Friday, May 31, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutनौकर कर रहे विश्वासघात, 2.25 करोड़ का सोना लेकर हुए फरार

नौकर कर रहे विश्वासघात, 2.25 करोड़ का सोना लेकर हुए फरार

- Advertisement -
  • पुलिस की कार्यशैली से सर्राफ व्यापारियों में आक्रोश
  • एसएसपी से लेकर एडीजी से लगा चुके हैं गुहार

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: सराफा व्यापारी मेरठ को स्वर्ण नगरी गोल्ड सिटी के रूप में दर्जा दिलाने की मांग सरकार से कर रहे हैं, लेकिन सराफा व्यापारी शहर में न के बराबर सुरक्षित है। पुलिस सर्राफ के साथ होने वाली घटनाओं में बिल्कुल गंभीर नही है। शहर सराफा व्यापारियों के साथ मात्र तीन महीनों में आपराधियों ने कई घटनाओं को अंजाम दिया। जिनमें व्यापारियों से कुल तीन किलो चार सौ ग्राम लेकर फरार हो गए।

सवा दो करोड़ रुपये कीमत का सोना लेकर फरार होने की घटना में पुलिस आज भी हाथ पर हाथ रखे बैठी है। सोना बरामदगी की तो बात तो बहुत दूर पुलिस ने आरोपियों को पहले पकड़ा फिर बाद में छोड़ दिया। करोड़ों रुपये सोना लेकर फरार होने की आपराधिक घटनाओं के बाद पुलिस की चुप्पी और कार्रवाई के नाम पर ढीलापन अपने आपमें बड़ा सवाल है।

  • घटना-1

गत 5 मई की शाम को गुरुनानक नगर, टीपी नगर निवासी सर्राफ अर्चित जैन पुत्र अजय जैन ने अपने यहां के नौकर रितिक निवासी नंगलापातू, परतापुर को दिल्ली चांदनी चौक से पक्का सोना लेने भेजा था। रितिक कार से निकला था, लेकिन रात तक वह नहीं लौटा तो सर्राफ अर्चित जैन को चिंता हुई। उन्होंने फोन करके जानकारी की तो उसने कहा कि वह कहीं फंस गया था। इसलिए नहीं आ सका। उसके बाद वह सात मई को पहुंचा।

रितिक ने बताया कि उससे तीन बदमाशों ने बाइपास पर सोना लूट लिया है। घटना की जानकारी पर टीपी नगर पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने रितिक को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने बताया कि उसके तीन साथी विनित, गुड्डू निवासी हस्तिनापुर और जोनी निवासी खरखौदा ने उससे सोना लूट लिया था। सर्राफ का आरोप है कि टीपी नगर पुलिस ने रितिक को अगले दिन छोड़ दिया और जौनी को भी पूछताछ के बाद छोड़ दिया। वहीं, विनित के बारे में पुलिस ने जवाब दिया कि वह पुराने मुकदमे में सरेंडर होकर जेल चला गया है।

09 5

करोड़ों रुपये का सोना उसके पास ही था। सोना बेचने के नाम पर पुलिस ने बताया कि 250 ग्राम सोना बेचना जोनी ने बताया था, लेकिन किसे बेचा यह नहीं बताया। करोड़ों रुपये का सोना लेकर भागने की घटना में टीपी नगर पुलिस ने चुप्पी साध ली है। एसएसपी से लेकर एडीजी से भी बरामदगी की गुहार सर्राफ व्यापारी लगा चुका है, लेकिन अभी तक पुलिस चुप्पी साधे हैं।

  • घटना-2

देहली गेट क्षेत्र वैली बाजार निवासी अग्रवाल दुकान नंबर-86 निवासी सर्राफ शशांक अग्रवाल से उसका बंगाली कारीगर कार्तिक धारा आठ सौ ग्राम सोना गत 16 जुलाई को लेकर फरार हो गया। अभी तक पुलिस ने आरोपी का पता नहीं लगाया है।

  • घटना-3

देहली गेट क्षेत्र तेली मार्किट दुकान नंबर-1 कागजी बाजार निवासी संजय वर्मा ने बंगाली कारीगर को जेवरात बनाने के लिए नजरुल को 15 ग्राम सोना, कार्तिक धारा को 340 ग्राम सोना दिया। तीसरे कारीगर संदीप बोरा को 45 ग्राम सोना दिया, लेकिन तीनों कारीगर गत 16 जुलाई को 400 ग्राम सोना लेकर फरार हो गए। थाना देहली गेट ने अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं की।

  • घटना-4

सर्राफ सुजीत मंडल पुत्र दलाल मंडल निवासी मालवीय नगर चौक शीश महल कोतवाली का जेवर बनाने का काम है। दुकानदारों से आर्डर लेकर ज्वेलरी बनाता है। गत 23 जुलाई को अपने कारीगर सुबोध दास पुत्र प्रमोद दास निवासी बुर्द्धापुर थाना पत्थर प्रतिमा पश्चिम बंगाल को 80 ग्राम सोना ज्वेलरी बनाने के लिए दिया था, लेकिन वह सोना लेकर फरार हो गया।

थाना प्रभारी नई मंडी मुजफ्फरनगर को किया तलब

मेरठ: प्रधान परिवार न्यायाधीश कोर्ट मेरठ ने थाना प्रभारी नई मंडी मुजफ्फरनगर को तीन अक्टूबर को व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होने के आदेश दिए हैं। वादनी के अधिवक्ता प्रियंक देव शर्मा ने बताया कि प्रधान परिवार न्यायाधीश कोर्ट मेरठ में एक इजराय संख्या 124/2022 हसीन बानो बनाम हासिम मलिक चल रहा है।

जिसमें न्यायालय ने कई बार विपक्षी के रिकवरी वारंट जारी किए थे जिसमे थाना नई मंडी विपक्षी पर रिकवरी वारंट की तामील नहीं करा पा रहे थे। जिसमे न्यायालय ने 350 सीआरपीसी के नोटिस पर तीन अक्टूबर को थाना प्रभारी नई मंडी मुजफ्फरनगर को व्यक्तिगत रूप से तलब होने के आदेश जारी किए हैं।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments