Wednesday, February 21, 2024
HomeUttar Pradesh NewsMeerutबुलडोजर तो चला लेकिन खानापूर्ति का

बुलडोजर तो चला लेकिन खानापूर्ति का

- Advertisement -
  • मेडा ने की कई कॉलोनियों पर ध्वस्तीकरण की कार्रवाई

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: मेरठ विकास प्राधिकरण के इंजीनियरों की टीम ने बुधवार को कई अवैध कॉलोनियों में खानापूर्ति का बुलडोजर चलाया। कागजी दस्तावेज की पूर्ति तो बुलडोजर चलाकर कर दी, लेकिन यहां पर कॉलोनी उसी तरह से विकसित होती रहेगी। अब इंजीनियरों ने नया फंडा अपनाया है। बुलडोजर ले जाते हैं कुछ खड़ंजा प्लाट की दीवार गिराना और साइट आॅफिस पर बुलडोजर चलाना, बाकी खानापूर्ति कर दी जाती है।

सीवर लाइन को नहीं छेड़ा जाता, जो सड़क पक्की बन चुकी है, उसको नहीं छेड़ा जाता। सिर्फ उस सड़क पर बुलडोजर चलाया जाता है, जो अस्थाई टेल लगाई गई होती हैं। क्योंकि टेल का कुछ नहीं बिगड़ता, उखड़ने का बाद फिर से उसे लगा दिया जाता हैं। इसमें सिर्फ मजदूर की मजदूरी का खर्च आता हैं। इसी तरह से मेरठ विकास प्राधिकरण की टीम ने जोन ए-3 में हाजी जिलानी की 100 फुट रोड बाग वाली कॉलोनी फतेहउल्लापुर में करीब 12000 वर्ग मीटर क्षेत्रफल में अवैध कॉलोनी विकसित की जा रही थी,

10 30

जिस पर कुछ आंशिक तरीके से प्राधिकरण इंजीनियरों ने बुलडोजर चला दिया। ऐसा करके फाइल भी बंद हो जाएगी और बिल्डर का काम चलता रहेगा। एक तरह से यहां खानापूर्ति की कार्रवाई के नाम पर फाइल बंद कर दी गई। दूसरा फतेहउल्लापुर में ही मोहम्मद शौकीन की 100 फुटा रोड पर 5000 वर्ग मीटर में अवैध कॉलोनी विकसित की जा रही हैं। यहां भी सड़कों की टाइल्स उखाड़ने के नाम पर खानापूर्ति कर दी गई।

जोन बी-4 के तहत जरनैल सिंह खाटू धाम कॉलोनी सुखधाम के पीछे ग्राम सिंघावली रोहटा रोड पर करीब 28000 वर्ग मीटर में अवैध कॉलोनी विकसित की गई थी, ये बड़ी कॉलोनी हैं। जहां पर प्राधिकरण की टीम ने खड़ंजा, दीवार, साइट आफिस को गिरा दिया। यहां पर मेडा इंजीनियरों की टीम ने बड़ी कार्रवाई की हैं। बुलडोजर चलाने के दौरान अवर अभियंता सोमेंद्र प्रताप और राकेश पंवार जोनल वीके सोनकर भी मौजूद रहे। हालांकि राकेश पवार ने जो ध्वस्तीकरण की कार्रवाई की हैं, वो बड़ी कार्रवाई की गई हैं।

कॉलोनी में बुलडोजर चला, ये दिखाई भी दिया। यहां कॉलोनी को पूरी तरह से नेस्तनाबूद कर दिया। वहां कार्रवाई होती हुई दिखाई दी, लेकिन जोन-ए 3 में कार्रवाई पर उंगली उठ रही है, जिसकी शिकायत डीएम दीपक मीना तक पहुंच गई है। क्योंकि इसमें जेई और बिल्डर के बीच सेटिंग का खेल सामने आ रहा है। यही वजह है कि कार्रवाई के नाम पर या खानापूर्ति सामने आ रही है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments