Thursday, April 25, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutमंदिर निर्माण को लेकर बखेड़ा, पथराव

मंदिर निर्माण को लेकर बखेड़ा, पथराव

- Advertisement -
  • जैन समाज के लोग भूमि पर करने पहुंचे थे निर्माण
  • पुलिस की मौजूदगी में हुआ पथराव, दर्जनभर से अधिक घायल

जनवाणी संवाददाता |

सरधना: गुरुवार को सरधना के पांडुशिला रोड स्थित भूमि पर निर्माण को लेकर बवाल हो गया। जैन समाज के लोग मंदिर निर्माण के लिए नींव खुदवाने पहुंचे तो दूसरे पक्ष के लोगों ने विरोध कर दिया। मामला इतना बढ़ा कि पुलिस की मौजूद में जमकर पथराव हुआ। जिसमें दोनों पक्षों के दर्जनभर से अधिक लोग घायल हो गए। साथ ही जेसीबी क्षतिग्रस्त हो गई। सूचना से अधिकारियों में हड़कंप मच गया। कई थानों की फोर्स मौके पर पहुंच गई।

पुलिस ने किसी तरह स्थिति को काबू में किया और घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया। दोनों पक्षों ने एक-दूसरे के खिलाफ कोतवाली में तहरीर दी। वहीं घटना के विरोध में जैन समाज ने आज बाजार बंद करने का ऐलान किया है। मामले को लेकर खुफिया विभाग से लेकर आलाधिकारी अलर्ट हो गए हैं। फिलहाल मामले को लेकर मौके पर तनाव की स्थिति बनी हुई है।

20 2

दरअसल, पांडुशिला रोड पर जैन समाज के द्वारा मंदिर का निर्माण कराया जा रहा है। उसी भूमि के बीच में पालिका का तालाब मौजूद है। वहीं, पास में बसे पाल समाज के कुछ लोग भूमि के एक टुकड़े पर अपना हक जताते हैं। जबकि जैन समाज का कहना है कि सारी जमीन उन्हीं की है। सालों से चल रहे विवाद के चलते भूमि पर मंदिर का निर्माण कार्य अधर में लटका हुआ है। हाल ही में जैन समाज ने अधिकारियों को अभिलेख पेश करते हुए मंदिर का निर्माण कार्य शुरू कराने की बात कही थी। गुरुवार सुबह जैन समाज के लोग भूमि पर नींव खुदवाने पहुंच गए।

जैसे ही जेसीबी मशीन चली, दूसरे पक्ष ने विरोध शुरू कर दिया। मामला इतना बढ़ा कि पथराव हो गया। पुलिस की मौजूदगी में जमकर पथराव हुआ। आरोप है कि श्री विद्योदय तीर्थ क्षेत्र निलय कमेटी के अध्यक्ष व सरधना व्यापार मंडल के अध्यक्ष पंकज जैन समेत कई लोगों को दूसरे पक्ष ने अपने तबेले में खींच लिया। जहां उन्हें पीट-पीटकर अधमरा कर दिया। पंकज जैन ने आरोप लगाया कि उनकी हत्या का प्रयास किया गया। वह किसी तरह बाहर निकले। इसके बाद बात और बिगड़ गई। सैकड़ों की भीड़ मौके पर जमा हो गई।

एसडीएम पीपी राठौर व सीओ संजय जायसवाल अमले के साथ मौके पर पहुंच गए। स्थिति काबू में करने के लिए कई थानों की फोर्स बुलानी पड़ी। पुलिस की मौजूदगी में नींव खुदवाने का काम शुरू किया गया। पथराव में एक पक्ष से पंकज जैन के अलावा दीपांशु, राजीव जैन, हिमांशु जैन, आर्यन जैन, आकाश, अरिहंत जैन आदि लोग घायल हो गए। वहीं, दूसरे पक्ष से सरमा, प्रवेश, मांगे, लता, राजेश आदि लोगों को भी चोट आई।

19 2

पुलिस ने घायलों को सीएचसी में भर्ती कराया। घटना के विरोध में जैन समाज ने शुक्रवार को बाजार बंद करने का ऐलान किया है। मामले को लेकर मौके पर तनाव की स्थिति बनी हुई है। खुफिया विभाग से लेकर आलाधिकारी अलर्ट हो गए हैं। दोनों पक्षों ने एक-दूसरे के खिलाफ कोवताली में तहरीर दी है।

पुलिस-प्रशासन की लापरवाही आई सामने

भूमि को लेकर विवाद लंबे समयसे चल रहा है। जैन समाज के लोग पिछले कई दिन से लगातार एसडीएम समेत सभी अधिकारियों को मामले से अवगत करा रहे थे। अधिकारियों को बता दिया गया था कि समाज निर्माण कार्य शुरू कराने वाला है। इसके बाद भी प्रशासन ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया। बखेड़ा होने के बाद अधिकारी घटनास्थल की ओर दौड़े।

मूकदर्शक बनी रही पुलिस

विवाद होने की सूचना पर थाना पुलिस मौके पर पहुंच गई थी। जिस समय पथराव हुआ, पुलिस पहले से ही वहां मौजूद थी। पुलिस भीड़ को खदेड़ने के बजाय मूकदर्शक होकर वीडियो बनाने में लगी रही। इस दौरान महिला दारोगा अंजू पथराव के बीच फंस गई थी। उन्हें किस तरह वहां से निकाला गया।

जैन समाज बोला-अपनी भूमि पर कर रहे काम

जैन समाज के लोगों का कहना है कि वह अपनी भूमि पर मंदिर का निर्माण कार्य करा रहे हैं। विवादित भूमि या तालाब की भूमि पर कोई छेड़छाड़ नहीं की गई है। पंकज जैन ने आरोप लगाया कि दूसरे पक्ष ने पहले ही समाज की काफी भूमि पर कब्जा कर रखा है। आगे ओर कब्जा न हो, इसके लिए उस ओर दीवार करा रहे हैं।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments