Sunday, April 21, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutजमीन से आसमान तक मेरठ का जलवा

जमीन से आसमान तक मेरठ का जलवा

- Advertisement -
  • आने वाला समय मेरठ का, कई बड़े शहरों को मात देने की तैयारी
  • पब्लिक ट्रांसपोर्ट: मेट्रो और रैपिड का बिछ रहा जाल
  • हवाई यात्रा का खाका हो रहा तैयार

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: पश्चिमी उत्तर प्रदेश की राजधानी के रुप में गिने जाने वाले मेरठ का पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम आने वाले कुछ ही समय में विश्व पटल पर अपना नाम दर्ज कराने जा रहा है। भविष्य में मेरठ देश के उन गिने चुने शहरों में शुमार हो जाएगा जो पब्लिक ट्रांसपोर्ट के लिहाज से सर्वोच्च श्रेणी में होंगे।

अपने मेरठ में लोकट टेÑेवलिंग के लिए जहां सिटी ट्रांसपोर्ट सिस्टम बेहतर तरीके से डेवेलप किया जा रहा है वहीं मेरठ में अन्तर्राज्जीय आवागमन के लिए पहले से सिस्टम पूरी तरह से विकसित है। आने वाले कुछ ही समय में मेरठ हवाई मार्ग से भी जुड़ जाएगा। कुल मिलाकर मेरठ का पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम कुछ ही समय बाद बड़े वैश्विक शहरों से कदमताल करता दिखेगा।

सिटी ट्रांसपोर्ट सिस्टम

शहर के लिए यातायात को सुगम बनाने के उद्देश्य से यहां मेट्रो ट्रेन जैसे महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट पर तेजी से काम चल रहा है। आने वाले डेढ़ से दो सालों में मेरठ में मेट्रो ट्रेन की सेवाएं यहां के लोगों मिलनी शुरू हो जाएंगी। इसके लिए शहर में 21 किमी का रुट मेट्रो ट्रेन के लिए तैयार हो रहा है

14 3

जिसमें से 19 किमी का रुट एलिवेटेड होगा और दो किमी मेट्रो अंडरग्राउंड दौडेÞगी। इसके अलावा मेरठ में सिटी बसें पहले से ही यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुंचा रही हैं। हालांकि अब मेरठ में सिटी बसें भी आधुनिक होंगी। इस पर काम शुरू हो गया है तथा डीलक्स सिटी बसों की आपूर्ति व इनका संचालन मेरठ के लिए शुरू किया जा चुका है।

अन्तर्राज्जीय ट्रांसपोर्ट सिस्टम

अन्तर्राज्जीय पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम में भी मेरठ आगे है। यहां भैंसाली व सोहराब गेट बस स्टैंड से देश के विभिन्न राज्यों के साथ साथ कई महत्वपूर्ण शहरों के लिए बसें उपलब्ध हैं। इसके अलावा दिल्ली से मेरठ वाया गाजियाबाद शीघ्र ही रैपिड टेÑेन की सेवाएं मिलनी शुरू हो जाएंगी।

रैपिड ट्रेन प्रोजेक्ट अपने आप में बेहद महत्तवपूर्ण व अनोखा प्रोजेक्ट है। 30 हजार करोड़ से अधिक के इस प्रोजेक्ट पर दिन रात काम चल रहा है और 2024-25 तक दिल्ली से मेरठ के बीच 82 किमी के कॉरिडोर पर रैपिड टेÑेन दौड़नी शुरू हो जाएगी। मेरठ में टैक्सी सेवाएं भी पूरी तरह डेवेलप हैं। यानि आप टैक्सी द्वारा मेरठ से किसी भी शहर के लिए टैक्सी बुक कर सकते हैं।

रेल यातायात

शहर में सिटी व कैंट के रूप में दो रेलवे स्टेशन हैं। जहां से प्रतिदिन हजारों यात्री अपने गंतव्य के लिए सफर करते हैं। मेरठ शहर व कैंट से कई महत्वपूर्ण रेलगाड़ियां कई महत्तवपूर्ण शहरों के लिए चलती हैं और कई यहां से होकर गुजरती हैं। मेरठ सिटी रेलवे स्टेशन की लाइनें ब्रॉड गेज में हैं और यहां कुल छह प्लेटफॉर्म हैं।

नौचंदी एवं संगम एक्सप्रेस के अलावा राज्यरानी एक्सपे्रस जैसी महत्वपूर्ण रेलगाड़ियां भी यहीं से संचालित होती हैं। जो लखनऊ और प्रयागराज जाती हैं। इसके अलावा मेरठ कैन्ट रेलवे स्टेशन भी काफी महत्वपूर्ण है। यहां पर कई प्रमुख गाड़ियों का स्टे है। पुरानी दिल्ली और मेरठ के बीच रेलवे लाइन का निर्माण 1864 में किया गया था।

हवाई यातायात

शहर का हवाई मार्ग भी जल्द शुरू होने की उम्मीद है। गंगोल रोड पर कई वर्ष पूर्व हवाई पट्टी विकसित की गई थी। हालांकि अभी यहां केवल राजनीतिक आवागमन ही होता है, लेकिन जल्दी ही इस हवाई पट्टी को विस्तार दिए जाने की योजना पर काम चल रहा है और उम्मीद है कि शीघ्र ही इस हवाई पट्टी से छोटे हवाई जहाज विभिन्न शहरों के लिए उड़ान भरेंगे।

15 3

इसके लिए नागरिक उड्यन मंत्रालय स्तर पर चर्चा जारी है। सांसद राजेन्द्र अग्रवाल यहां से उड़ान शुरू करवाने के लिए प्रयासरत् हैं। उम्मीद है कि आने वाले कुछ समय में यहां से हवाई सुविधा मिलनी शुरू हो जाएगी। इस लिहाज से मेरठ विश्व के परिवहन मानचित्र पर नाम दर्ज करा लेगा।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
4
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments