Sunday, April 21, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutमुंबई पुलिस का देहलीगेट में छापा सोना लेकर भागने वाला दबोचा

मुंबई पुलिस का देहलीगेट में छापा सोना लेकर भागने वाला दबोचा

- Advertisement -
  • ट्रांजिट रिमांड पर लेकर मुंबई पुलिस लौटेगी

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: मुंबई पुलिस ने आज थाना देहलीगेट क्षेत्र में छापा मारकर वहां से लाखों रुपये कीमत को सोना लेकर भागने वाले एक बंगाली कारीगर को गिरफ्तार किया है। उसको ट्रांजिट रिमांड पर लेकर मुंबई पुलिस लौटेगी। मुंबई के पायदुनी पुलिस स्टेशन से उप निरीक्षक संकल्प मुकल यहां पहुंचे थे। उन्होंने थाना देहलीगेट में आमद दर्ज करायी और जानकारी दी कि अभियुक्त अनन्त पुत्र नेमई मुअसं 135/24 धारा 408 से संबंधित 84 ग्राम सोना सोना लेकर भागा था।

उसको देहलीगेट थाना के मौहल्ला शिव मन्दिर के पास बागपत गेट चौकी घंटाघर से गिरफ्तार कर लिया है। अभी तक मेरठ से सोना लेकर भागने के मामले सामने आते थे, लेकिन दूसरे राज्य से सोना लेकर भाग कर मेरठ आने का यह अपनी तरह का पहला मामला माना जा रहा है। वहीं, दूसरी ओर इस घटना के सामने आने के बाद सबसे ज्यादा चिंतित ज्वेलरी कारोबारी हैं। उनका कहना है कि कारीगरों के सोना लेकर भागने की समस्या देश के अन्य राज्यों में भी सामने आ रही है।

17 18

आशंका व्यक्त की जा रही है कि इस प्रकार का अपराध करने वाले कोई संगठित गिरोह बनाकर अपराध का तरीका बदल सकते हैं। वहीं दूसरी ओर पिछले दिनों शहर सराफा बाजार से जो बंगाली कारीगर सोना लेकर भागे थे, पुलिस अभी तक उनका सुराग नहीं लगा सकी है। हालांकि पिछले दिनों थाना देहलीगेट पुलिस पश्चिम बंगाल पहुंची गई थी। जो लोग सोना लेकर भागे पुलिस उनके घर तक भी पहुंच गयी थी, लेकिन सोना लेकर भागने वाले पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ सके।

अधिवक्ताओं का एसएसपी कक्ष में हंगामा, सीओ से अभद्रता

मेरठ: सोमवार को कचहरी में खिवाई निवासी तीन व्यक्तियों के साथ मारपीट कर उनमें से एक युवक को एसएसपी आॅफिस में उसे सौंपे जाने बाद में छोड़े जाने पर अधिवक्ताओं ने एसएसपी आॅफिस कक्ष में जमकर हंगामा काटा। अधिवक्ताओं का आरोप था कि युवक को पकड़कर पुलिस को सौंपा गया था। बावजूद इसके पुलिस ने उसे बिना कार्रवाई के छोड़ दिया। शोरशराबा हंगामा करने पर सीओ ने भी अधिवक्ताओं को प्रोफेसन की गरिमा का ख्याल रखने की हिदायत दी।

अधिवक्ताओं का एक समूह 15-20 की संख्या में सोमवार को एसएसपी आॅफिस पर पहुंचा। एसएसपी रोहित सिंह सजवाण के न मिलने पर फरियादियों की सुनवाई कर रहे सीओ सिविल लाइन से अधिवक्ताओं की एक युवक को छोड़े जाने पर जमकर नोकझोंक हुई। अधिवक्ताओं ने सीओ के समक्ष आरोप लगाया कि जब सोमवार को खिवाई निवासी महबूब और एक अन्य को पकड़कर एसएसपी आफिस में पुलिस को सौंपा था। तो उन्हें क्यों छोड़ा गया। पुलिस ने उस पर 151 की कार्रवाई क्यों नहीं की।

इस पर सीओ सिविल लाइन ने जवाब दिया कि दारोगा ने पूरे मामले की जांच की है, उस पर कोई कार्रवाई नहीं बनती थी। इसलिए उसे छोड़ दिया गया। युवक को छोड़े जाने पर अधिवक्ताओं ने एसएसपी के कक्ष में जमकर हंगामा शुरु कर दिया और चेतावनी दी कि हम एक हजार वकील खड़ा कर देंगे और कचहरी बंद करा देंगे। शोर शराबा और कहचरी बंद करने की बात पर सीओ सिविल लाइन भी आक्रमक मूड में आ गये।

उन्होंने अधिवक्ताओं से कहा एक हजार या एक लाख ले आओ आप। मैं डरने वाला नहीं हूं। पुलिस आॅफिस की एक गरिमा होती है। मेरे पास दबने का कॉलम नहीं है। हमारे दारोगा ने कहा कि एक वकील ने पीटा है तो उस पर कार्रवाई नहीं बनती। काफी देर तक सीओ और अधिवक्ताओं के बीच नोकझोंक हुई। अंत में सीओ सिविल लाइन ने प्रार्थनापत्र लेकर जांच के बाद कार्रवाई का आश्वासन दिया।

ये था मामला

कस्बा खिवाई निवासी महबूब पुत्र यूनुस ने सोमवार को एसएसपी आॅफिस में शिकायत करते हुए कस्बे के इमरान पुत्र शेर मौहम्मद व मौहम्मद आरिफ पर 40 हजार रुपये लेने का आरोप लगाया था। महबूब ने एसएसपी से शिकायत की थी कि वह और उसके साथ दो अन्य युवक कचहरी में आ रहे थे तभी अधिवक्ता आरिफ और कई अन्य अधिवक्ताओं ने उनसे मारपीट की थी। मारपीट के बाद उनमें से एक युवक को पकड़कर पुलिस को सौंप दिया था।

मायके से पैसे न लाकर देने पर मारपीट का आरोप

मेरठ: पीहर से पैसे लाकर देने से इंकार करने पर विवाहिता ने पति व अन्य ससुराल वालों पर मारपीट का आरोप लगाया है। पीड़िता समरीन पुत्री जावेद ने थाना कोतवाली पर दी तहरीर में कहा है कि 11 साल पहले उसकी शादी सरायबहलीम निवासी युवक से हुई थी। उसके चार बच्चे हैं। शादी के बाद से उसका शोहर मायके से पैसे मंगवाता रहा। अब उसने पैसे लाकर देने से इंकार किया तो मारपीट कर घर से निकाल दिया। विगत 20 फरवरी को वह अपने मायके में थी तब शौहर व ससुराल के अन्य सदस्य आए और उससे कोरे कागज पर सहमति के हस्ताक्षर करने को कहा। उसके इंकार करने पर शौहर व ससुरालियों ने उसको बुरी तरह पीटा। शोर शराब होने पर जब पड़ोसी आ गए तो वो लोग भगा गए। पीड़िता ने पुलिस से कार्रवाई की मांग की है।

बच्चों पर बंदरों का हमला, दो घायल

मेरठ: थाना ब्रह्मपुरी क्षेत्र के इंदिरा नगर में मंगलवार की शाम घर की छत पर पतंग उड़ा रहे तीन बच्चों पर बंदरों ने हमला कर दिया। दो बच्चों को बंदरों ने काट लिया। उन्हें एंटी रेबीज का इंजेक्शन लगवाने के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया। शाम में उक्त इंजेक्शन लगने की व्यवस्था न होने पर उन्हें मायूस लौटना पड़ा। इंदिरा नगर में इंदिरा नगर में शाम को रोशन लाल के तीन बच्चे अजय (5), विजय (7) व निशंक अपने घर की छत पर पतंग उड़ा रहे थे। इसी बीच बंदरों के झुंड ने उन पर हमला बोल दिया। निशंक पतंग छोड़कर भाग गया, जबकि अजय और विजय को बंदरों ने काट लिया। परिजनों ने दोनों को एक प्राइवेट चिकित्सक के पास पहुंचाया। जहां टिटनेस का इंजेक्शन लगाने के बाद उन्हें एंटी रेबीज का इंजेक्शन लगवाने के लिए जिला अस्पताल भेजा गया। शाम को इंजेक्शन लगाने की व्यवस्था न होने पर परिजन बच्चों को घर ले गए।

दो पक्षों में मारपीट, पथराव

मेरठ: लोहिया नगर थाना क्षेत्र के फतेहउल्लापुर निवासी फरमान ने बताया एक माह पहले पास के रहने वाले कल्लू तालिब सिराजुल सगीर वह चांद से बच्चों के विवाद को लेकर कहा सुनी हो गई थी। जिसको लेकर कल्लू वह तालिब रंजिश रखने लगा था फरमान का आरोप है कि मंगलवार को बेटा समीर घर के काम से जा रहा था रास्ते में कल्लू वह तालिब ने आधा दर्जन दबंग को बुलाकर समीर के साथ गाली-गलौज करते हुए मारपीट कर दी शोर शराबा की आवाज सुनकर दूसरे पक्ष के लोग भी आमने-सामने आ गए

जमकर हुई मारपीट पथराव धारदार हथियार से हमला कर दिया मारपीट में समीर मामूली रूप से घायल हो गया पथराव की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने घटनास्थल की जानकारी की हंगामा कर रहे दोनों पक्ष के लोगों को समझा-बूझाकर शांत कराया पुलिस ने घायल को जिला अस्पताल में भर्ती कराया। दोनों पक्ष ने एक-दूसरे पर मारपीट का आरोप लगाते हुए थाने में तहरीर दी लोहिया नगर इंस्पेक्टर संजय पांडेय का कहना है कि दोनों पक्ष की ओर से तहरीर मिली है जांच कर कार्रवाई की जा रही है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments