Monday, November 29, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsShamli'मंगलवार को घर से न निकलें, हर नाका-चौराहे पर चक्का जाम'

‘मंगलवार को घर से न निकलें, हर नाका-चौराहे पर चक्का जाम’

- Advertisement -
  • किसान संगठनों ने कृषि कानूनों के विरोध में कसी कमर
  • नेताओं ने व्यापारियों पर छोड़ा बंद शामिल होने का फैसला

जनवाणी ब्यूरो |

शामली: केंद्र की भाजपा सरकार द्वारा कुछ माह पहले देश में लागू किए गए तीन कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की मांग को लेकर मंगलवार को किसान संगठनों और श्रमिक यूनियनों के आह्वान पर भारत बंद को सफल बनाने के लिए किसान संगठनों ने अपनी रणनीति बना ली है। मेरठ-करनाल हाइवे, पानीपत-खटीमा तथा दिल्ली-यमुनौत्री हाइवे को पूरी तरह से जाम रखने की रणनीति बनाई गई है। साथ ही, व्यापार संगठनों से बंद को सफल बनाने में सहयोग की अपील की गई है।

भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश प्रवक्ता कुलदीप पंवार ने बताया कि मंगलवार को तीनों कृषि कानूनों को तत्काल प्रभाव से निरस्त किए जाने की मांग को लेकर देशभर के किसान संगठनों और श्रमिक यूनियन ने भारत बंद का ऐलान किया है। पूर्वाह्न 11 बजे से अपराह्न 3 बजे तक शामली जनपद को पूरी तरह से चक्का जाम किया जाएगा।

इसके लिए शामली नगर पालिका में सर्वसम्मति से किसान संगठनों और खाप चौधरियों की बैठक में लिए गए निर्णय के अनुसार बंद को सामूहिक रूप से आंदोलन कर सफल बनाया जाएगा। भाकियू की ओर से मेरठ-करनाल हाइवे पर हरियाणा के करनाल जनपद की सीमा से सटे झिंझाना थाने के बिड़ौली चेकपोस्ट पर मास्टर मोहर सिंह तथा भंवर सिंह खोडसमा के नेतृत्व में चक्का जाम किया जाएगा।

शामली शहर के गुरुद्वारा तिराहा पर प्रदेश प्रवक्ता कुलदीप पंवार, योगेश पंवार, अजीत निर्वाल, गाड़ीवाला चौराहे पर मास्टर भंवर सिंह के नेतृत्व में चक्का जाम किया जाएगा। दूसरी कांधला में दिल्ली-यमुनौत्री हाइवे पर चौ. चरण सिंह की प्रतिमा के पास पप्पू भारसी के नेतृत्व में जाम लगाया जाएगा।

दूसरी ओर, भाकियू के प्रदेश महासचिव कुलदीप पंवार के नेतृत्व में किसानों ने शहर में एलाउंसमेंट कर व्यापारियों से भारत बंद में सहयोग की अपील की। इस दौरान दीपक शर्मा, आमिर राव, पप्पू मालैण्डी, ओमवीर पटवारी, अजीत निर्वाल, गुलफाम मंसूरी आदि मौजूद रहे।

भारतीय किसान यूनियन भानु के राष्ट्रीय महासचिव चौधरी अनिल मलिक ने बताया कि तीन कृषि कानूनों के विरोध में 8 दिसंबर को भारत बंद को सफल बनाने के लिए ग्राम प्रधानों से संपर्क कर प्रत्येक गांव में एलाउंसमेंट कराकर बंद को सफल बनाने का आह्वान किया गया है।

अपील की है कि कोई भी ग्रामीण शुगर मिल, मंडिया या बाजारों में ना निकले। जो किसान जाम के निर्धारित प्वाइंटों पर नहीं पहुंच सकते वह अपने गांव के सामने ही हाईवे को जाम करें। मलिक ने बताया कि भाकियू भानू की ओर से कस्बा थानाभवन में दिल्ली-यमुनौत्री हाइवे पर मंडलाध्यक्ष ठा. शक्ति सिंह के नेतृत्व में चक्का जाम किया जाएगा।

सभी किसान संगठन के पदाधिकारी व्यापारिक संगठनों के नेताओं से भी संपर्क कर जाम में सहयोग करने के लिए कर रहे हैं। किसान संगठन जाम से एंबुलेंस, विवाह समारोह बसों एवं परीक्षा देने जा रहे परीक्षार्थियों को में शामिल होने वाले एवं दिल्ली पुलिस के परीक्षार्थियों को जाम से मुक्त रखकर जाने देंगे।

किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सवित मलिक ने कहा कि 8 दिसंबर के भारत बंद में सभी व्यापारी भाईयों से भी समर्थन मांगा गया है क्योंकि मंडी खत्म होने से व्यापारी खत्म होगा और बड़ी बड़ी कंपनी और माल खुल जाने से छोटे दुकानदार भी प्रभावित होंगे। यह कानून भारत की 80 प्रतिशत आबादी को प्रभावित करते हैं इसलिए हमारी अपील हैं।

बंद को समर्थन पर दुकानें बंद स्वेच्छा से करें: गर्ग
पश्चिमी उप्र संयुक्त उद्योग व्यापार मंडल ने मंगलवार को भारत बंद को पूर्णत: समर्थन की घोषणा की है। व्यापार मंडल के प्रदेशाध्यक्ष घनश्याम दास गर्ग ने व्यापारी से मुखातिब होते हुए कहा कि किसानों द्वारा अपनी मांगों के समर्थन में चलाए जा रहे आंदोलन में 8 दिसंबर को भारत बंद की अपील पर पश्चिमी उत्तर प्रदेश संयुक्त उद्योग व्यापार मंडल ने देश के किसानों के इस भारत बंद का समर्थन का निर्णय लिया है। अत: उत्तर प्रदेश के व्यापारियों से अनुरोध है कि मंगलवार को प्रदेश के सभी जिलों में नगरों के व्यापारी किसान भाइयों द्वारा कल किए जाने वाले भारत बंद का समर्थन कर किसान भाइयों को सहयोग करें। गर्ग ने कहा कि बंद को उनके संगठन का समर्थन है लेकिन वे किसी भी कार्यक्रम में नहीं जाएंगे। अगर किसान संगठन बंद का निवेदन करते हैं तो फिर 2-4 मिनट के लिए प्रतिष्ठान सांकेतिक रूप से बंद रखे जा सकेंगे। उनकी ओर से किसी भी व्यापारी को प्रतिष्ठान बंद रखने और न ही खोलने के लिए कहा गया है।

कैराना: कंछल गुट का भारत बंद को पूर्ण समर्थन
तीन कृषि कानूनों के विरोध में 13 दिन से दिल्ली में आंदोलित किसानों के भारत बंद को उप्र उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल ने अपना पूर्ण समर्थन दिया है। प्रतिनिधि मंडल के नगर अध्यक्ष विपुल कुमार जैन ने बताया कि व्यापार मंडल के प्रदेश अध्यक्ष बनवारी लाल कछल से आदेश प्राप्त हुए कि प्रदेश के करीब साढ़े तीन करोड़ व्यापारी किसान भाइयों के साथ हैं। उन्होंने कहा कि जब दुकानदार अपने सामान को एमआरपी पर बेच सकता हैं तो किसानों को भी अपनी फसल एमआरपी के हिसाब से बेचने का अधिकार हैं। सरकार को किसानों की मांग माननी चाहिए। उन्होंने भारत बंद में अपना पूर्ण समर्थन देने की बात कही। साथ, ही नगर अध्यक्ष ने नगर के व्यापारियों से कहा कि कोई भी व्यापारी भारत बंद में अपने प्रतिष्ठान अपनी इच्छानुसार बंद या खोल सकता हैं।

 

जनपद के अधिवक्ता न्यायिक कार्य से रहेंगे विरत
जिला बार एसोसिएशन ने मंगलवार आठ दिसंबर को भारत बंद के दौरान न्यायिक कार्यों से विरत रहने का निर्णय लिया है। एसोसिएशन के महासचिव अरविन्द कुमार जावला ने बताया कि सोमवार को जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष रामपाल सिंह की अध्यक्षता में बार भवन में एक बैठक हुई जिसमें सर्वप्रथम जिलाधिकारी अजय कुमार सिंह के आकस्मिक निधन पर दो मिनट का मौन धारण कर भगवान से उनकी आत्मा को शांति के लिए प्रार्थना की गई। साथ ही, 8 दिसंबर को किसानों के आन्दोलन के चलते भारत बंद आह्वान पर अधिवक्ताओं के न्ययिक कार्यों से विरत रहेंगे। उधर, बार एसोसिएशन कैराना ने भी मंगलवार को न्यायिक कार्य से विरत रहने का निर्णय लिया है।

मंगलवार को नहीं सुनीं जाएंगी आपत्तियां
सक्षम प्राधिकारी/ उप जिलाधिकारी शामली संदीप कुमार ने बताया कि दिल्ली-सहारनपुर-देहरादून तक इकोनोमिक कॉरीडोर का विकास परियोजना के निर्माण/ चौड़ीकरण के लिए गत 18 अक्टॅबर को प्रकाशित 3ए के गजट प्रकाशन के विरूद्ध प्राप्त अवशेष आपत्तियों की सुनवाई नियत 8-9 दिसंबर के स्थान पर अपरिहार्य कारणों से 11 दिसंबर को उनके द्वारा दोपहर एक बजे सुनी जाएंगी।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments