Saturday, June 15, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutअधर्म पर धर्म की विजय, धू-धूकर जला ‘अहंकार’

अधर्म पर धर्म की विजय, धू-धूकर जला ‘अहंकार’

- Advertisement -
  • भव्य आतिशबाजी से जगमगा उठा आसमान, लगे जय श्रीराम के जयकारे
  • कुंभकरण व मेघनाद के पुतला दहन के दौरान पुलिस-प्रशासन ने संभाली व्यवस्था

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: अधर्म पर धर्म की विजय का प्रतीक दशहरा के महापर्व पर शहर के अलग-अलग हिस्सों में लगभग 16 स्थानों पर रावण, कुंभकरण और मेघनाद के पुतलों का आतिशबाजी के साथ दहन हुआ। जिनमें भैंसाली मैदान, रामलीला मैदान, सूरज कुंड, रजबन बाजार, जेल चुंगी, तोपखाना आदि स्थानों पर रावण, कुंभकरण और मेघनाथ के पुतले धू-धूकर जल उठे। इस दौरान लोगों ने जय श्रीराम के जमकर जयकारे लगाए और पुतला दहन के भव्य दृश्य का भरपूर आनन्द उठाया। उधर अलग-अलग स्थानों पर पुतलों के दहन के दौरान पुलिस बल व्यवस्था संभलने के लिए मौके मौजूद रहा।

सूरजकुंड स्थित बाबा मनोहर नाथ मन्दिर रामलीला कमेटी के तत्वावधान में मंगलवार रात लगभग 10 बजे सूरजकुंड पार्क में रावण, कुंभकरण और मेघनाथ के पुतलों का दहन किया गया। इस दौरान पुतलों के दहन से पूर्व लगभग एक घंटे तक भव्य आतिशबाजी चलती रही। रावण का पुतला 120 फीट, कुंभकरण का पुतला 110 फीट और मेघनाद का पुतला 100 फीट का बनाया गया था। सभी पुतलो का दहन होते ही लोगों ने जय श्रीराम का जयकारा लगाया। इस दौरान भारी संख्या में लोगों ने आतिशबाजी व पुतला दहन का आनंद उठाया।

08 29

वहीं आसपास के क्षेत्र में भव्य मेले का आयोजन हुआ। उधर, रामलीला कमेटी छावनी के तत्वावधान में भैसाली मैदान में भी 130 फीट की ऊंचाई वाला रावण के पुतला, 110 फीट ऊंचाई वाला कुंभकरण का पुतला और 100 फीट ऊंचाई वाला मेघनाद का पुतला रात लगभग 10 बजे धू-धूकर जल उठा। इस दौरान पुतला दहन कार्यक्रम से पूर्व लगभग दो घंटें तक भव्य आतिशबाजी होती रही। शहर के अलावा दूरदराज क्षेत्रों से पुतला दहन देखने के लिए लोगों का भैंसाली मैदान में तांता लगा रहा। इस दौरान दर्शकों ने जय श्रीराम जय हनुमान के जयकारे लगाए।

इसके अलावा सनातन धर्म रक्षिणी सभा शहर के तत्वधान मे रामलीला मैदान में रात लगभग 09:30 पर रावण के 120 फीट ऊंचे पुतले का दहन किया गया। पुतला दहन के बाद लगभग दो घंटे तक भव्य आतिशबाजी होती रही। आसमान में रंग-बिरंगे पटाखों की रोशनी से आसमान जगमगा उठा। यहां 10 हजार पटाखों वाली लड़ी की आतिशबाजी आकर्षण का केन्द्र बनी रही। लोगों ने मेले का भी जमकर आनन्द उठाया। इसके अलावा रजबन बाजार में रामलीला कमेटी के तत्वावधान में रावण, कुंभकरण और मेघनाद के पुतलों को आग के हवाले कर जय श्रीराम के जयकारे लगाए गए।

10 29

इस दौरान आसपास के क्षेत्र में लगे मेले का लोगों ने खूब लुफ्त उठाया। उधर तोपखाना जेल चुंगी आदि स्थानों पर रावण, कुंभकरण और मेघनाद के पुतलों का बड़ी ही धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ दहन किया गया। शहर में पुतला दहन देखने के लिए शहर के अलावा देहात क्षेत्रों से भी काफी संख्या में लोग आए हुए थे। पुतला दहन के दौरान आयोजकों और अन्य लोगों ने जमकर आतिशबाजी की। इस दौरान व्यवस्था संभालने के लिए पुलिस-प्रशासन मुस्तैदी से डटा रहा। उधर, मंगलवार को मवाना रोड स्थित कसेरूखेड़ा में श्रीरामलीला दशहरा कमेटी द्वारा भव्य दशहरा मेले का आयोजन किया गया।

अध्यक्ष विनोद सोनकर ने बताया कि दशहरा मेले के मुख्य अतिथि राज्यमंत्री दिनेश खटीक व मेले का उद्घाटन शिवदासी सोनू कैलाशी ने किया। विशिष्ट अतिथि दिनेश खटीक मंत्री उत्तर प्रदेश एवं कैंट विधायक अमित अग्रवाल ने दीप प्रज्ज्वलित किया। विशिष्ट अतिथि महापौर हरिकांत अहलूवालिया, विधायक अतुल प्रधान, अवनीश काजला रहे। विशेष अतिथि सुरेंद्र शर्मा, मनोज चौधरी ने राम दरबार की आरती कर भगवान राम का आशीर्वाद लिया। मेले में आए अतिथिगण नीरज मित्तल ने भी भगवान राम व माता सीता का आशीर्वाद लिया।

09 29

मेले में भारतीय क्रिकेटर भुवनेश्वर कुमार की माता इंद्रेश मावी ने कलाकारों को उपहार देकर उनका हौसला बढ़ाया और मेले के अध्यक्ष विनोद सोनकर व कमेटी के सभी सदस्यों को मेले के सफल आयोजन के लिए धन्यवाद दिया। मेले का संचालन अध्यक्ष विनोद सोनकर ने किया। मेला देखने आए दर्शकों में रावण की घूमती गर्दन, लाल अंगारों के समान दहकती आंखें और पैरों में जयपुरी जूतियां आकर्षण का केंद्र रही।

डांस ग्रुप की रंगारंग प्रस्तुति ने मेले में चार चांद लगा दिए। इस मौके पर मेला अध्यक्ष विनोद सोनकर, आलोक माहेश्वरी, हरीश बनौधा, आनंद कोरी, गोल्डी, मनीष गुप्ता, जय प्रकाश, कन्हैया लाल, पुष्पेंद्र कुमार, जियालाल, रुचिर मित्तल, लकी पाजी, मनोज कुमार, नंदकिशोर मीणा, मनीष कुमार, सत्य प्रकाश, विनय वत्स, अरुण कुमार, जयप्रकाश, सविता मीणा आदि मौजूद रहे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments