Tuesday, June 18, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsBijnorग्रामीण युवक का पीसीएस में चयन

ग्रामीण युवक का पीसीएस में चयन

- Advertisement -
  • 25वीं रैंक हासिल कर युवक के एसडीएम बनने पर खुशी में झूमा परिवार

जनवाणी संवाददाता

चांदपुर: तालिबपुर निवासी युवक का पीसीएस के जरिए एसडीएम के पद पर चयन होने से परिजनों की खुशी का ठिकाना नहीं है। युवक ने प्रदेश में 25 वीं रैंक हासिल की है। शानदार सफलता पर उसके घर परिचितों व रिश्तेदारों का बधाई के लिए तांता लगा है।

क्षेत्र के ग्राम तालिबपुर निवासी होनहार अमन दओल ने अपने दूसरे प्रयास में पीसीएस जैसी महत्वपूर्ण परीक्षा में सफलता हासिल कर माता पिता ही नही बल्कि क्षेत्र का नाम रोशन किया है। अमन को प्रदेश स्तर पर सामान्य वर्ग में 25 वीं तथा पिछड़ा वर्ग में दूसरी रैंक मिलने पर उसका चयन स्थान एसडीएम के लिए किया गया है।

अमन का एसडीएम पद पर चयन होने का पता लगते ही परिजनों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। परिजनों ने मिठाई बांटकर अपनी खुशी का इजहार किया। तालिबपुर निवासी देवेंद्र कुमार व सुशीला देवी के 19 दिसंबर 93 को पैदा हुई पुत्र संतान का नाम माता पिता ने प्यार के साथ अमन दओल रखा था।

50 9

होनहार अमन ने प्राथमिक शिक्षा चांदपुर मार्ग स्थित ग्राम दरवाड़ा में बने विवेकानंद इंटर कॉलेज में की थी। पांचवी कक्षा पास करने के बाद अमन को उसके फूफा विजयपाल सिंह व बुआ निर्दोष देवी अपने साथ मुरादाबाद ले गए थे। अमन ने अपनी बुआ के घर रहकर ही कक्षा 12 की परीक्षा उत्तीर्ण की ।अमन शुरु से ही होनहार था। योग्यता के बल पर उसका चयन बीटेक में हुआ था।

उसने वर्ष 2012 में लखनऊ के आईआईटी कॉलेज से बीटेक की परीक्षा पास की थी । बीटेक करने के उपरांत अमन पीसीएस की तैयारी के लिए दिल्ली चले गये थे। इस बीच फायर पुलिस में कार्यरत उसके फूफा विजय पाल सिंह का स्थानांतरण गाजियाबाद के लिए हो गया था।

अमन अपने फूफा के पास रहकर परीक्षा की तैयारी में लगा था। उसने पीसीएस की पहली परीक्षा वर्ष 2018 में दी थी। लेकिन भाग्य ने उसका साथ नहीं दिया और वह परीक्षा उत्तीर्ण नहीं कर सका। पहले प्रयास में विफल होने पर हताश होने के स्थान पर वह दोगुनी मेहनत के साथ अगली परीक्षा की तैयारी में लग गया था। अमन ने वर्ष 2019 में हुई पीसीएस की परीक्षा में दूसरी बार प्रतिभाग किया था।

प्रीपरीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद उसने मन में हर हाल में पीसीएस के जरिए एसडीएम का मुकाम पाने की प्रण कर लिया था। इंटरव्यू के कठिन तैयारी करने के बाद गुरुवार की सुबह जब परिणाम आया तो वह गाजियाबाद के पार्क में मॉर्निंग वाक कर रहा था। दोस्तों ने फोन के जरिए जब अमन को उसका पीसीएस में एसडीएम के पद पर चयन हो जाने की जानकारी दी तो उसकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा।

सफलता की खुशी परिजनों के साथ बांटने के लिए वह तुरंत ही पार्क से घर पहुंचा। अमन के गांव में जब उसका एसडीएम पद के लिए चयन होने का पता लगा तो घर ही नहीं बल्कि गांव में खुशी की लहर दौड़ गई। उसके घर शानदार सफलता के लिए बधाई देने वालों का तांता लग गया। परिजनों ने मिठाई बांटकर अपनी खुशी का इजहार किया।

अमन के पिता पूर्व माध्यमिक विद्यालय में मुख्य अध्यापक के पद पर कार्यरत हैं जबकि उनकी माता आंगनवाडी कार्यकत्री के रुप में काम करती हैं। अमन के बड़े भाई व भाभी भी अध्यापक हैं। उनका परिवार शिक्षा के क्षेत्र में काफी आगे हैं । इसी का परिणाम है कि अमन ने परिजनों से सीख लेकर एसडीएम का पद हासिल किया है। जनवाणी संवाददाता से बात करते हुए अमन ने अपने सेवाकाल में गरीब व वंचित वर्ग की समस्याओं को दूर करने का हर संभव प्रयास करने की बात कही। उन्होंने युवा वर्ग जीवन मे सफलता हासिल करने के लिए लक्ष्य निर्धारित कर कड़ी मेहनत करने की सीख दी।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments