Monday, December 6, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttarakhand Newsचारधाम यात्रा के लिए आज मार्ग व मौसम साफ

चारधाम यात्रा के लिए आज मार्ग व मौसम साफ

- Advertisement -

जनवाणी ब्यूरो |

नई दिल्ली: उत्तराखंड में आज मौसम साफ बना हुआ है। पहाड़ से लेकर मैदान चटख धूप खिली है। वहीं, चारधाम यात्रा भी सुचारू है। यमुनोत्री हाईवे पर जानकी चट्टी से पैदल मार्ग पर आवाजाही सुचारू है।

आज मंगलवार को सुबह से अभी तक 350 यात्रियो ने मां यमुना के दर्शन किए। यमुना के पुजारी कुलदीप उनियाल व जानकी चट्टी पुलिस चौकी इंचार्ज गंभीर तोमर ने बताया कि दोपहर तक यात्रियों की आवाजाही मे बढ़ोतरी होती है।

बदरीनाथ पहुंचे 2230 तीर्थयात्री

बदरीनाथ धाम में भी तीर्थयात्री की संख्या लगातार बढ़ रही है। सुबह दस बजे तक 2230 तीर्थयात्रियों ने भगवान बदरीनाथ के दर्शन किए। अतिवृष्टि से चमोली जनपद में ग्रामीण क्षेत्रों को यातायात से जोड़ने वाले 22 संपर्क मार्ग अभी भी अवरुद्ध हैं।

निचले क्षेत्रों को लौटने लगे नीती घाटी के ग्रामीण 

भारत-तिब्बत (चीन) सीमा क्षेत्र के गांवों के लोग अपने शीतकालीन प्रवास की ओर लौटने लगे हैं। घाटी में भोटिया जनजाति के ग्रामीण निवास करते हैं। ग्रामीण प्रतिवर्ष 20 अक्तूबर से निचले क्षेत्रों की ओर लौटने लग जाते थे लेकिन इस बार हाईवे अवरुद्ध होने के कारण लौट नहीं पा रहे थे।

रविवार रात को हाईवे सुचारू होने के बाद सोमवार से ग्रामीणों का शीतकालीन प्रवास की ओर लौटना शुरू हो गया है। नीती गांव के मां भगवती के पुजारी बृजमोहन खाती, वचन सिंह खाती का कहना है कि घाटी का प्रसिद्ध लास्पा मेला संपन्न होने के बाद अब ग्रामीण अपने शीतकालीन प्रवास की ओर लौटना शुरू हो गए हैं। बांपा गांव के धर्मेंद्र पाल, मनोज पाल, धीरेंद्र सिंह गरोड़िया व प्रेम सिंह फोनिया का कहना है कि मलारी हाईवे के बंद होने के चलते वे निचले क्षेत्रों में लौट नहीं पा रहे थे।

बीआरओ ने खोलीं चीन सीमा को जोड़ने वाली सड़कें

भारी बर्फबारी और बारिश के कारण तवाघाट-लिपुलेख और गुंजी-ज्योलीकांग की सड़क कई जगहों पर मलबा व बोल्डर आने से बंद हो गई थी। बीआरओ की 65 और 67 आरसीसी ने युद्ध स्तर पर कार्य कर 10000 से 14500 फु़ट की ऊंचाई पर स्थित इन सड़कों को खोल दिया है।

बीआरओ के एडीजी हरेंद्र कुमार ने चीन सीमा की सड़क का निरीक्षण कर विषम परिस्थितियों में कार्य कर रहे अधिकारियों और मजदूरों की हौसलाफजाई की और सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण सड़क को हर समय सुचारू रखने के निर्देश दिए।

गुंजी से लिपुलेख और गुंजी से ज्योलीकांग सड़क दो फुट से अधिक बर्फबारी होने के कारण बंद हो गई थी। बीआरओ की 65 आरसीसी कंपनी के अधिकारियों और मजदूरों ने कड़ी मेहनत के बाद सड़क को खोल दिया है। 67 आरसीसी ग्रेफ के अधिकारियों ने सोमवार को लामारी और छियालेख में बंद सड़क को भी खोला।

अब तवाघाट-लिपुलेख और गुंजी-ज्योलीकांग सड़क पूरी तरह यातायात के लिए खुल चुकीं हैं। सड़क खुलने से सेना, आईटीबीपी, एसएसबी के साथ-साथ व्यास घाटी के लोगों को आवाजाही में राहत मिल रही है।

गुंजी में आगामी 29 और 30 अक्तूबर को होने वाले आजादी के अमृत महोत्सव और शिवोत्सव की तैयारी में लगे लोगों ने भी राहत की सांस ली है। सुभाष बुदियाल और देवेंद्र सिंह ने बताया कि सड़क खुलने के बाद उच्च हिमालयी क्षेत्रों में फंसे 10 से ज्यादा वाहन धारचूला पहुंच गए हैं।

बीआरओ के एडीजी हरेंद्र कुमार के निरीक्षण के दौरान बीआरओ के चीफ इंजीनियर एमएएनवी प्रसाद और कमांडर कर्नल एनके शर्मा ने एडीजी को सड़क निर्माण आदि कार्यों की जानकारी दी।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments