Wednesday, June 19, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutवीडियो बनाने पर जूनियर डाक्टरों का थाने में हंगामा, पुलिस ने किया...

वीडियो बनाने पर जूनियर डाक्टरों का थाने में हंगामा, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

- Advertisement -
  • फैंटमकर्मी के भाई ने बनाई थी जूनियर डाक्टर की वीडियो
  • मेडिकल पुलिस ने नौचंदी और पुलिस लाइन से मंगाया फोर्स
  • जूनियर डाक्टरों ने फैंटमकर्मी पर लगाया वसूली का आरोप

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: मेडिकल कॉलेज में टहल रहे जूनियर डाक्टर की वीडियो बनाने पर थाने में हंंगामा हो गया। जूनियर डाक्टरों ने एक फैंटमकर्मी पर वीडियो बनाकर वसूली करने का आरोप लगाते हुए हंगामा किया तो पुलिसकर्मियों ने जूनियर डाक्टरों पर लाठी चार्ज कर दिया। जिसके बाद वहां भगदड़ मच गई। सूचना पर पहुंची सीओ सिविल लाइन ने किसी तरह मामले को संभालते हुए जूनियर डाक्टरों को शांत कराया। वहीं, बवाल की आशंका को देखते हुए मेडिकल इंस्पेक्टर ने नौचंदी और पुलिस लाइन से अतिरिक्त फोर्स को बुला लिया।

जानकारी के अनुसार मेडिकल थाने की फैंटम नंबर एक पर सिपाही दीपक और राजकुमार रहते है। सोमवार को सिपाही दीपक का भाई शिब्बू पुत्र सोमबीर निवासी सेवा जगतपुर जिला बुलंदशहर थाने में आया हुआ है। बताया गया है कि दीपक के पिता को केंसर है और उसका भाई शिब्बू अपने पिता के लिए दवाई लेने के लिए आया था। रात के समय जूनियर डाक्टर विवेक एक जूनियर महिला डाक्टर के साथ स्कूटी पर मेडिकल कॉलेज में घूम रहा था।

इसी दौरान सिपाही के भाई शिब्बू ने उनकी वीडियो बना ली। जूनियर डाक्टर ने विरोध किया तो शिब्बू ने अपने भाई दीपक को वहां बुला लिया। जिसके बाद दीपक ने जूनियर डाक्टर के साथ बदसलूकी करते हुए उनकी स्कूटी को छीनने का प्रयास किया। डाक्टर ने फोन कर अपने साथियों को बुला लिया। जिसके बाद करीब दो दर्जन जूनियर डाक्टर मेडिकल थाने पहुंचे और सिपाही पर बदसलूकी का आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया।

मामले को बढ़ते देख इंस्पेक्टर संतशरण ने नौचंदी थाने से फोर्स बुला लिया। जूनियर डाक्टरों और पुलिसकर्मियों के बीच काफी देर तक थाने के अंदर ही बहसबाजी होती रही। इसी बीच पुलिस ने अचानक से जूनियर डॉक्टरों पर लाठीचार्ज कर दिया। पुलिस ने जूनियर डॉक्टरों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। पुलिस के द्वारा लाठीचार्ज करने की सूचना मिलते ही थाने में 50-60 जूनियर डाक्टर पहुंच गए और पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर हंगामा शुरू कर दिया।

मामले को तूल पकड़ते देख सीओ सिविल लाइन मेडिकल थाने पहुंचे और पुलिस लाइन से अतिरिक्त फोर्स मंगा लिया। घंटों तक चली वार्ता के बाद जूनियर डाक्टर आरोपी सिपाही के भाई के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर अड़ गए। इसके बाद जूनियर डाक्टर विवेक ने आरोपी शिब्बू के खिलाफ तहरीर दी। तहरीर के बाद पुलिस ने सिपाही के भाई शिब्बू को हिरासत में लेकर बैठा लिया है। वहीं, सीओ सिविल लाइन का कहना है कि जूनियर डॉक्टर ने शिकायत दी है, शिकायत के आधार पर आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

चुनाव ड्यूटी में गया हेडकांस्टेबल रायफल संग लापता

लालकुर्ती थाने से विधानसभा चुनाव ड्यूटी में रायफल लेकर गए हेड कांस्टेबल ज्ञानेंद्र सिंह लापता हो गए हैं। न तो वह पुलिस लाइन पहुंचे और न ही घर। इस मामले में लालकुर्ती पुलिस ने एसएसपी को रिपोर्ट भेजी है। प्रतिसार निरीक्षक ने भी लालकुर्ती पुलिस से संपर्क साधा है। हेड कांस्टेबल का मोबाइल नंबर सर्विलांस पर लिया गया है जो बंद आ रहा है।

हेड कांस्टेबल ज्ञानेंद्र सिंह लालकुर्ती थाने में तैनात हैं। 23 फरवरी को वह बहराइच और महाराजगंज में पुलिस लाइन से चुनाव ड्यूटी के लिए गए थे। छह मार्च को पूरी फोर्स मेरठ आ गई, लेकिन वह वापस नहीं आए। थाने में वापस ना आने पर पुलिसकर्मियों ने ज्ञानेंद्र सिंह से मोबाइल पर संपर्क करने का प्रयास किया जो लगातार बंद जा रहा है।

लालकुर्ती पुलिस ने परिजनों से संपर्क किया तो उन्होंने भी घर न पहुंचने की बात कही। इसके बाद पुलिस में हड़कंप मच गया। बताया गया है कि ज्ञानेंद्र के पास पुलिस की सरकारी रायफल है। जिस कारण पुलिस विभाग के साथ-साथ परिजन भी काफी परेशान हैं। प्रतिसार निरीक्षक मुकेश सिंह रावत ने बताया कि अभी हेड कांस्टेबल के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है। वहीं, इंस्पेक्टर अतर सिंह ने बताया कि हेड कांस्टेबल के रिश्तेदारी में होने की जानकारी मिली है। परिजन वहां के लिए रवाना हो गए है। रायफल सुरक्षित है या नहीं। इसकी जांच की जा रही है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
3
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments