Tuesday, May 28, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutभदौड़ा गांव में महिला गैंग ने ठगे 12 लाख के जेवरात

भदौड़ा गांव में महिला गैंग ने ठगे 12 लाख के जेवरात

- Advertisement -
  • दो दिन पहले रोहटा में भी इसी तरह हुई थी ठगी

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: रोहटा कस्बे में लोगों से जेवरात ठगने वाली दो महिलाओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। दोनों महिलाओं ने कई परिवार से ठगी की, लेकिन संयोग से रंगेहाथ पकड़ी गई, लेकिन इसी तरह दो शातिर महिलाओं ने रोहटा थाना क्षेत्र के ग्राम भदौड़ा के आठ परिवार की महिलाओं से करीब 12 लाख कीमत के सोने-चांदी के जेवरात ठग लिए और फरार हो गई। पुलिस ने पूरी घटना में कार्रवाई तो दूर एफआईआर भी दर्ज नहीं की। गांव में ठगी की घटना को लेकर तरह की तरह की चर्चा व्याप्त है।

यूं तो रोहटा थाना क्षेत्र के ग्राम भदौड़ा का नाम सामने आते ही लोगों के पसीने छूटने लगते हैं। इसी भदौड़ा गांव में गैंगवार के चलते दर्जनों लोगों की हत्या हो चुकी हैं। शातिर योगेश भदौड़ा से लेकर सुशील फौजी गैंगस्टर तक इस गांव में रहते हैं, लेकिन जून माह में महिला गैंग की दो शातिर महिलाओं ने गांव में आकर आठ परिवार पर पहले अपना विश्वास जमाया। वह दोनों महिलाएं जून माह में गांव में आई और बर्तन बेचने के नाम पर कई परिवार की महिलाओं पर अपना विश्वास कायम कर लिया।

महिलाओं ने गांव की महिलाओं से कहा कि आपके पास अगर जेवरात है तो उसका नमूना लेकर उसी तरह का जेवर बनवाना है। इस पर गांव की दो तीन महिलाओं ने कानों के कुंडल और अन्य जेवरात महिलाओं को पकड़ा दिए। महिलाएं अगले दिन गांव में आई और जेवरात वापस देकर ग्रामीण महिलाओं को दो हजार रुपये भी दे दिए। महिलाओं ने कहा कि ये दो हजार रुपये आपको इसलिए दिए हैं कि जेवरात एक दिन के लिए हमें दे दिए थे।

महिलाओं ने गांव में विश्वास जमा लिया और इसी तरह दो चार दिन बाद गांव के सुंदर भगतजी, टिंकल कुमार, बिट्टू सैनी, कपिल सैनी, छोटू सैनी, मोनू, नौशाद, समीर मोटा आदि परिवारों की महिलाओं से अलग-अलग घरों में जाकर 12 लाख कीमत के सोने चांदी के जेवरात लेकर फरार हो गई। कई दिन बाद महिलाएं गांव में नहीं आई तो ठगी की घटना का पता चला, लेकिन थाना पुलिस ने आज तक ग्रामीणों की एफआईआर नहीं लिखी।

गांव में घूम रहा गैंगस्टर, पुलिस नहीं डाल रही हाथ

मेरठ: रोहटा थाना क्षेत्र ग्राम भदौड़ा में गैंगस्टर का आरोपी आठ महीने से खुला घूम रहा है, लेकिन पुलिस है कि उस पर हाथ डालने से कतरा रही है। शातिर सुशील फौजी के रिहा होने के बाद गैंगस्टर और अन्य शूटर किसी बड़ी आपराधिक वारदात अंजाम देने के मूड में है। गांव में फौजी की सरगर्मी से ग्रामीण भयभीत बने हैं। भदौड़ा ग्राम निवासी विकास मलिक पर कई मुकदमे हैं। जिनके बाद उस पर गैंगस्टर की कार्रवाई की गई थी।

आठ माह बीतने के बाद भी रोहटा और जानी थाना पुलिस गैंगस्टर की गिरफ्तारी तो दूर उसके गैंग को देखने की हिम्मत नहीं जुटा पा रही है। जबकि पुलिस को पता है कि गैंगस्टर विकास मलिक गांव में खुलेआम घूमता रहता है। उधर, शातिर सुशील फौजी के जेल से रिहा होने के बाद गैंगस्टर विकास मलिक और अन्य अंजान शूटरों की गांव में चहलकदमी से दहशत व्याप्त है। ग्रामीणों का दबी जुबान में कहना कि फौजी गैंग जल्ही ही किसी वारदात को अंजाम दे सकता है। जेल से छूटने बाद क्षेत्र में फिर से गैंगवार की संभावना बढ़ गई है।

युवक से स्कूटी और चेन लूटी

मेरठ: मेडिकल थानांतर्गत जागृति विहार एक्सटेंशन में रहने वाले एक युवक से बदमाशों ने स्कूटी और सोने की चेन लूट ली। पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। मेडिकल थाने में दी गई तहरीर में विपिन पुत्र नरेन्द्र सिंह ने बताया कि आज सुबह जब वो अपनी स्कूटी से घर से निकल कर जा रहा था। तभी आदित्य उर्फ पूजन पुत्र रविश और गौरव अपने चार पांच साथियों के साथ आया और स्कूटी और चेन लूट कर भाग गए। विपिन ने 112 नंबर पर सूचना दी। थोड़ी देर में पुलिस मौके पर आई। विपिन ने थाने में नामजद तहरीर दी है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments