Monday, June 17, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutहिल स्ट्रीट में अवैध निर्माण जोरों पर

हिल स्ट्रीट में अवैध निर्माण जोरों पर

- Advertisement -
  • कैंट अफसर बेखबर, शाम ढलते ही शुरू हो जाता है बार व रेस्टोरेंट का चल रहा निर्माण
  • डीईओ आफिस से चंद कदम की दूरी पर बंगला नंबर 64 में चल रहा काम
  • निर्विघ्न निर्माण के जिम्मे के लिए कैंट के एक बडे भाजपाई के नाम की चर्चा

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: माल रोड स्थित डीईओ कार्यालय से चंद कदम की दूरी पर स्थित कैंट के हिल स्ट्रीट स्थित ओल्ड ग्रांट के बंगला नंबर 64 में बार व रेस्टोरेंट के लिए रात के अंधेरे में युद्ध स्तर पर अवैध निर्माण किया जा रहा है। सुनने में है कि किन्हीं रस्तौगी बंधुओं के बार व रेस्टारेंट के लिए कैंट बोर्ड के एक बडे भाजपाई जन प्रतिनिधि ने निर्विघ्न काम कराने का ठेका लिया है।

अपुष्ट सूत्रों के अनुसार इस काम के लिए एक बड़ी डील फाइन की गयी है। लेकिन हैरानी इस बात की है कि चंद कदम की दूरी पर चल रहे अवैध निर्माण की भनक तक डीईओ आफिस के स्टाफ को नहीं लगी है। या फिर जानबूझ कर यहां बार व रेस्टोरेंट के लिए कराए जा रहे अवैध निर्माण से बे-खबर रहने का नाटक किया जा रहा है। इंडाना बार से चंद कदम की दूरी पर स्थित बंगला नंबर 64 में शाम ढलते ही काम शुरू हो जाता है।

अपुष्ट सूत्रों का कहना है कि यहां निर्माण के ठेके से बोर्ड के एक निर्वाचित वो भी भाजपाई नेता जुडे हैं इसलिए इस ओर झांकने की कोई हिम्मत भी नहीं जुटा पा रहा है। अवैध निर्माण के अलावा बार व रेस्टोरेंट के लिए जो सरकारी औपचारिकता पूरी की जाती हैं उनको लेकर भी स्थिति स्पष्ट नहीं।

पड़ोसियों ने जतायी आपत्ति

बंगला 64 के आसपास रहने वाले लोगों ने यहां रात के अंधेरे में टीन व पर्दे डालकर किए जा रहे अवैध निर्माण को लेकरआपत्ति जतायी है। यह भी बताया गया है कि पड़ौसियों ने डीईओ, सीईओ व सब एरिया हैड क्वार्टर पर भी इसको लेकर शिकायत दी है, लेकिन अवैध निर्माण को कैंट बोर्ड के एक बडे भाजपाई सदस्य का संरक्षण हासिल हैं इसलिए कोई भी अफसर इस ओर जाने की हिम्मत तक नहीं जुटा पा रहा है। शिकायत व सूचना के बाद भी कैंट अफसरों की चुप्पी व उनकी भूमिका को लेकर तमाम तरह की चर्चाएं हैं।

सेना के इस बंगल में बार व रेस्टोरेंट के नाम पर किए जा रहे अवैध निर्माण की जानकारी कैंट बोर्ड के सदस्यों को होने की भी बात कही जा रही है। लेकिन मामला डील से जुड़ा होने की वजह से कैंट बोर्ड के सदस्यों ने भी मुंह पर पट्टी बांध ली है। पड़ौसियों ने बताया कि जानते तो सभी मैंबर व अफसर हैं, लेकिन मामला प्रभावशाली लोगों से जुड़ा होने की वजह से कोई भी मुंह खोलने को तैयार नहीं। न ही कैंट अफसर खासतौर से डीईओ व सीईओ कार्यालय कार्रवाई या उधर जाकर झांकने तक की हिम्मत तक नहीं जुटा पा रहे हैं।

बीआई लाइन 46 में किसके इशारे पर कूड़ा दहन

कैंट स्थित बीआई लाइन के ओल्ड ग्रांट के बंगला नंबर 46 भी इन दिनों खासा चर्चा में है। यहां बहुत बडेÞ स्तर पर अवैध निर्माण की सुबबुगाहट के साथ ही झाड़ झंकार की सफाई कर दिन दहाडेÞ कूडा कचरा दहन किया जा रहा है। जबकि ध्यान रहे कि एनजीटी व सुप्रीम कोर्ट ने कूड़ा कचरा जलाए जाने की सख्त मनाही की है।

हील स्ट्रीट बंगला 64 में रात के अंधेरे में चल रहे अवैध निर्माण के संबंध में इस संवाददाता ने सीईओ कैंट, एसीईओ, डीईओ डिफेंस व कैंट बोर्ड उपाध्यक्ष का पक्ष जानने के लिए उन्हें काल किया तो उन्होंने रिसीव नहीं की गयी। इस कारण इस बंगले व इसमें कराए जा रहे अवैध निर्माण के पीछे के कारणों को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं हो सकी।

सिर्फ एसीईओ का रिप्लाई काल के कुछ समय बाद कैंट बोर्ड की एसीईओ ममता कुमारी का काल रिप्लाई आया। उनको पूरे मामले की इस संवाददाता ने जानकारी दी। तो उन्होंने खुद के अवकाश पर होने की बात कहते हुए कहा कि इस संबंध में कैंट बोर्ड के अमुक अधिकारी से बात की जाए।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments