Thursday, April 25, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutथ्री लेयर सिक्योरिटी से होगी निगरानी

थ्री लेयर सिक्योरिटी से होगी निगरानी

- Advertisement -
  • इलेक्ट्रिक बसों में हर गतिविधि पर रहेगी मल्टी लेयर सुरक्षा घेरे की नजर

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: नगरिया बस सेवा के अंतर्गत चलने वाली इलेक्ट्रिक बसों की निगरानी के लिए विभिन्न स्थानों पर बनाए गए कंट्रोल रूम से नजर रखी जाएगी। इसमें लखनऊ मुख्यालय और लोहिया नगर चार्जिंग स्टेशन के साथ-साथ नगर निगम में भी बनाए गए कंट्रोल रूम को कमांड सौंपी गई है। इन तीनों स्थानों पर बने कंट्रोल रूम से महानगर की बसों के संचालन पर पूरी नजर रखी जाएगी।

इलेक्ट्रिक बसों के संचालन का दायित्व संभाल रहे सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक विपिन कुमार सक्सेना ने बताया की प्रत्येक इलेक्ट्रिक बस में पांच कैमरे लगाए गए हैं। जिनमें एक फ्रंट, एक बैक और तीन कैमरे बस के अंदर की स्थिति को रिकॉर्ड करेंगे। साथ ही इन सभी कैमरों के जरिये लोहिया नगर में स्थित चार्जिंग स्टेशन के कंट्रोल रूम में भी बस की तमाम गतिविधियों को लाइव देखा जा सकेगा।

एआरएम ने बताया कि इन कैमरों की मदद से बस में होने वाली हर गतिविधि को न सिर्फ देखा जा सकेगा, बल्कि आॅडियो भी रिकॉर्ड की जा सकेगी। मल्टी लेयर निगरानी के लिए नगर निगम में बनाए गए कंट्रोल रूम को भी बसों की निगरानी के लिए अधिकृत किया गया है। वहीं लखनऊ मुख्यालय भी प्रत्येक बस में लगे कैमरों के आॅडियो वीडियो को लाइक और रिकॉर्डेड स्थिति में देख सकता है।

22 24

एआरएम विपिन कुमार सक्सेना ने बताया की एक ओर सुरक्षा की दृष्टि से बस में पांच कैमरे लगाए गए हैं, वहीं किसी भी आपातकालीन स्थिति के लिए पैनिक बटन भी दिया गया है। लाइव मोनिटरिंग के लिए कंट्रोल रूम बनाकर शिफ्टवार तकनीकी टीम तैनात की गई है। जीपीएस, मार्ग का पता होता है, कहां बस रोकी गई। यात्री फीडबैक देते हैं। कोई समस्या हो तो कॉल करते हैं।

उन्होंने बताया कि लोहिया नगर कंट्रोल रूम में शीघ्र ही एक हेल्प लाइन नंबर शुरू किया जाएगा। जिसके बारे में सभी बसों में सूचना अंकित कराई जाएगी। इसका लाभ यह होगा कि यात्री अपनी शिकायत और सुझाव के लिए अधिकारी से सीधे संपर्क स्थापित कर सकेंगे। साथ ही संचालन में हो रही किसी भी प्रकार की त्रुटि से अधिकारियों को अवगत करा सकेंगे।

ऐसे होता है इलेक्ट्रिक बसों का संचालन

वीएसके सिटी बस आॅपरेशन प्रा.लि. के माध्यम से महानगर में 50 बसों का बेड़ा उपलब्ध कराया गया है जिसकी एवज में नगरीय सेवा विभाग की ओर से बस सेवा प्रदाता कंपनी को प्रति किलोमीटर की दर से निर्धारित राशि दी जाती है। कंपनी की ओर से बस, चालक, मेंटिनेंस, चार्जिंग आदि सभी सुविधाएं दी जाती हैं। जबकि बसों का संचालन और परिचालक की व्यवस्था नगरीय सेवा विभाग की ओर से किया जाता है।

नगरीय सेवा विभाग में कमिश्नर पदेन चेयरमैन, डीएम, नगर आयुक्त, एमडीए वीसी, आरटीओ, एसएसपी, निदेशक मंडल में शामिल होते हैं। संचालन सुचारू करने के लिए अधिकारियों की टीम के साथ एमडी का पद भी है, जिसका प्रभार इन दिनों आरएम के पास है। निरन्तर घाटे में चलने वाली नगरीय बस सेवा के दौरान होने वाली क्षति की पूर्ति निदेशालय के जरिये होती है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments