉक्टर और वैज्ञानिक को इस सीमा के अंतर्गत नहीं आते हैं। वर्ष 1954 ईस्वी में पद्म विभूषण से सम्मानित पहले व्यक्तियों में सत्येन्द्र नाथ बोस, नन्द लाल बोस, जाकिर हुसैन, बालासाहब गंगाधर खेर, जिग्मे दोरजी वांगचुक और वीके कृष्ण मेनन थे।

पद्म भूषण
पद्म भूषण भारतीय गणतंत्र का तीसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान है और यह भी वर्ष 1954 ईस्वी में स्थापित किया गया था। यह सम्मान देश के लिए बहुमूल्य और विशिष्ट योगदान के लिए प्रदान किया जाता है। इस सम्मान में कांसे का मेडल दिया जाता है, जो 1-3/16 इंच का होता है। इसके मध्य में कमल का फूल बना होता है, जिसकी तीन पत्तियां इसे घेरे रहती हैं। इस फूल के ऊपर नीचे पद्मभूषण लिखा रहता है। प्रख्यात नूक्लीअर साइअन्टिस्ट होमी जहांगीर भाभा और प्रसिद्ध वैज्ञानिक शांति स्वरूप भटनागर और अन्य सबसे पहले पद्म भूषण पाने वाले में व्यक्तियों में गिने जाते हैं।

पद्म श्री
पद्म श्री भारतीय गणतंत्र का चौथा सर्वोच्च नागरिक सम्मान है और इसे भी वर्ष 1954 ईस्वी में स्थापित किया गया था। यह सम्मान भी देश में कला, शिक्षा, उद्योग, साहित्य, विज्ञान, अभिनय, औषधि, समाज सेवा और अन्य जन सेवाओं के क्षेत्र में बहुमूल्य और विशिष्ट योगदान के लिए प्रदान किया जाता है।

सभी प्रकार के पद्म पुरस्कारों के लिए प्राप्त नामिनैशंस को प्रति वर्ष प्रधानमंत्री के द्वारा गठित समिति को अंतिम निर्णय लेने के लिए दी जाती है। पद्म पुरस्कारों की इस समिति के अध्यक्ष कैबिनेट सेक्रेटरी होते हैं जिसमें गृह मंत्रालय और राष्ट्रपति के सचिव के अतिरिक्त चार से छह विभिन्न क्षेत्रों के प्रख्यात सदस्यों को भी शामिल किया जाता है।
-श्रीप्रकाश शर्मा


janwani address 6

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments