Sunday, May 26, 2024
- Advertisement -
HomeUttarakhand NewsRoorkeeशिक्षा नगरी रुड़की में महाशिवरात्रि का पर्व धूमधाम से मनाया गया

शिक्षा नगरी रुड़की में महाशिवरात्रि का पर्व धूमधाम से मनाया गया

- Advertisement -
  • विधायक प्रदीप बत्रा और समाजसेविका मनीषा बत्रा ने श्रद्धालुओं को प्रसाद वितरित किया

जनवाणी संवाददाता |

रुड़की: शिक्षा नगरी रुड़की में महाशिवरात्रि का पर्व बड़ी ही धूमधाम के साथ मनाया गया है।विशेषकर सिविल लाइंस स्थित शिव मंदिर और रामनगर स्थित शिव चौक पर श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। श्रद्धालुओं ने जलाभिषेक कर भगवान शिव की अराधना की। शिवालयों में भक्तों का सैलाब उमड़ा हुआ है।

भोलेनाथ की भक्ति में डूबे भक्तों की लंबी कतार जलाभिषेक के लिए मंदिरों के बाहर लगी रही। महादेव को पंचामृत से स्नान कराने के साथ ही बिल्व पत्र, भांग, धतूरा, फल-फूल आदि चढ़ा कर भोलेनाथ प्रसन्न किया जा रहा है।

श्रद्धालु पुण्य का लाभ ले रहे हैं। प्रत्येक वर्ष फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चौदस तिथि को महाशिवरात्रि पर्व मनाया जाता है। इस बार इस तिथि की शुरुआत 18 फरवरी को शाम 05.55 बजे से होगा और अगले दिन 19 फरवरी को सुबह 3.32 बजे समापन होगा।

78 4

तीन अद्भुत संयोग के पड़ने से इस महाशिवरात्रि बेहद खास हो गई है। व्रतियों का विशेष फल प्राप्त होगा। सूर्य और शनि की एक साथ कृपया होगी। पहला शनिवार होने के कारण शनि प्रदोष का योग बन रहा है तो इसी दिन स्वार्थ सिद्धि योग भी पड़ रहा है।

वहीं तीसरा 30 वर्षों बाद सूर्य और शनि यानी पिता-पुत्र एक साथ शनि की कुंभ राशि में गोचर करेंगे। ऐसे में इस महाशिवरात्रि का विशेष महत्व बन रहा है। रुड़की विधायक प्रदीप बत्रा ने प्रसाद वितरित किया और उन्होंने कहा है कि शिवलिंग निराकार शिव का ही प्रतीक है। शिवलिंग पूजा में “बेल पत्र” अर्पण किया जाता है। शिवलिंग को “बेल पत्र” अर्पण करना अर्थात तीन गुण शिव तत्व को समर्पित कर देना।

तमस (वह गुण जिससे जड़ता उत्त्पन होती है), रजस (वह गुण जो गतिविधियों का कारक है), सत्व (वह गुण जो सकारात्मकता, रचनात्मकता और जीवन शान्ति लाता है)। ये तीनों गुण आपके मन और कार्यों को प्रभावित करते हैं। इन तीनों गुणों को दिव्यता को समर्पण करने से शांति और स्वतंत्रता प्राप्त होती है। मौसमी का मनीषा बत्रा ने कहा कि आज ही के दिन शिव और शक्ति का मिलन हुआ।

हम सबके लिए आज का दिन बड़ा ही विशेष है। उन्होंने शिव मंदिर जाकर जलाभिषेक किया और सभी को प्रसाद वितरित किया है। वही ढंडेरा, गणेशपुर , सलेमपुर ,रामपुर , खंजरपुर भंगेडी शेरपुर पुरानी तहसील सभी क्षेत्रों में महाशिवरात्रि पर्व धूमधाम से मनाया गया है। झबरेड़ा ,भगवानपुर ,पिरान कलियार इमली खेड़ा ,धनोरी ,बुग्गावाला, लक्सर ,खानपुर ,लंढोरा नारसन ,इकबालपुर क्षेत्र में आज का त्यौहार विशेष रहा।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments