Tuesday, July 27, 2021
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutबेगमपुल: फुटपाथ पर लाखों खर्च, अब सजी हैं दुकानें

बेगमपुल: फुटपाथ पर लाखों खर्च, अब सजी हैं दुकानें

- Advertisement -
  • शास्त्री की मूर्ति स्थल पर भी किया कब्जा
  • फुटपाथ पर कब्जा और रैपिड रेल का काम, ट्रैफिक  जाम का बड़ा कारण
  • बेगमपुल और सोतीगंज मार्ग पर भी सड़क पर अवैध कब्जे

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: शहर के विकास को लेकर नगर निगमा हो या एमडीए कार्य तो किये जाते हैं लेकिन उन स्थानों की देखरेख में लापरवाही बरती जाती है। जिसका खामियाजा शहर की जनता को भुगतना पड़ता है। ऐसा ही नजारा बेगमपुल रोड पर सड़क किनारें सजी दुकानों के कारण रोजाना देखने को मिलता है।

एमडीए और कैंट बोर्ड की ओर से लाखों रुपये खर्च करने के बावजूद पैदल लोगों के लिये बने फुटपाथ पर आज दुकानें सज गई हैं। हालात यह है कि यहां पैर रखने तक को जगह नहीं है। यही हाल बेगमपुल रोड और सोतीगंज रोड का है यहां दुकानदारों ने सड़कें ही घेर रखीं हैं जो जाम का एक बड़ा कारण बनती हैं, लेकिन कोई इस ओर देखने वाला नहीं है।

शहर में विकास कार्य तेजी से हो रहे हैं, लेकिन उन कार्यों के पूरा हो जाने के बाद विभागों की ओर से की जाने वाली अनदेखी के कारण व्यवस्थाएं धरी की धरी रह जाती है। बेगमपुल  चौराहे पर बना फुटपाथ इसका जीता जागता उदाहरण है।

एमडीए और कैंट बोर्ड की ओर से लाखों रुपये खर्च कर यहां लालकुर्ती बाजार के किनारे बुगमपुल मार्ग पर फुटपाथ बनाया गया था जिससे पैदल चलने वालों को दिक्कतें न हों और जाम की समस्या न बने। लेकिन यहां सड़क किनारे दुकान लगाने वाले दुकानदारों ने अपनी दुकानें ही फुटपाथ के ऊपर सजा ली हैं। फुटपाथ के ऊपर ही कुर्सी मेज डालकर दुकान चलाई जा रही हैं लेकिन इस ओर किसी का ध्यान अभी तक नहीं गया है।

जबकि यहां बिल्कुल सामने ही आबूलेन चौकी भी है जहां पुलिस दिन रात रहती है लेकिन पुलिस वाले भी कुछ नहीं करते। जबकि ट्रैफिक पुलिस की जिम्मेदारी बनती है कि इस तरह से दुकानों को फुटपाथ पर न सजने दिया जाये।

वहीं, दूसरी ओर एमडीए की ओर से भी इस ओर संज्ञान नहीं लिया जा रहा है यहां खुलेआम फुटपाथ पर दुकान सज रही हैं और लोगों के पैदल चलने को जगह तक नहीं है जिस कारण लोग यहां सड़क से होकर निकलते हैं और जाम की समस्या बनती है।

लालबहादुर शास्त्री की मूर्तिस्थल पर भी अवैध कब्जा

लालकुर्ती बाजार शुरू होने से पहले यहां लाल बहादुर शास्त्री की मूर्ति लगी हुई है, लेकिन इस स्थल की देखरेख भी नहीं की जाती। बल्कि स्थल के चारों ओर दुकानें और ठेले लगे हैं जो यहां लोगों को बैठाकर खाना तक खिलाते हैं, लेकिन इनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जाती।

अगर यही हाल रहा तो दुकानें सड़कों तक आ जाएंगी और धीरे-धीरे इनका कब्जा बढ़ता चला जायेगा। जिसके बाद इन्हें चाहकर भी यहां से नहीं हटाया जा सकेगा।

सोतीगंज और बेगमपुल मार्ग पर भी अवैध कब्जा

यही हाल सोतीगंज और बेगमपुल से बच्चा पार्क की ओर आने वाले मार्ग का है। सोतीगंज मार्किट में दुकानदारों ने दिल्ली रोड पर सड़क तक अपनी दुकानें सजा रखी हैं। वाहनों का स्क्रेप और वाहनों के पुर्जे सड़क किनारे पड़े रहते हैं जिससे यहां आये दिन कोई न कोई हादसा होता रहता है लेकिन कोई इस ओर देखने वाला नहीं है।

कई बार यहां ट्रैफिक पुलिस के द्वारा अभियान भी चलाया गया, लेकिन बेगमपुल से लेकर दिल्ली बस अड्डे तक यही हाल है। कहीं मीट की दुकानें तो कहीं वाहनों की दुकाने सड़कों पर ही चल रही हैं।

उधर बेगमपुल से गंगा प्लाजा की ओर आने वाले मार्ग को भी दुकानों के सामने पार्किंग बना दिया गया है। यहां लोग सड़क पर ही कार और दुपहिया वाहन खड़े कर चले जाते हैं जिसके कारण यहां रोजाना हादसे होते रहते हैं और कोई इस ओर ध्यान नहीं देखा। यहां भी ट्रैफिक पुलिस को ध्यान देने की जरूरत है कि दुकानों के सामने सड़क पर वाहन खड़े न हों।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments