Saturday, May 25, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutगर्मी ने झुलसाया, 41 डिग्री पहुंचा तापमान

गर्मी ने झुलसाया, 41 डिग्री पहुंचा तापमान

- Advertisement -
  • रिकॉर्ड तोड़ रही गर्मी, बनी मुसीबत का सबब

जनवाणी संवाददाता |

मोदीपुरम: वेस्ट यूपी में अप्रैल माह में ही रिकॉर्ड तोड़ रही गर्मी लोगों के लिए मुसीबत बनती जा रही है। सोमवार को तापमान फिर से रिकॉर्ड स्तर पर 41 डिग्री पर रिकॉर्ड किया गया। आने वाले दो से तीन दिन तक अभी राहत नहीं मिलेगी। गर्मी का असर ऐसे ही बना रहेगा।

सोमवार का दिन भी सबसे गर्म रहा। सुबह से ही आसमान से आग बरसने शुरू हो गई और दोपहर तक आग बरसती रही। जिस कारण से तापमान भी सबसे ज्यादा रिकॉर्ड किया गया। सामान्य से ऊपर चल रहे तापमान में गर्मी को और बढ़ा दिया है। अभी मौसम में कोई राहत नहीं दिख रही है।

12 11

गर्म हवाओं के चलते लोग घरों में कैद हो रहे हैं। आने वाले दिनों में भी गर्मी का असर ऐसा ही बना रहेगा। मौसम कार्यालय पर अधिकतम तापमान 41.0 डिग्री व रात का न्यूनतम तापमान 19.8 डिग्री रिकॉर्ड किया गया। कृषि विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डा. यूपी शाही का कहना है कि अप्रैल माह में रिकॉर्ड तोड़ रही गर्मी का असर आने वाले तीन-चार दिन तक बना रहेगा। सामान्य से ऊपर तापमान चल रहा है।

अभी और आक्रामक होगी गर्मी, नहीं मिलेगी निजात

मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो इस बार गर्मी का असर व्यस्त यूपी में ज्यादा रहेगा समय से पहले गर्मी ने दस्तक दे दी है। जिसका असर धीरे-धीरे बढ़ता जा रहा है। लगातार बढ़ती गर्मी के बीच अभी राहत की उम्मीद नहीं दिख रही है। मौसम वैज्ञानिकों का यह भी दावा है कि 15 अप्रैल के बाद में तापमान में और भी तेजी से बढ़ोतरी होगी और अप्रैल के अंत तक तापमान 44 डिग्री तक भी पहुंच सकता है। जो इस बार अप्रैल में नया रिकॉर्ड बना सकता है।

बारिश के बाद ही मिल सकेगी राहत

जिस तरह से गर्मी का असर बना हुआ है। उससे लग रहा है कि बारिश होने के बाद ही गर्मी से थोड़ी राहत मिल सकती है। पिछले डेढ़ से दो माह में कोई भी ऐसा सिस्टम नहीं बना है। जिससे बारिश हो सके और गर्मी से राहत मिल सके।

बढ़ गया प्रदूषण

शहर में बढ़ते प्रदूषण को रोकने के लिए किए जा रहे दावे तमाम फेल होते दिख रहे हैं। लगातार प्रदूषण का स्तर खराब हो रहा है। सोमवार को मेरठ का वायु प्रदूषण स्तर 314 रिकॉर्ड किया गया, जो बहुत ही ज्यादा था लगातार बढ़ते प्रदूषण के स्तर से मेरठ और आसपास जिलों की हवा खराब हो रही है। अभी इसमें भी गिरावट की संभावना कम है।

गर्मी बचने को क्या करें उपाय, चिकित्सकों की राय

इस बार अप्रैल माह में ही मई-जून की गर्मी का अहसास हो रहा है। दिन के समय चलने वाली लू से जहां लोगों के बीमार होने का खतरा बढ़ गया है। वहीं इस खतरे से खुद को कैसे बचाया जाए यह बताया शहर के डाक्टरों ने।

डा. संजीव गोयल, चाइल्ड स्पेश्लिस्ट का कहना है कि गर्मी का प्रकोप बढ़ने के साथ ही बीमारियों के भी बढ़ने की संभावना बढ़ गई है। इससे बचने के लिए अपने हाथों को बार-बार धाते रहे। ताजा खानें का सेवन करे व शुद्ध पानी ही पिए। गर्मी के मौसम में उल्टी-दस्त, डी-हाइड्रेशन, हीट स्ट्रोेक व दौरे पड़ने की संभावना सबसे अधिक रहती है।

डा. मुकेश परमार, एमएस का कहना है कि गर्मियों में खुद को डी-हाइड्रेशन से बचाना सबसे अहम है। इसका सबसे अच्छा इलाज यह है कि शरीर में पानी की कमी न होनें दे। नींबू पानी पिए लेकिन इस समय नींबू काफी महंगा है इसलिए इलेक्ट्राल पावडर व नमक व चीनी का घोल ले सकते है। ऐसे मौसम में खुद को लू से बचाना चाहिए, गर्मी बढ़ने से ब्लड-प्रैशर भी कम हो जाता है इसको लेकर भी सचेत रहने की जरूरत है। खाने-पीने का विशेष ख्याल रखना चाहिए, गंदगी से दूर रहे तो काफी हद तक बीमार होने से बचा जा सकता है।

डा. राहुल गोयल, एमडी मेडिसन का कहना है इस मौसम में लू लगने से हीट स्ट्रोक होने की सबसे अधिक संभावना रहती है। हीट स्ट्रोक होने पर उल्टियां, सर दर्द, बुखार, कमजोरी, पेट संबंधित बीमारियां का सबसे ज्यादा खतरा होता है। सुबह धूप तेज होने से पहले ही अपने जरूरी काम निपटा लें। जरूरी होने पर ही घर से निकलें, साथ ही बाहर निकलते समय पानी साथ लेकर चले। बाहरी खान-पान से बचें इससे बीमार होने का खतरा कम होता है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments