Saturday, June 12, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsShamliदभेड़ी खुर्द में छापेमारी, प्रतिबंधित मंगूरा मछली पालन मिला

दभेड़ी खुर्द में छापेमारी, प्रतिबंधित मंगूरा मछली पालन मिला

- Advertisement -
0
  • नोटिस जारी कर चार दिन में मछलियां नष्ट करने के दिए निर्देश

जनवाणी संवाददाता |

कैराना: मत्स्य विभाग मुजफरनगर की टीम ने क्षेत्र के गांव दभेडी खुर्द में छापेमारी की। छापेमारी क९ दौरान गांव में चार तालाबों में प्रतिबंधित मंगुरा मछली पालन पाया गया। मत्स्य विभाग के अधिकारियो ने चार दिन में मछलियों को नष्ट कर गड्ढे में दबवाने के लिए नोटिस जारी किया।

सोमवार शाम गांव खुरगान में ग्रामीणों ने एक पिकअप गाड़ी पकड़ कर हंगामा किया था। ग्रामीणो का आरोप था कि गाड़ी के अन्दर प्रतिबंधित मंगुरा मछली के चारे के लिए सड़ा गला मुर्गे के मांस का अवशेष जा रहा है। मंगुरा मछली के सड़ा मांस खिालने के कारण बीमारियों के फैलने के खतरे बना है।

मामले पर संज्ञान लेते हुए मंगलवार को मत्स्य विभाग मुजफ्फरनगर की टीम ने गांव दभेडी खुर्द में छापेमारी की मौके पर 4 तालाबों में मंगुरा मछली पालन पाया गया। मत्स्य विभाग के अधिकारियों मछली पालक को नोटिस जारी चार दिन में मछलियों को नष्ट न करने पर कार्रवाई की चेतावनी दी।

मत्स्य निरीक्षक कहिन

मंगुरा मछली पालन गैर कानूनी है। गांव दभेडी खुर्द में मंगुरा मछलियां मिलने पर पालक को चार दिन का नोटिस दिया गया है। यदि चार दिन में मछलियां नष्ट करके गड्ढे में नहीं दबाई जाती है तो पुलिस बल को साथ लेकर कार्रवाई की जाएगी।
 -पवन कुमार, निरीक्षक, मत्स्य विभाग मुजफ्फरनगर

कैराना: एक दिन पहले वीडियो हुई थी वायरल

एक दिन पहले शाम के समय हरियाणा से मंगुरा मछलियों के खाने के लिए मुर्गो के अवशेष लेकर आ रही पिकअप गाड़ी को गांव खुरगान में ग्रामीणों ने रोक कर हंगामा कर दिया था। हंगामे के दौरान भीड़ एक युवक व एक युवती को फर्जी पत्रकार भी बता रही थी। हंगामे की विडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गई थी। हंगामे की सूचना पर डायल 112 पुलिस ने मौके पर जाकर मामला शान्त करा दिया था।

कैराना: दो साल पहले तत्कालीन एसडीएम ने की थी बडी कार्रवाई

करीब दो साल पहले तत्कालीन एसडीएम डा. अमित पाल शर्मा ने मंगुरा मछली के मामले में कई स्थानो पर लगातार कई दिन तक छापा मार कार्रवाई करके हुए कई सौ टन मछलियों को नष्ट करा कर गड्ढो में दबवा दिया था। इस दौरान कई मछली पालकों के विरूद्ध मुकदमें भी दर्ज कराये गये थे।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments