Tuesday, June 25, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutजिंदगी बन गई नर्क, गलियों में बह रहा गंदा पानी

जिंदगी बन गई नर्क, गलियों में बह रहा गंदा पानी

- Advertisement -
  • खैर नगर क्षेत्र के बाद अब सराय लाल दास में मुसीबत
  • भाजपा पार्षद की शिकायत पर भी नहीं हो रही सुनवाई

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: शहर वासियों का जीवन नर्क बन गया है। पहले तो मौहल्ला बागरिया खैरनगर के निवासी गंदे पानी की निकासी न होने का दंश झेल रहे थे। अब सराय लाल दास की गलियों में कई दिनों से नालियों की निकासी न होने से गंदा पानी यहीं भर रहा है। बड़ी लापरवाही यह है कि भाजपा पार्षद की भी निगम अधिकारी सुनवाई नहीं कर रहे हैं। पिछले सात माह से अधिक समय से मौहल्ला छतरी वाले पीर तिराहे से लेकर बागपत गेट तक नालो का निर्माण किया जा रहा है। छतरी वाले पीर से लेकर घंटाघर तक दोनों और नाले बने हुए हैं। यहां एक ओर नाला बनाकर उसे लिंटर डालकर पाट दिया गया।

वहीं, दूसरी ओर जिला महिला अस्पताल और जिला अस्पताल से सटे नाल में सीमेंटेड पाइप डालकर उसे पाटने का कार्य किया जा रहा है। अहमद रोड से जुड़े आमिर रोड के पानी के निकासी के लिए कुछ वर्षों पूर्व पाइप डालकर जिला महिला अस्पताल के नाले में डाला गया था। जिसे अब नालों का निर्माण कर कर रहे ठेकेदार ने बंद कर दिया। जिससे क्षेत्र की पानी की निकासी ठप हो गई। इस क्षेत्र में रहने वाले करीब 200 घरों की पानी की निकासी पूरी तरह बंद होने से यहां जलभराव की समस्या खड़ी हो गई है। खास बात ये है कि खैरनगर के दो सरकारी स्कूल संचालित होते हैं।

वहां भी अक्सर जलभराव से बच्चों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ता है। अक्सर बच्चे पानी में गिरकर चोटिल को रहे हैं। यह निर्माण कार्य करीब डेढ वर्ष से अधिक अवधि से चल रहा है। कछुआ गति से हो रहा कार्य लोगों के लिए मुसीबत बना हुआ है। बजरिया व खैर नगर के लोगों का कहना है कि उन्होंने नगर निगम के अधिकारियों से पानी की निकासी की मांग की, लेकिन समस्या का निराकरण नहीं हो पाया। उन्होंने ठेकेदार से भी गुहार की, लेकिन ठेकेदार ने उन्हें धमका दिया और पानी की निकासी खोलने से मना कर दिया। कुछ इसी तरह का कारनामा भूमिया के पुल के पास नाला निर्माण का भी कर दिया गया है।

ओडियन नाले पर लगातार निगम द्वारा सफाई का कार्य किया जा रहा है इसके बावजूद भी ओडियन नाले का जलस्तर बिल्कुल भी नीचे नहीं उतर रहा है। इसकी बड़ी वजह भूमिया के पुल पर बनी पुलिया के बराबर मे नई पुलिया बनाना है। ठेकेदार ने कमीशन के लिए यहां आधा अधूरा निर्माण इस प्रकार से कर दिया है कि गंदा पानी गलियों में ही भर रहा है। भूमिया के बड़े नाले में गली सेठान सराय लाल दास की दर्जनों गलियों का पानी पहुंचता है, लेकिन जब ओडियन नाले का जलस्तर ही नीचा नहीं हो रहा है तो गलियों में पानी बैक मार रहा है और गलियों में ही जमा हो रहा है। अब दो महीने से स्थिति बहुत ही डांवाडोल बनी हुई है। यहां की सभी गलियों में गंदा पानी भरा हुआ है।

लोगों का पैदल चलना भी मुहाल हो गया है। गंदगी व मलबा गलियों में ही भरा होने से लोग घरों में कैद होकर रह गये हैं। यह क्षेत्र नगर निगम के वार्ड-69 में आता है। यहां भाजपा पार्षद पंकज गोयल दूसरी बार भी भाजपा के कोटे से पार्षद चुने गये हैं। बेहद व्यावहारिक तथा सभी की समस्याओं में खड़े रहने वाले भाजपा पार्षद निगम अधिकारियों से इस नाले की सफाई नहीं करा पा रहे हैं। लगातार शिकायत करने के बाद भी नगर निगम के एक भी सफाई कर्मचारी की यहां ड्यूटी नहीं लगाई गई तथा यहां से कूड़ा उठवाने के लिए भी कोई इंतजाम नहीं किया। अब भी यहां के लोग नर्क जैसी जिंदगी गुजारने को मजबूर हैं।

भाजपा पार्षद पंकज गोयल बताते हैं कि अगले महीने बकरीद का त्यौहार आ रहा है। उनके वार्ड में मिली जुली आबादी है। लोग घरों में पशुओं का कटान करेंगे। फिर इन नालियों में गंदा खून बहेगा। नालियां पहले ही चॉक हो रही हैं और गलियों में गंदा पानी भर रहा है। फिर बकरीद पर कटान के बाद तो यहां और भी बुरी स्थिति हो जायेगी। इसकी सबसे बड़ी वजह डिपो प्रभारी द्वारा भूमिया के पुल पर बनी पुलिया के बराबर में नई पुलिया बनाने से हो रहा है। उनका कहना है कि यदि निगम अधिकारियों ने इस समस्या का दो दिन में निदान नहीं किया तो वह क्षेत्रवासियों के साथ यहीं धरना देकर बैठ जायेंगे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments